कर्क राशि में मंगल गोचर: जानिए सभी 12 राशियों पर कैसा होगा प्रभाव

By: Future Point | 27-May-2021
Views : 4026
कर्क राशि में मंगल गोचर: जानिए सभी 12 राशियों पर कैसा होगा प्रभाव

Mars Gochar in Cancer 2021: नवग्रहों में मंगल को सेनापति की उपाधि प्राप्त है, इन्हें भूमिसूत भी कहा जाता है। कुंडली में मंगल अमंगल कर्ता भी बन जाते हैं। मंगल से प्रभावित व्यक्ति पराक्रमी और दृढ़ निश्‍चयी होते हैं ये तर्कसंगत और अपनी बात मनवाने वाले होते हैं। हर चीज़ को सकारात्‍म‍क तरीके से सुलझाते हैं। ज्योतिष शास्त्र में मंगल ग्रह को बेहद क्रूर ग्रह माना गया है। मंगल ग्रह को अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व प्राप्त है, इसलिए इसे अंगारे जैसा रक्त वर्ण भौम यानि भूमि पुत्र का दर्जा भी दिया गया है। लेकिन ये केवल अशुभ हो, ये आवश्यक नहीं। हर कुंडली के लिए मंगल अच्छा और बुरा दोनों तरह का फल देने में सक्षम है।

मंगल शारीरिक ऊर्जा, आत्मविश्वास, अहंकार, क्रोध, वीरता और साहस जैसे गुणों का प्रतिनिधित्व भी प्राप्त है। इसी कारण जिस भी जातक की कुंडली में मंगल कमज़ोर होता है तो ये देखा गया है कि इसके दुष्प्रभाव से व्यक्ति को रक्त संबंधी समस्याएं, फोड़े, फुंसी, दुर्घटनाएँ आदि से जुड़ी कोई परेशानी रहती है और वह जातक आमतौर से थोड़ा डरपोक प्रवृत्ति का होता है। आइये जानें जातक के मंगल कमज़ोर या दुर्बल होने के पीछे क्या कारण होते हैं

Click Here to read in English

रोग मुक्ति एवं ग्रहों की युति से संबन्धित तमाम समस्याओं के निवारण हेतु फ्यूचर पॉइंट के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करें।

गोचर का समय-

मंगल के इस गोचर के बारे में बात करें तो मंगल ग्रह 2 जून 2021 को सुबह 6 बजकर 52 मिनट से 20 जुलाई, 2021 शाम 5 बजकर 54 मिनट तक कर्क राशि में गोचर करेगा, और इसके बाद यह सिंह राशि में गोचर कर जाएगा।

मेष राशि (Aries)

मेष मंगल का गोचर आपकी राशि से चतुर्थ भाव में हो रहा है। इस भाव से हम माता, गृह निर्माण, वाहन सुख आदि के बारे में विचार करते हैं।  मंगल के इस गोचर के आपको मिलेजुले परिणाम मिलेंगे। अपने माता-पिता का इस दौरान आपको विशेष ख्याल रखने की जरूरत है उनकी सेहत में गिरावट आ सकती है। वैवाहिक जीवन में आपको चुनौतियों का सामना भी करना पड़ सकता है। आपका जीवनसाथी इस दौरान किसी बात को लेकर आपसे नाराज़ हो सकता है। विशेष रूप से मानसिक चिंताएं आपको इस दौरान हो सकती हैं। कार्यस्थल पर भी आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

वृषभ राशि (Taurus)

वृषभ राशि से मंगल का परिवर्तन आपके तीसरे भाव में हो रहा है जो कि पराक्रम का स्थान माना जाता है। मंगल के परिवर्तन से   इस समय आप कार्यक्षेत्र में काफी दबाव महसूस कर सकते हैं। आप जो सोचेंगे उसे करने की पूरी कोशिश करेंगे। हालांकि आपको सलाह दी जाती है कि किसी भी चीज की अति न करें इससे आपको नुक्सान हो सकता है। इस दौरान आपके छोटे भाई-बहनों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं, इसलिए उनकी सेहत का ख्याल रखें। इस दौरान आप अपने विरोधियों पर हावी रहेंगे। हालांकि आपको बेवजह के विवादों में इस समय नहीं पड़ना चाहिए।

बृहत कुंडली रिपोर्ट से जानें कब खुलेगी आपकी किस्मत और कब आएंगी जीवन में खुशियां

मिथुन राशि (Gemini)

मिथुन राशि से मंगल का परिवर्तन द्वीतीय भाव में हो रहा है। यह भाव धन और वाणी का कारक माना जाता है। द्वितीय भाव में मंगल के गोचर के चलते आपकी वाणी में कर्कशता आ सकती है। अगर आप शादीशुदा हैं तो आपका जीवनसाथी आपकी बातों से इस दौरान आहत हो सकता है। पारिवारिक जीवन में भी इस दौरान आप आक्रामक हो सकते हैं और आपका व्यवहार परिवार के सदस्यों को भी ठेस पहुंचा सकता है। इस समय किसी को कर्ज़ न दें। दरअसल इस समय दिया गया पैसा फंसने की संभावनाएं अधिक हैं। सेहत पर इस वक्त ध्यान देने की जरूरत है, आपका गलत व्यवहार आपको मानसिक तनाव दे सकता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए आपको एकांत में समय बिताने की जरूरत है और खुद का आकलन करने की आवश्यकता है।

कर्क राशि (Cancer)

कर्क राशि में ही मंगल का परिवर्तन हो रहा है। इस भाव में मंगल के गोचर से आपकी सेहत में गिरावट आ सकती है। इस गोचर के चलते आपको छोटी-छोटी बातों से भी ठेस पहुँच सकती है और आप बात-बात पर भावुक हो सकते हैं। हालांकि इस दौरान आपके क्रोध और अहंकार में भी वृद्धि देखी जा सकती है। जीवनसाथी के साथ बात करते समय शब्दों का सोच-समझकर इस्तेमाल करें आपकी कोई बात झगड़े का कारण बन सकती है। नीचस्थ के मंगल के कारण आप कुसंगति का शिकार भी हो सकते हैं। जिससे आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल हो सकती है। दुर्व्यसनों व दुर्जनों से दूर ही रहें तो बेहतर होगा। अपने जीवनसाथी की बातों को अनसुना न करें उनकी सलाह आपके लिये हितकर साबित हो सकती है।

Buy the Ultimate Online Astrology Software LEOSTAR-I: Just Rs. 1,000/-

सिंह राशि (Leo)

सिंह राशि से मंगल का परिवर्तन 12वें भाव में हो रहा है। जो कि आपका व्यय का घर है। 12वां मंगल क्रोध की प्रवृति को भी बढ़ाता है। इस समय आप स्वयं को मानसिक रूप से चिंतित महसूस कर सकते हैं। इस समय छोटे-छोटे रास्तों से धन कमाने के बारे में न सोचें। विशेषकर शेयर बाज़ार से दूर ही रहें। वहीं इस राशि के जो लोग पहले से ही विदेशों में रह रहे हैं उन्हें थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। कोर्ट-कचहरी से जुड़े मामलों में इस दौरान आपको सफलता मिलेगी। आर्थिक पक्ष थोड़ा कमजोर रह सकता है इस समय आपके ख़र्चों में वृद्धि हो सकती है जिसकी वजह से आपको मानसिक परेशानी का भी सामना करना पड़ सकता है। वैवाहिक जीवन में भी संभलकर चलने की आवश्यकता है

कन्या राशि (Virgo)

कन्या राशि से एकादश भाव में मंगल का गोचर होने जा रहा है। लेकिन इस मंगल अपनी नीच राशि कर्क में होंगे जिस कारण आप भी इसके नकारात्मक प्रभाव की चपेट में आ सकते हैं। इस समय आपको अपनी आमदनी अठन्नी तो खर्चा रूपैया नज़र आ सकता है। अपनी आर्थिक स्थिति को देखते हुए भविष्य के बारे में विचार करने का आपके लिये यह उपयुक्त समय है। यदि आपने अपने काम में अपने स्थान में किसी भी तरह के बदलाव का विचार बना रखा है तो यह समय आपके लिये सही नहीं है आपको इसके लिये थोड़ा इंतजार और करना चाहिये। वैवाहिक जीवन में थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आपके प्रति जीवनसाथी के प्रेम में कमी आ गई है। प्रेम संबंधों में पड़े इस राशि के जातकों को अपने संगी के प्रति ईमानदार होने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र मानव जीवन के लिए अति महत्पूर्ण

तुला राशि (Libra)

मंगल ग्रह का गोचर आपकी राशि से दशम भाव में हो रहा है। दशम भाव को कर्म भाव भी कहा जाता है। पारिवारिक मोर्चे पर आपको इस दौरान संभलकर चलने की जरूरत है। इस गोचर के दौरान घर में किसी बात को लेकर वाद-विवाद की स्थिति बन सकती है। मंगल के प्रभाव से इस दौरान आपका स्वभाव भी उग्र रहेगा। अपनी वाणी पर संयम रखने की कोशिश करें। कार्यक्षेत्र में नौकरी या व्यवसाय में हानि होने के संकेत भी हैं। स्वास्थ्य को लेकर इस दौरान गंभीर होने की जरूरत है, ऐसे में जितना हो सके घर से बाहर भोजन करने से बचें। प्रेम में पड़े इस राशि के जातकों के जीवन में अड़चनें आ सकती हैं।

वृश्चिक राशि (Scorpio)

मंगल का गोचर आपकी राशि से नवम भाव में हो रहा है। इस भाव को धर्म भाव भी कहा कहा जाता है। पिछले कुछ समय से अष्टम मंगल के कारण आप जिन चिंताओं या स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से झूझ रहे थे, इस समय उनसे आपको राहत मिल सकती है। हालांकि अष्टम मंगल के समय किये गये कार्यों का फल आपको धीमा ही मिलने के आसार हैं क्योंकि भाग्य घर में मंगल का प्रभाव आपके भाग्य को बाधित कर सकता है। यह समय बिल्कुल भी भाग्य के भरोसे बैठने का नहीं आपको स्वयं की मेहनत पर ही भरोसा रखने की आवश्यकता है।

शिक्षा और करियर क्षेत्र में आ रही हैं परेशानियां तो इस्तेमाल करें करियर रिपोर्ट 

धनु राशि (Sagittarius)

धनु राशि से मंगल का परिवर्तन अष्टम घर में हो रहा है। इस भाव में मंगल के गोचर के चलते इस राशि के जातकों को जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान आपको ऐसा महसूस हो सकता है कि आपकी बातों का लोग गलत अर्थ निकाल रहे हैं। ऐसी स्थिति आपको खिन्न करेगी लेकिन फिर भी आप खुद को संभाल लेंगे। इस समय आपकी सेहत भी बिगड़ सकती है इसलिए अपने स्वास्थ्य का इस वक्त ध्यान दें। वैवाहिक जीवन में तकरार की स्थिति बन सकती है। अपने पिता के स्वास्थ्य का भी इस दौरान आपको ख्याल रखना होगा, उन्हें कोई छोटी-मोटी परेशानी भी हो तो डॉक्टर के पास ले जाएं। अगर आप वाहन चलाते हैं तो इस दौरान नियमों का उल्लंघन न करें।

मकर राशि (Capricorn)

मकर राशि से मंगल का परिवर्तन सप्तम घर में हो रहा है जो कि आपके दांपत्य का घर है। इस भाव से हम जीवन में होने वाली साझेदारियों के बारे में विचार करते हैं। मंगल के गोचर से आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान आपको अपने क्रोध पर भी नियंत्रण रखने की जरूरत है। जीवनसाथी के साथ तकरार न हो इसलिए जितना हो सके ठंडे दिमाग से उनके साथ बात करें। यह समय कार्यक्षेत्र में भी बहुत अच्छा नहीं रहेगा आपको कड़ी मेहनत के बाद ही अच्छे परिणाम मिलेंगे। छात्रों को इस दौरान यार दोस्तों से थोड़ा दूर रहना चाहिए नहीं तो आपकी पढ़ाई पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: वैदिक ज्योतिष के अनुसार जानिए, क्या है आपकी राशि का भाग्यशाली रत्न ?

कुंभ राशि (Aquarius)

कुंभ राशि से मंगल का परिवर्तन छठे भाव में हो रहा है। मंगल आपके रोग व शत्रु घर में विचरण करेंगें। इस दौरान किसी अन्य के मामले में टांग अड़ाने से आपको बचना चाहिए क्योंकि ऐसा करके आप अपना ही नुकसान कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र में आपका प्रदर्शन इस समय सामान्य रहेगा हालांकि अपने विरोधियों पर इस दौरान आप हावी रहेंगे। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा लेकिन वैवाहिक जीवन में थोड़ी बहुत परेशानियों का सामना आपको करना पड़ सकता है। इस अवधि में आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। ख़र्चों में वृद्धि होने के कारण चिंतित हो सकते हैं।

मीन राशि (Pisces)

मीन राशि से मंगल का परिवर्तन पंचम भाव में हो रहा है। इस भाव को संतान भाव भी कहा जाता है। इस समय यदि किसी महत्वपूर्ण प्रवेश परीक्षा में भाग ले रहे हैं तो परीक्षा थोड़ा सावधानी पूर्वक करें, हड़बड़ी न करें। इस भाव में मंगल के गोचर के चलते आपके बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं इसलिए उनका ख्याल रखें। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को कार्यक्षेत्र में लाभ मिलेगा, इस अवधि में आपकी आमदनी में वृद्धि हो सकती है। छात्रों के लिए यह समय थोड़ा कठिन होगा, पढ़ाई से इस दौरान आपका ध्यान बार-बार भटकेगा।


Previous
Know the Effects of Transiting Venus in Gemini Upon You

Next
वक्री बुध का वृषभ राशि में गोचर! जानिए क्या असर होगा आपकी राशि पर