Astrology Tips: सोये भाग्य को जगाने वाले उपाय | Future Point

Astrology Tips: सोये भाग्य को जगाने वाले उपाय

By: Acharya Rekha Kalpdev | 10-Jan-2024
Views : 1929Astrology Tips: सोये भाग्य को जगाने वाले उपाय

भाग्य व्यक्ति को राजा और भाग्य ही व्यक्ति को रंक बना सकता है। भाग्य अच्छा हो तो व्यक्ति को सफल होने के लिए अधिक संघर्ष, मेहनत और कोशिश नहीं करनी पड़ती है। और यदि भाग्य ही अच्छा न हो तो व्यक्ति को औसत स्तर कि सफलता पाने के लिए दिन रात कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। इसलिए सब भाग्यशाली बनना चाहते हैं। अपने सोये भाग्य को जगाना चाहते है। जीवन में घटित होने वाली कौन सी घटनाओं से जानकारी मिलती है कि भाग्य जागने लगा है। कुंडली में जो ग्रह शुभ फल देने वाला हो, उस ग्रह कि शुभता को बढ़ाया जाता है और जिस ग्रह के कारण अशुभ फल मिलने कि संभावना हो उस ग्रह कि वस्तुओं का दान कर, ग्रह कि अशुभता को कम किया जाता है। यह सत्य है कि उपायों से भाग्य का लिखा बदला तो नहीं जा सकता, परन्तु दुखों कि बारिश में उपाय छाते का कार्य करते हैं।

जन्म के समय ग्रहों कि स्थिति से जातक की जीवनयात्रा तय होती है। इस जीवन यात्रा में उपायों से कुछ बदलाव अवश्य किया जा सकता है। ज्योतिष के उपायों से जीवन संघर्ष को कुछ कम किया जा सकता है। इसे इस प्रकार समझा जा सकता है की जहाँ बहुत अधिक नुक्सान होने वाला था, उपायों से उस नुकसान की मात्रा को कुछ कम किया जा सकता है।

आपकी राशि के लिए कैसा रहेगा आने वाला साल? विद्वान ज्योतिषियों से जानें इसका जवाब

भाग्य को जगाने के लिए यह उपाय करें

सनातन धर्म को गाय को सबसे शुभ पशु माना गया है। गाय को माता का स्थान दिया गया है। गाय के दर्शन और पूजन से 33 कोटि देवताओं के दर्शन करने के फल प्राप्त होते हैं। इसलिए सनातन धर्म में गाय की सेवा को अतिशुभ फल देने वाला कहा गया है। प्रत्येक दिन गाय को अपने हाथ से हथेली पर गुड़ रखकर खिलाने से नवग्रह शांति होती है। ग्रहों से मिलने वाले फल शुभ रूप में प्राप्त होते हैं। ऐसा माना जाता है की गाय की जीभ हाथ की हथेलियों पर लगने से सोई हुई किस्मत जाग जाती है।

सोये हुए भाग्य को जगाने के लिए क्या करें

गेंहूं, चना और बाजरा तीनों को पिसवा लें, इसमें पांच लड्डू तोड़कर मिला लें, और एक मुट्ठी तिल मिला कर रख लें। इन सभी चीजों को मिलाकर रख लें, और प्रतिदिन इसमें से एक मुट्ठी चीटियों को और एक मुट्ठी पक्षियों को डालें।
इस प्रकार यह उपाय करने से आर्थिक स्थिति बेहतर होती है। इसके साथ ही इस उपाय से पुराने कर्ज से भी मुक्ति मिलती है। बिजनेस करने वाले व्यक्तियों को यह उपाय अवश्य करना चाहिए। इससे व्यापार में लाभ अच्छे मिलने शुरू होते है। भाग्य को अपने पक्ष में करने का यह सरल और अचूक उपाय है।

धन की कमी को दूर करने के उपाय

ऐसा माना जाता है की जो भाग्य में है, वह दशा आने पर मिल ही जाता है, और जो भाग्य में नहीं है, वह भगवान् शिव के दर्शन पूजन से मिल सकता है। भगवान् शिव शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवता है। भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सोमवार के दिन स्नानादि से निवृत होकर, अपने निकट के मंदिर में जाकर भगवान शिव का धूप, दीप और फूल से पूजन करें। इसके बाद शिवलिंग पर पानी और कच्चे दूध को मिलकर अभिषेक करें।

इस उपाय को लगातार करने पर आप देखेंगे की आपके रुके हुए काम बनने लगे है, और भाग्य साथ देने लगा है। गरीबी और धन की कमी को दूर करने का यह उत्तम उपाय है।

दान करने से पुण्य बढ़ते है - पुण्यों से भाग्य बढ़ता है

बड़े लोग कहते है की साथ कुछ भी नहीं जाता है, सिर्फ हमारे पुण्य हमारे साथ जाते हैं। दान-धर्म के कार्य करने से पुण्य अर्जित होते हैं। पुण्य बढ़ने से भाग्य अपने आप अच्छा हो जाता है। प्रत्येक मनुष्य को अपने साथ साथ अपने आसपास के जीव जंतुओं का भी ध्यान रखना चाहिए। कुत्ता, कौआ, गाय, चीटियों आदि को खाने की वस्तुओं को दान करने से जातक के पुण्य बढ़ते है।

Also Read: प्रमोशन चाहिए, साल 2024 में करें ये उपाय - जानें ज्योतिष विद्या से

भाग्य को अपने पक्ष में करने का उपाय

  • अमावस्या तिथि को व्रत कर, पितृओं को भोग अर्पित करने से पितृ दोष से मुक्ति मिलती है। इससे पूर्वज प्रसन्न रहते है और पितृ कष्ट की वजह से नहीं बनते हैं। इसी तरह से पूर्णिमा तिथि का व्रत कर, पीपल के पेड़ में जल देने से जीवन में शुभता आती है। भाग्य साथ देता है।
  • रविवार को छोड़कर शेष दिन तुलसी जी के पौधे की सेवा करने, जल दे, और सांयकाल में दीपक जलाकर रखें।
  • गूलर के पेड़ की जड़ का कुछ भाग लेकर एक पीले रंग के कपड़ें में बाँध कर बाजू में बांधें। इससे भाग्योदय होना शुरू होता है।
  • तांबें के छेद वाले सिक्के को एक धागे में बांधकर चौखड़ से बाँध दें, इससे नकारात्मक ऊर्जा चौखट से अंदर प्रवेश नहीं कर पाती हैं।
  • बृहस्पतिवार के दिन किसी ब्राह्मण को पीली वस्तुओं का दान करें, पीली दाल, पीला वस्त्र।