जानिए वास्तु के अनुसार पिरामिड क्या लाभ देता है किसी स्थान के लिए । | Future Point

जानिए वास्तु के अनुसार पिरामिड क्या लाभ देता है किसी स्थान के लिए ।

By: Future Point | 18-Jul-2019
Views : 7545
जानिए वास्तु के अनुसार पिरामिड क्या लाभ देता है किसी स्थान के लिए ।

वास्तु शास्त्र में पिरामिड को ऊर्जा संतुलित करने वाला एक स्त्रोत माना जाता है यही कारण है कि नकारात्मक ऊर्जा प्रवाह को दूर करने से हर प्रकार के वास्तु दोषों को बिना तोड़-फोड़ खत्म करने तक में पिरामिड का प्रयोग किया जाता है, हम यहां आपको पिरामिड से जुड़े कुछ ऐसे वास्तु उपाय बताने जा रहे हैं वास्तु पिरामिड से होने वाले लाभों को जो न सिर्फ आपके घर को बुरी नजरों से बचायेंगे बल्कि आपकी बुरी आदतों को भी दूर करेंगे।

वास्तु शास्त्र के अनुसार पिरामिड का किस प्रकार उपयोग करना लाभप्रद होता है -

  • वास्तु शास्त्र में पिरामिड के आकार का विशेष महत्व होता है, वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के किसी एक हिस्से की छत को पिरामिड का आकार देना चाहिए और इसके नीचे बैठने से स्मरण शक्ति बढ़ती है तथा और भी कई मानसिक समस्याएं पिरामिड के नीचे बैठने से दूर होती है।
  • यदि घर को पिरामिड की अद्भुत शक्तियों का लाभ दिलवाना हो तो घर के मध्य भाग को अथवा किसी लिविंग रूम को ऊपर से पिरामिड की आकृति का बनवाना चाहिए।
  • यदि घर के किसी भाग में पिरामिड का निर्माण करवाना हो तो उसका एक त्रिभुज उत्तर दिशा की ओर रखें, शेष त्रिभुज स्वत: ही दिशाओं के अनुरूप हो जाएंगे।
  • मस्तिष्क की सक्रियता के लिए पिरामिड के नीचे बैठना लाभप्रद रहता है और इससे मानसिक थकावट दूर होगी व अनिद्रा, सिरदर्द, पीठदर्द आदि में लाभ मिलेता है।
  • लंबी बीमारी व शल्य क्रिया के बाद पिरामिड के नीचे बैठने से जल्दी आराम मिलता है।
  • पिरामिड के नीचे रखी दवाइयां कई दिनों तक खराब नहीं होती है और साथ ही उनका असर भी बढ़ जाता है।
  • घर में पिरामिड का चित्र कभी नहीं लगाना चाहिए क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जा देता है।
  • यदि आपका ईशान ऊंचा हो और नैऋत्य नीचा हो तो नैऋत्य में छत पर पिरामिड की आकृतिनुमा निर्माण करते हुए नैऋत्य को ईशान से ऊंचा किया जाना चाहिए।

पिरामिड से मिलने वाले लाभ –

  • पिरामिड न सिर्फ वास्तुदोषों को दूर करता है बल्कि यह कई सकारात्मक ऊर्जाओं का स्त्रोत भी है, यदि आप अपने घर पिरामिड लाते हैं तो समझ लीजिये कई समस्याओं का समाधान ले आए हैं अतः इसे घर में रखें या ऑफिस में रखें, यह कई विपत्तियों को आपसे दूर रखता है।
  • पिरामिड कई बुरी आदतों को छुड़ाने में प्रभावी होते हैं यदि आपमें कोई बुरी आदत है तो अपने कमरे के उस कोने में पिरामिड रखें जहां आप सबसे ज्यादा वक्त गुजारते हैं, परन्तु इस बात का ध्यान रखें कि इसे नियमित रूप से साफ करें ताकि इस पर धूल-गंदगी ना जमें क्योंकि गंदगी जमा होने के कारण इससे निकलने वाली सकारात्मक ऊर्जा बाधित होती है और इसका प्रभाव कम हो जाता है।
  • यदि परिवार के सदस्य बार-बार बीमार पड़ रहे हैं तो समझ लीजिये कि आपके घर में कोई नकारात्मक ऊर्जा है और ऐसी स्थिति में पिरामिड सकारात्मक ऊर्जा का एक स्रोत है, इसलिये ऐसी परिस्थिति में घर में पिरामिड स्थापित करना चाहिए, यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाहित कर आपके घर में एक संतुलित और सकारात्मक माहौल बनाएगा जो परिवार के हर सदस्य को मानसिक और शारीरिक रूप से भी स्वस्थ रखेगा।
  • यदि बच्चों का पढ़ाई में ध्यान ना लगता हो तो उनके कमरे में पिरामिड रखें, क्योंकि ध्यान केंद्रित ना होना कई बार वास्तु दोषों के कारण भी होता है परन्तु हर वास्तु दोष को आप समझ नहीं पाते और उसका उपाय ना करना ऐसी परेशानियां खड़ी करती हैं, इसलिए पिरामिड से निकलने वाली शक्तिशाली किरणें इन दोषों को दूर कर बच्चों को बेकार और ध्यान भटकाने वाली सोच से दूर रखती है।
  • पिरामिड आपके घर की लगभग हर समस्या दूर कर सकता है, घर में जहां जेनरेटर, वॉशिंग मशीन, फ्रिज जैसे भारी इलेक्ट्रॉनिक्स सामान या मशीनें रखी हों, ऐसे स्थानों पर भारी मात्रा में इलेक्ट्रिकल ऊर्जा उत्पन्न होती है जो मानसिक अशांति और कई प्रकार के वास्तु दोष उत्पन्न करती है, ऐसे में पिरामिड इन ऊर्जाओं को संतुलित रखने में मदद करता है।
  • ऑफिस या फैक्ट्री के रिशेप्सन पर वास्तु-उपाय के रूप में पिरामिड रखा जाये तो इसका सकारात्मक प्रभाव वहां काम करने वाले हर कर्मचारी और वहां होने वाले हर कार्य पर पड़ता है और इससे आपको कई तरह के व्यवसायिक लाभ भी मिल सकते हैं।
  • ऑफिस के मध्य में किसी खास स्थान पर रखा पिरामिड वहां काम करने वाले कर्मचारियों के बीच सहयोग की भावना लाता है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार पिरामिड को घर के अंदर रखना जितना लाभदायक है, उतना ही लाभप्रद इसे गार्डन एरिया में रखना भी है क्योंकि यह पौधों को बढ़ने में मदद करता है, और यदि पिरामिड को आप किसी नवजात पौधे के पास रखें तो और भी बेहतर होता है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार आप बालकनी में भी पिरामिड को रख सकते हैं ताकि यह बाहर की गलियों से आने वाली नकारात्मक ऊर्जा को खुद में समाहित कर ले और इसके अलावा आप इसे दरवाजे पर भी रख सकते हैं लेकिन यह किसी को दिखाई नहीं देना चाहिए।
  • हर रोज आपके यहां जितने लोग आते हैं उन सबकी भावनाएं और ऊर्जाएं अलग-अलग होती है इसलिए पिरामिड को दरवाजे पर रखने से वे ऊर्जाएं दरवाजे तक ही रह जाती हैं और अंदर नहीं आ पाती हैं।

Previous
Naag Panchami 2019

Next
जानिए क्या हैं रक्षा सूत्र बांधने के फायदे और किस राशि के जातक को कौन सा धागा बांधना चाहिए।