याज्ञवल्क्य जयंती - 11 मार्च 2019, सोमवार

By: Future Point | 06-Mar-2019
Views : 8395
याज्ञवल्क्य जयंती - 11 मार्च 2019, सोमवार

ऋषि याज्ञवल्क्य प्राचीन काल के महान संतों में से एक रहे हैं। वो एक विद्वान व्यक्ति थे और अपने समय के प्रसिद्ध कथाकार रहें है। योगी और ज्ञानियों में इनका नाम सर्वोपरी आता है। इन्होंने कई मंत्र लिखे और अपने समय में बहुत ज्ञान प्राप्त किया। उनके जन्म दिन को याज्ञवल्क्य जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस वर्ष, यज्ञवल्क्य जयंती 11 मार्च 2019 को मनाई जाएगी। कुछ इतिहासकारों के अनुसार, ऋषि याज्ञवल्क्य का जन्म 3230 ईसा पूर्व में हुआ था।

कुछ हिंदू समुदाय याज्ञवल्क्य जयंती कार्तिक (अक्टूबर / नवंबर) के महीने में मनाते हैं जबकि उत्तर भारत में यह फाल्गुन के महीने में मनाया जाता है। याज्ञवल्क्य जयंती तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल और आंध्र प्रदेश में ब्राह्मण समुदायों द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार में भी मनाया जाता है। याज्ञवल्क्य को भगवान ब्रह्मा का एक अवतार माना जाता है। उसी कारण से उन्हें ब्रह्मऋषि के रूप में भी जाना जाता है। श्रीमद भागवत के अनुसार उनका जन्म देवराज के पुत्र के रूप में हुआ था। भगवान सूर्य की इन्हें विशेष कॄपा प्राप्त थी और इन्होंने सूर्य देव से ही ज्ञान प्राप्त किया।

याज्ञवल्क्य की जीवन कथा


प्रसिद्ध तपस्वी याज्ञवल्क्य का जन्म मिथिला में ब्रह्मरथ और सुनंदा के पुत्र के रूप में हुआ था। ब्रह्मरथ वेदों और शास्त्रों के विद्वान थे और उन्हें वाजसनी के नाम से भी जाना जाता था क्योंकि वे प्रतिदिन भोजन दान करते थे। पुत्र के रूप में धन्य होने के कारण उन्हें देवराठ के नाम से भी जाना जाता था। याज्ञवल्क्य के जन्म के बाद, दंपति को कामसारी नाम से एक बेटी हुई। वह वैशम्पायन के शिष्य थे। वह यज्ञों को करने में भी माहिर थे और इसलिए उन्हें याज्ञवल्क्य कहा जाता था। याज्ञवल्क्य वैशम्पायन के शिष्य थे। उन्होंने विभिन्न विषयों में राजा जनक की सहायता की और यहां तक ​​कि उनके गुरु के रूप में भी काम किया। याज्ञवल्क्य को योगीश्वर याज्ञवल्क्य के नाम से भी जाना जाता है।

याज्ञवल्क्य की दो पत्नियाँ थीं - मैत्रेयी और कात्यायनी। जब याज्ञवल्क्य ने संन्यास लेने से पहले दोनों के बीच अपनी संपत्ति को विभाजित करना चाहा, तो मैत्रेयी ने पूछा कि क्या वह धन के माध्यम से अमर हो सकती हैं। याज्ञवल्क्य ने उत्तर दिया कि यह संभव नहीं है और उसने उनसे अनुरोध किया कि वे उन्हें सिखाएं कि वह सबसे अच्छा क्या मानते हैं। तदनुसार, याज्ञवल्क्य ने अपना वास्तविक और अनंत ज्ञान प्रदान किया। याज्ञवल्क्य और मैत्रेयी के बीच की बातचीत बृहदारण्यक उपनिषद में दर्ज है। याज्ञवल्क्य के दार्शनिक उपदेश इस उपनिषद के तीसरे और चौथे अध्याय में दिए गए हैं। याज्ञवल्क्य की दूसरी पत्नी कात्यायनी भारद्वाज की पुत्री थीं और उनके पास मैत्रेयी की तुलना में केवल सामान्य बुद्धि थी।

याज्ञवल्क्य ने विन्न मंत्रों को लिखने और उन्हें सिखाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। याज्ञवल्क्य ने वैशम्पायन से कई बार बहस की जिसके कारण उन्होंने यज्ञवल्क्य को स्वयं के द्वारा दिया गया ज्ञान वापस करने के लिए कहा। याज्ञवल्क्य ने अपना सारा ज्ञान उन्हें लौटा दिया जो वैशम्पायन के अन्य शिष्यों द्वारा एकत्रित और प्राप्त किया गया था। यजुर्ववेद की इस शाखा को तैत्तिरीय के नाम से जाना जाता है।

याज्ञवल्क्य ने अपना सारा ज्ञान खो दिया और भगवान सूर्य की पूजा करने लगे। उन्होंने भगवान सूर्य से उन्हें ज्ञान प्रदान करने के लिए कहा। भगवान सूर्य प्रभावित हुए और यजुर्ववेद के मंत्रों का ज्ञान याज्ञवल्क्य को प्रदान किया। भगवान सूर्य के आशीर्वाद के कारण, याज्ञवल्क्य को शुक्ल यजुर्ववेद के बारे में पूर्ण ज्ञान दिया।

ऋषि याज्ञवल्क्य ने कहा


ऋषि याज्ञवल्क्य भारतीय दर्शन शास्त्र के प्रख्यात शास्त्री रहे हैं। भारतीय दर्शनशास्त्र का मूल उपनिषद है। वेद उपनिषद का भाग है। सभी उपनिषदों में से सबसे पुराना और बृहद उपनिषद 'बृहदारण्यक' है। इस उपनिषद की सबसे उत्तम व्याख्या याज्ञवल्क्य के द्वारा की गई। ऐसे में समझा जा सकता है कि याज्ञवल्क्य भारतीय दर्शन शास्त्र में सर्वोच्च स्थान रखते है। अनेक स्थानों पर उन्होंने अपनी विद्वता सिद्ध की। वैसे तो याज्ञवल्क्य यजुर्वेदी ब्राह्मण थे, परन्तु उन्हें ऋग्वेद, सामवेद एवं अथर्ववेद की भी जानकारी थी। ऋषि याज्ञवल्क्य की सराहना करते भी शंकराचार्य जी ने कहा था कि याज्ञवल्क्य जी चारों वेदों के जानकार थे, इसी के फलस्वरुप याज्ञवल्क्य जी को कर्म कांड, उपासना कांड और ज्ञान कांड की पूर्ण जानकारी थी।

ब्रह्मऋषि याज्ञवल्क्य द्वारा लिखित शास्त्र


यज्ञवल्क्य द्वारा लिखित सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथ शुक्ल यजुर्ववेद संहिता है। यह 40 अध्यायों में पद्मावती मंत्र और गद्यात्मक यजुर्वेद की व्याख्या करता है। संत याज्ञवल्क्य द्वारा लिखित एक अन्य महत्वपूर्ण ग्रंथ शतपथ ब्राह्मण है। इस शास्त्र में दर्ष और पौर्णमास की बात की गई है। बृहदारण्यकोपनिषद भी संत याज्ञवल्क्य ने लिखा था। यज्ञवल्क्य का जन्म वैशम्पायन आदि के समय में हुआ था। यज्ञवल्क्य स्मृति भी मनु स्मृति के अलावा एक प्रसिद्ध ग्रन्थ है। इन सभी शास्त्रों में याज्ञवल्क्य ने इनके महत्व और भव्यता को दर्शाया है।

याज्ञवल्क्य जयंती का महत्व


यज्ञवल्क्य जयंती पर कई पूजाएं, सभा और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। साथ ही, उनके द्वारा लिखे गए शास्त्रों को पढ़ा और उनके बारे में सबको बताया जाता है। लोग उनके विचारों और दिशा-निर्देशों को समझकर प्रबुद्ध होते हैं।


Read Other Articles:


Previous
Breaking the stigma behind Manglik Non-Manglik Marriages

Next
Phulera Dooj in 2019 (8 March)


2023 Prediction

View all