यदि आ रही हैं वैवाहिक जीवन में बाधाएं तो कीजिये ये उपाय। | Future Point

यदि आ रही हैं वैवाहिक जीवन में बाधाएं तो कीजिये ये उपाय।

By: Future Point | 21-Oct-2019
Views : 8934
यदि आ रही हैं वैवाहिक जीवन में बाधाएं तो कीजिये ये उपाय।

दांपत्‍य जीवन में पति पत्‍नी का रिश्‍ता केवल विश्‍वास पर ही टिका रह सकता है, अगर पति को पत्‍नी में और पत्‍नी को पति में विश्‍वास हो तो अधिकांश समस्‍याओं का निराकरण स्‍वत: ही हो जाता है, अगर दोनों के बीच विश्‍वास के साथ प्रेम भाव भी हो तो सोने में सुगंध जैसा काम हो जाता है, परन्‍तु कई बार स्थितियां ऐसी बनती हैं कि विश्‍वास डोल जाता है और प्रेम का अभाव भी दिखाई देने लगता है, ऐसे में गृहस्‍थी की गाड़ी पटरी से उतरने लगती है, गृहस्‍थी को सुखी और सरल बनाने के लिए पति पत्‍नी का संबंध सरस और मधुर बना रहना जरूरी है, जिस दौर में इन संबंधों में खटास आने लगे या गलतफहमियां सिर उठाने लगें, तब आर पार की लड़ाई से बेहतर है कि कुछ दैवीय सहायता प्राप्‍त कर ली जाए, इसके लिए हम यहाँ बता रहे हैं कुछ टोटके, ये टोटके पूर्व में किसी न किसी के लिए लाभदायी सिद्ध हुए हैं, आपके लिए भी उपयोगी साबित हो सकते हैं।

पति-पत्नी के बीच गृह क्लेश दूर करने के कुछ उपाय-

  • रात में सोते समय पत्नी के पलंग पर देसी कपूर तथा पति के पलंग पर कामिया सिंदूर रखना चाहिए, अगले दिन सुबह सूर्योदय के समय पति को देसी कपूर जला देना चाहिए तथा पत्नी को सिंदूर को घर में फैला देना चाहिए, यह एक तीव्र तांत्रिक उपाय है, इससे कुछ ही दिनों में पति-पत्नी का आपसी झगड़ा पूरी तरह खत्म हो जाता है।
  • बरगद का हरा पत्ता लेकर उस पर लाल चंदन को गंगा जल में घिसकर संबंधित व्यक्ति का नाम लिखें, इसके बाद पत्ते पर लाल गुलाब की पत्तियां रख दें और इन सबको बारीक पीस लें, जिस व्यक्ति का नाम लिखा है, उसके नाम में जितने अक्षर हैं, इस बारीक बुरादे की उतनी ही गोलियां बना लें, रोजाना एक गोली नियम से उस व्यक्ति/ महिला के घर के मेन गेट पर फेंक दें, जल्दी ही दोनों के बीच विछोह दूर होकर आपसी संबंध अनुकूल होंगे तथा वापिस मिलन होगा।
  • किसी के घर में बहुत ज्यादा क्लेश या झगड़ा रहता है तो वह इस उपाय को कर सकता है, जब भी घर में आटा पिसवाना हो तो केवल सोमवार को ही पिसवाएं, पिसवाने से पहले उसमें थोड़े से काले चने डाल दें, इस मिश्रित आटे को ज्यों-ज्यों घर के सभी लोग खाएंगे, घर के सभी झगड़े दूर हो जाएंगे।
  • पति-पत्नी के कलेश दूर करने के लिये तथा प्रेम की वृद्धि के लिये पति दायें हाथ की अनामिका अंगुलि में हीरा 30 सेंट या सफेद पुखराज पांच रत्ती का शुक्रवार व बृहस्पतिवार को पहने, पत्नी बायें हाथ की अनामिका अंगुलि में पांच रत्ती का मोती चांदी या गोल्ड में सोमवार को पहने।
  • दाम्पत्य सुख प्राप्त करने लिये बेल के तीन पत्तों पर अपने पति का नाम गोरोंचन हल्दी का घोल बनाकर मोर पंख की कलम से लिख कर चांदी की डिबिया में भर कर माता के चरणों में रख दें जहाँ पत्ते लिये हैं दाम्पत्य सुख प्राप्त होगा।
  • पति को वश में करने के लिए यह प्रयोग शुक्ल पक्ष में करना चाहिए, एक पान का पत्ता लें, उस पर चंदन और केसर का पाऊडर मिला कर रखें, फिर दुर्गा माता जी की फोटो के सामने बैठ कर दुर्गा स्तुति में से चँडी स्त्रोत का पाठ 43 दिन तक करें, पाठ करने के बाद चंदन और केसर जो पान के पत्ते पर रखा था, का तिलक अपने माथे पर लगायें, और फिर तिलक लगा कर पति के सामने जाएं, यदि पति वहां पर न हों तो उनकी फोटो के सामने जाएं, पान का पता रोज़ नया लें जो कि साबुत हो कहीं से कटा फटा न हो, रोज़ प्रयोग किए गए पान के पत्ते को अलग किसी स्थान पर रखें। 43 दिन के बाद उन पान के पत्तों को जल प्रवाह कर दें। समस्या का समाधान होगा।

आपकी कुंडली में है कोई दोष? जानने के लिए अभी खरीदें फ्यूचर पॉइंट बृहत् कुंडली

पति-पत्नी में अत्यंत कलह की स्थि‍ति में मन्त्रों द्वारा यह उपाय करें –

  • सूर्योदय से उठकर स्नान कर लें।
  • इसके बाद किसी भी शि‍व मंदिर में जाएं और शिवलिंग पर जल चढ़ाते हुए पूरी श्रद्धा के साथ नीच दिए गए मंत्र का जाप करें।
  • ओम् नम: संभवाय च मयो भवाय च नम:

शंकराय च मयस्कराय च नम: शिवाय च शिवतराय च।।

  • यदि पति-पत्नी के बीच अक्सर आपसी मतभेद की स्थि‍तियां बनती हों तो-
  • सुबह उठकर स्नान के बाद किसी एकांत जगह आसन बिछा लें।
  • अब उस आसन पर पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठ जाएं।
  • सामने मां पार्वती की तस्वीर या प्रतिमा रखें।
  • श्रद्धा के साथ 21 बार नीचे लिखे मंत्र का जाप करें ।
  • अक्ष्यौ नौ मधुसंकाशे अनीकं नौ समंजनम्।

अंत: कृणुष्व मां ह्रदि मन इन्नौ सहासति।।

  • वैवाहिक सुख की प्राप्ति और अनबन के निवारण के लिए –
  • सुबह सूर्यादय के पूर्व उठकर स्नान करें।
  • मां दुर्गा की प्रतिमा या चित्र के सामने दीपक जलाएं।
  • अगरबत्ती व फूल चढ़ाएं।
  • इसके बाद नीचे लिखे मंत्र का 108 बार जाप करें।
  • धां धीं धूं धूर्जटे: पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी

क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि शां शीं शूं मे शुभं कुरू।।


वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श लें 


Previous
जानिए, नौ मुखी रुद्राक्ष का महत्व, लाभ एवं धारण करने का मंत्र।

Next
Crucial moments in life that signify a change is coming!