सकारात्मक जीवन और वास्तु टिप्स - Positive Life and Vastu Tips | Future Point

सकारात्मक जीवन और वास्तु टिप्स - Positive Life and Vastu Tips

By: Future Point | 10-Jul-2019
Views : 6603
सकारात्मक जीवन और वास्तु टिप्स - Positive Life and Vastu Tips

Positive Life and Vastu Tips: एक सकारात्मक जीवन शैली जीने का मतलब है कि आपके पास हमेशा एक सकारात्मक दृष्टिकोण है। लोगों की अच्छाईयों पर ध्यान देने, दूसरों की आलोचना न करने और सामान्य रूप से सकारात्मक दृष्टिकोण रखने से पासिटिव लाईफ़स्टाईल बन सकता है। इससे आपके जीवन की क्वालिटी में काफी सुधार होगा। यदि आप पिछले कुछ समय से यह महसूस कर रहे हैं कि आपको सकारात्मक रहने की जरुरत है और आप अपने जीवन में खुशी लाना चाहते है, जीवन को खुशहाल बनाना चाहते है तो आपको निम्न टिप्स को अपने जीवन में उतारने का प्रयास करना चाहिए-

Also Read: सकारात्मक रहें, संतुष्ट रहें और वास्तु से घर को पॉजिटिव रखें

    • कूल माइंड रहें, कूल माइंड होने का अर्थ है कि आप अपने कार्यों को अच्छे से जानते हो, कार्य करते समय ध्यान और दिमाग को भटकने नहीं देते है। रोजमर्रा की जिंदगी के कार्य बिना किसी दबाव के करते है। अपने जीवन की स्थिति को जानते और स्वीकार करते है, और आप अपने जीवन और भावनाओं पर नियंत्रण रखते है। तो आपको सच में कूल माइंड रहने की जरुरत है।
    • नकारात्मक लोगों को अलविदा कहें, नकारात्मक विचारों के लोग आपके जीवन में नेगेटिव ऊर्जा फैलाते है, इससे अपने को पासिटिव रखना मुश्किल हो जाता है। यदि फिर भी आप को नकारात्मक लोगों के साथ बातचीत करनी पड़ती है तो आप यथासंभव कम से कम समय उन्हें दे और उनके साथ कम समय बिताने के कोशिश करें।
    • सबसे अच्छा रहेगा कि आप कुछ नए सकारात्मक दोस्तों की तलाश करते रहे। नए शहरों, देशों की यात्रा करें, आराम महसूस करें और जीवन का अधिक से अधिक आनंद लें। इस अवधि में अपनी डैली लाईफ स्टाईल के तनाव को दूर रखें। यह आपको कुछ नए अनुभव देगा।
    • नए लोगों से मिलना, नेचर का आनंद लें, देश-विदेश की संस्कृतियों, रीति-रिवाजों को जानने समझने का प्रयास करें। इससे आपके जीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। ऐसे कुछ टिप्स आपको सकारात्मक बनाए रखने में मदद करेंगे। सप्ताह में कम से कम एक दिन व्यायाम करना, योगा करना और अधिक से अधिक संगीत सुनना भी आपको सकारात्मक रखेगा।
    • तनाव से बचने के लिए आप टीवी पर अपनी पसंदीदा फिल्म देंखे। अपने लिए कोई मनपसंद ड्रेस आनलाईन खरीदें और जो आपका मन करें, वह करें। इसके साथ ही अधिक सोचने से बचें, यह आपकी हेल्थ पर नेगेटिव प्रभाव डालता है। हेल्थ को इग्नोर करने से बचे। अपने भीतर की शांति पाने के लिए ध्यान का सहारा भी आप ले सकते है। असामान्य व्यवहार करने से बचे।
    • भरपूर नींद लेकर अपने शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखे। नींद की कमी से अवसाद, चिंता, मोटापा और कई अन्य हेल्थ प्रोब्लम सामने आ सकती है जो आपको सकारात्मक जीवन जीने से रोकेंगी। इसलिए, स्वस्थ रहने और पासिटीव बने रहने के लिए नियमित नींद लेना आवश्यक है।
  • यदि आप हर सुबह उठते हुए रिचार्ज महसूस करती है तो आप सुबह के साथ जीवन की नई चुनौतियों के लिए तैयार रहती है और आपको रात्रि में एक बार फिर से अच्छी नींद आती है। भविष्य को लेकर अधिक चिंता ना करना और वर्तमान जीवन में जीना पासिटिव लाईफ दे सकता है। हमारे जीवन का नियंत्रण हमारे पास है हम जो भी कार्य करते हैं उसका प्रभाव हमारे जीवन के अन्य भागों पर पड़ता है। इसलिए समय के साथ बीते कल को भूलना सीखे।
  • जीवन के हर खराब फैसले को एक सबक के रुप में लें और बिना मुड़े पीछॆ देखने की जगह सिर उठाकर आगे बढ़े। अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर निकलें, अन्यथा आप नए अनुभव नहीं सीख पायेंगे। आप नई और अपरिचित चीजों का स्वागत करें और आप देखेंगी कि आपका जीवन कैसे बेहतर होता है और आप सकारात्मक विचारों से भरी रहती है।
  • अपरिचित चीजों की शुरुआत एक नए प्रकार की कॉफी आज़माने से कर सकती है।
  • सकारात्मक रहना हमेशा आसान नहीं होता है, लेकिन कुछ टिप्स के साथ आप ऐसा करने में सफल हो सकती है।
  • स्वयं को सकारात्मक लोगों से घिरा रखें, जीवन के हर पल को जीयें, जब भी संभव हो तो यात्रा करें और अपने जीवन के बदलावों को स्वीकार करें, तो आपको सकारात्मक जीवन शैली जीने में कोई रेशानी नहीं होगी।

वास्तु शास्त्र के साथ हम अपने जीवन को कैसे बेहतर कर सकते हैं? आईये जानें-

वास्तु शास्त्र विभिन्न ऊर्जाओं पर आधारित है। यह ऊर्जा सूर्य, ब्रह्मांडीय ऊर्जा, चंद्र ऊर्जा, थर्मल ऊर्जा, चुंबकीय ऊर्जा, प्रकाश ऊर्जा और पवन ऊर्जा से सौर ऊर्जा आदि से आती है। इन ऊर्जाओं को शांति, समृद्धि और सफलता प्राप्ति हेतु प्रयोग किया जा सकता है। सरल शब्दों में इन ऊर्जाऒं के द्वारा आप अपने आसपास के माहौल में व्याप्त ऊर्जाओं को संतुलित कर सकते है। यदि घर वास्तु सिद्धांतों के अनुसार बनाया जाता है, तो जीवन की समस्याओं, चिंताओं और बेचैनी को दूर करता है। वास्तु ने प्रकृति को पंचतत्वों से युक्त बनाया है जिसमें पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि और आकाशीय तत्व से युक्त बनाया है। ये तत्व व्यक्ति की जीवन शैली को प्रभावित करते है, मार्गदर्शन करते हैं, बदलते है और ऊर्जाओं में संतुलन भी लाते है। स्वयं, परिवार और अपने परिवार के जीवन को सकारात्मक रखने और सकारात्मक ऊर्जा युक्त बनाए रखने के लिए निम्न टिप्स का प्रयोग कर सकते हैं-

Also Read: सकारात्मक जीवन के लिए टिप्स

    • मुख्य द्वार पर तेज रोशनी की व्यवस्था करें। बेडरूम में टेलीविजन रखने से बचें।
    • टीवी और कंप्यूटर को आदर्श रूप से लिविंग रूम या स्टडी रूम के दक्षिण-पूर्व कोने में रखा जाना चाहिए न कि ईशान्य कोने या नैऋत्य कोने में।
    • बेडरूम में पानी की कोई सुविधा या पौधे रखने से बचें।
    • अलग-अलग गद्दे और बेडशीट का इस्तेमाल न करें।
    • शयनकक्ष में वर्गाकारक बेड की व्यवस्था करें। घर और रुम के कोनों को रोशन करें।
    • लिविंग रूम में दक्षिणी दीवार पर एक उगते सूर्य की तस्वीर रखें।
    • भोजन कक्ष आपके घर के सामने के दरवाजे को उजागर नहीं करना चाहिए।
    • किचन में कभी भी आईना नहीं लगाना चाहिए।
    • किचन में झाड़ू और पोछे को नजर से बाहर रखें।
    • बाथरूम और टॉयलेट का दरवाजा यथासंभव बंद रखें।
    • विंडोज को सामान्य रूप से बाहर की ओर खोलना चाहिए।
    • कांटेदार कैक्टस न रखें। या घर में ऐसे अन्य पौधे।
    • लिविंग रूम के पूर्वोत्तर कोने में एक मछलीघर रखें।
    • लिविंग रूम में एक खुशहाल पारिवारिक चित्र रखें।
    • सुनिश्चित करें कि बरगद, पीपल, कांटेदार पेड़ जैसे ऊंचे पेड़ न हों। जिनकी छाया आपके घर पर पड़ती हो।
    • आपके प्लॉट के आस-पास अवरोधक घर नहीं होने चाहिए। घर को पर्याप्त जल संसाधन के साथ हवादार होना चाहिए।
  • टॉयलेट सीट को दक्षिण या पश्चिम की दीवार पर स्थापित किया जाना चाहिए।
  • कभी भी बासी भोजन नहीं करना चाहिए। मुरझाए हुए फूल, फटे कपड़े, बेकार कागज, बेकार सामग्री, खाली टिन, पुराने जार और बेकार चीजें। ये चीजें लक्ष्मी को घर में प्रवेश करने से रोकती हैं।
  • अगर घर में संगमरमर का फर्श है, तो देखें कि पुराने चमड़े के जूते इधर-उधर न पड़े हों।
  • संगमरमर को एक पवित्र पत्थर माना जाता है। यदि संभव हो तो बेडरूम, बाथरूम और शौचालय में संगमरमर से बचें।
  • घर में पूजा स्थान में, खुला माहौल होना आवश्यक है। पूजा कक्ष में संगमरमर का प्रयोग करें। इस बात का ख्याल रखें कि पर्याप्त रोशनी और हवा हो।
  • शौचालय पूजा कक्ष के पास नहीं होना चाहिए। यदि ऐसा है तो आपको इसे हमेशा साफ रखना चाहिए।
  • घर में अधिक से अधिक स्वच्छाता रखे। घर में साफ सफाई के पानी में समुद्री नमक और गोमूत्र का प्रयोग करें।
  • घर के मंदिर में शाम के समय हल्की धूप सेकें।
  • पूजा के लिए बैठते समय अपना मुंह उत्तर-पूर्व की ओर रखें।
  • कैश बॉक्स दक्षिण दिशा में रखें। कमरे और आलमारी का दरवाजा उत्तर की ओर खुलना चाहिए।
  • टेलीफोन को दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम कोने में रखा जा सकता है।
  • उत्तर-पूर्व के इलाके को साफ रखना होता है, साफ न रखने पर पुरुष मुद्दों की भलाई अनिश्चित होती है।
  • एक व्यक्ति को अपने सिर के साथ दक्षिण की ओर इशारा करते हुए सोना चाहिए।
  • छात्रों को शैक्षिक उत्कृष्टता के लिए अध्ययन करते समय पूर्व की ओर मुंह करके बैठना चाहिए।
  • गैस रसोई के दक्षिण-पूर्व कोने में रखें; खाना बनाते समय व्यक्ति को पूर्व की ओर मुंह करना चाहिए।
  • रसोई घर के पूर्वोत्तर भाग में पानी पीना चाहिए।
  • भगवान हनुमान की प्रतिमा को दक्षिण-पूर्व में नहीं रखना चाहिए। यह आग लगने के खतरे का कारण हो सकता है।
  • बीम के नीचे बिस्तर की व्यवस्था नहीं करनी चाहिए।
  • कमरे को उत्तर-पूर्व की ओर खुला छोड़ दिया जाए।
  • अलमीरा और बेड को दक्षिण-पश्चिम की दीवार के पास और थोड़ी दूरी पर रखना चाहिए।
  • घर में ऐसी पेंटिंग नहीं होनी चाहिए जो निराशाजनक दृश्यों को दर्शाती हो, जैसे कि एक बूढ़ी औरत रो रही हो, युद्ध के दृश्य या गरीबी। इसकी जगह सूर्योदय, समुद्र, पर्वत, फूल या हंसते हुए बच्चों का चित्र होना चाहिए।

Previous
गुरु हुए मार्गी 11 अगस्त 2019 - क्या लायेंगे आपके लिए

Next
Kalathra Dosha: The reason you don’t have marital bliss in life yet!!