अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन मुहूर्त - राम आएंगे, 22 जनवरी 2024 को दीपोत्सव पर्व

By: Acharya Rekha Kalpdev | 14-Dec-2023
Views : 2219
अयोध्या में राम मंदिर उद्घाटन मुहूर्त - राम आएंगे, 22 जनवरी 2024 को दीपोत्सव पर्व

सिय राम मय सब जग जानी,
करउँ प्रनाम जोरि जुग पानी ।।  अर्थात

पूरे संसार में श्री राम का वास है, सबमें  राम हैं और हमें उनको हाथ जोड़कर प्रणाम कर लेना चाहिए।

मेरे राम, जो घट घट में विराजमान है, सारे संसार में व्याप्त है, ऐसे प्रभु राम अपनी जन्म भूमि अयोध्या में विराजित होने वाले है। राम प्रभु है, आदर्श है, कौसल्यानंदन है। अहिल्या को पवन करने वाले है, धन्वी है, त्रिलोकात्मा है, पितृ भक्त है। सूक्ष्म रूम में राम  का अर्थ है 'प्रकाश'। रम् का अर्थ है रमना या निहित होना। घम का अर्थ है ब्रह्मांड का खाली स्थान। राम का अर्थ हुआ, सकल ब्रह्मांड में निहित या रमा हुआ तत्व यानी चराचर में विराजमान स्वयं ब्रम्ह। योगी ध्यान में जिस शून्य में रमते हैं उसे राम कहते हैं।

उनका 497 वर्षों के बाद अयोध्या जी में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के लिए तैयार है। इस शुभ, पुनीत और शुभ कार्य के लिए  22  जनवरी 2024 का दिवस तय किया गया है। सौ करोड़ सनातनी इस दिन अपने घरों में दीप जलाकर दीपावली मनाएंगे, उत्सव मनाएंगे। शुभकामनाएं देकर, एक दूसरे को मिष्ठान खिलाएंगे।

इस दिन अयोध्या में भगवान् राम का दिव्य, भव्य राम मंदिर नवनिर्माण कार्य पूर्ण होने के बाद, राम जी के बाल रूप राम लल्ला जी की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा शास्त्रोक्त पद्वति से की जाएगी। प्रभु श्री राम हिंदुओं के लिए एक आदर्श और प्रेरणा की मूरत हैं, और जब से अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा की तिथि सामने आई है, तब से ही सभी भारतीय प्रभु श्री राम के प्राण प्रतिष्ठा होने का इंतजार कर रहे हैं।
भगवान् राम हिन्दूओं के लिए क्यों विशेष है, यह समझना बेहद आवश्यक है  -

  • भगवान राम ने दिखाया कि वह हम सभी के आदर्श हैं।
  • वह एक महान धनुर्धर, आदर्श राजा, आदर्श पुत्र, आदर्श भाई, सच्चा मित्र, आदि हर चीज में वह एक आदर्श व्यक्तित्व थे।
  • भगवान राम हमें सिखाते हैं कि क्षमा का वास्तविक अर्थ क्या है ??
  • भगवान राम हमें सिखाते हैं कि अपने बड़ों की आज्ञा कैसे मानें और उनका सम्मान कैसे करें।
  • भगवान राम हमें सिखाते हैं कि हमें कैसे रहना चाहिए और मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ जीवन की समस्याओं का सामना कैसे करना चाहिए।
  • भगवान राम हमें सिखाते हैं, शील सबसे अच्छी नीति है।
  • भगवान राम में एक आदर्श राजा के लक्षण और गुण थे।
  • "कभी हार न मानें" इस संसार में भले ही आप अकेले हैं और समस्याओं का सामना कर रहे हैं और आपकी मदद के लिए कोई नहीं है। लड़ना शुरू करें और अपना 100% देकर अपना लक्ष्य हासिल करें।
  • आपको हमेशा अपने परिवार के साथ रहना चाहिए क्योंकि एक साथ रहने पर परिवार किसी भी मुश्किल पर जीत हासिल कर सकता है।
  • भगवान राम हमें सिखाते हैं, हमें हमेशा सभी के साथ समानता का व्यवहार करना चाहिए और स्थिति, लिंग, उम्र या जाति के आधार पर भेदभाव नहीं करना चाहिए।

राम मंदिर भगवान राम लल्ला जी के स्वागत के लिए अद्भुत नक्कासी और नेत्रों को  सम्मोहित करने वाली खूबसूरती के साथ तैयार है। अपने किसी पुण्य प्रारब्ध के फल से हमारा जन्म इस युग में हुआ, जिस युग में परम देव राम जी, एक बार फिर से भव्य रूप में अयोध्या जी में, प्राण प्रतिष्ठा के साथ स्थापित किये जा रहे है। इसके लिए  22  जनवरी, 2024 का दिन प्राण प्रतिष्ठा पूजा मुहूर्त के लिए तय किया गया है। प्रतिमाएं भी प्रतीक्षारत है की कब भगवान उनमें वास करेंगे, कब वे सिद्ध, शक्तिमय, प्राणयुक्त और जीवंत हो उठेंगी। 

देव प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा के बाद राम लल्ला जी और अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं पूजनीय हो जाएंगी। इसके बाद उनके पूजन शुभ फल प्राप्त होने प्रारम्भ हो जाएंगे। प्राण प्रतिष्ठा के द्वारा प्रतिमाओं को जीवंत करने की  प्रक्रिया वैदिक और सनातनी धर्म का महत्वपूर्ण प्रक्रिया कहा जा सकता है।  

 

आपकी राशि के लिए कैसा रहेगा आने वाला साल? विद्वान ज्योतिषियों से जानें इसका जवाब

सनातन धर्म में प्राण प्रतिष्ठा से अभिप्राय है-  

जब भी लोग किसी देवमूर्ति को घर के मंदिर में लाते हैं तो पूरे विधि विधान से इसकी पूजा की जाती है। इस प्रतिमा में जान डालने की विधि को ही प्राण प्रतिष्ठा कहते हैं। यह मूर्ति को जीवंत करती है जिससे की यह व्यक्ति की विनती को स्वीकार कर सके। प्राण-प्रतिष्ठा की यह परंपरा हमारी सांस्कृतिक मान्यता जुड़ी है कि पूजा मूर्ति की नहीं की जाती, दिव्य सत्ता की, महत् चेतना की, की जाती है। सनातन धर्म में प्रारंभ से ही देव मूर्तियां ईश्वर प्राप्ति के साधनों में एक अति महत्वपूर्ण साधन की भूमिका निभाती रही हैं। अपने इष्टदेव की सुंदर सजीली प्रतिमा में भक्त प्रभु का दर्शन करके परमानंद का अनुभव करता है और धीरे धीरे ईश्वर की और उन्मुख हो जाता है। देवप्रतिमा की पूजा से पहले उनमें प्राण-प्रतिष्ठा करने के पीछे का कारण मात्र वैदिक परंपरा मात्र नहीं है, अपितु यह परिपूर्ण तत्त्वदर्शन भाव से युक्त है।

 

यह भी पढ़ें: माघ मेला (Magh Mela) 2024 - कब से कब तक - तिथि और माहात्म्य

 

उदहारण के लिए  - जिस प्रकार पम्प और वाटर मोटर के द्वारा भूमि में सम्माहित जल को एकत्रित किया जा सकता है, वायु को यंत्र द्वारा किसी गुब्बारे में एकत्रित किया जा सकता है, प्रकाश को किसी कमरे में बिजली के द्वारा सम्माहित किया जा सकता है। ठीक उसी प्रकार मन्त्रोंचार और पूजन के द्वारा देव प्रतिमाओं को जीवंत किया जाता है।  
प्राण-प्रतिष्ठा दो प्रकार से होती है। प्रथम चल-तथा द्वितीय अचल। अचल में मिट्टी या बालू से बनी मूर्तियों का आह्वान और विसर्जन किया जाता है किंतु लकड़ी और रत्नयुक्त मूर्ति का आह्वान या विसर्जन करना ऐच्छिक है।

यह समस्त कार्य तभी सफल होते हैं जब प्रतिमा प्राण प्रतिष्ठित हो अन्यथा सारी पूजा उपासना व्यर्थ हो जाती है। कहा गया है कि जो मनुष्य अप्रतिष्ठित देव प्रतिमा का पूजन नहीं करता है, उसके अन्न को देवता ग्रहण नहीं करते। अत: घर आदि अप्रतिष्ठित प्रतिमा हो तो उसका त्याग कर देना चाहिए।

इसके लिए 22 जनवरी, 12:20 मिनट दोपहर का समय प्राण प्रतिष्ठा पूजा मुहूर्त के लिए तय किया गया है। प्रतिमाएं भी प्रतीक्षारत है की कब भगवान उनमें वास करेंगे, कब वे सिद्ध, शक्तिमय, प्राणयुक्त और जीवंत हो उठेंगी।     

प्राण प्रतिष्ठा पूजन मुहूर्त के लिए 22 जनवरी, 12:20 दोपहर अभिजीत मुहूर्त, मृगशिरा नक्षत्र, चंद्र वृषभ राशि, दिन सोमवार, मेष लग्न का चयन किया गया है। इस दिन के मुहूर्त की शुभता की विशेषता है की मुहूर्त के दिन सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि जैसे योग भी दिन की शुभता में वृद्धि कर रहे हैं। मुहूर्त के दिन लग्न भाव में देव गुरु बृहस्पति देव लग्न, पंचम, सप्तम और नवम भाव को अपनी शुभता का आशीवार्द दे रहे हैं। गुरु यहाँ लग्न शुद्धि कर रहे हैं। स्वतंत्र भारत की जन्म राशि कर्क है, मुहूर्त के दिन चंद्र चंद्र से एकादश भाव वृषभ राशि में गोचर कर रहे है, इससे मुहूर्त की शुभता भारत की कुंडली और समस्त भारतीयों के लिए शुभ रहने के योग बन रहे है। अभिजीत मुहूर्त में यह शुभ कृत्य संपन्न होने वाला है, अभिजीत मुहूर्त स्वयं में अतिशुभ मुहूर्त की श्रेणी में आता है। 

 

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

सार 

इस प्रकार राम लल्ला जी प्राण प्रतिष्ठा मुहूर्त काल समय में मुहूर्त के सभी नियमों का पूरा ध्यान रखा गया है। एक शुभ काज, शुभ समय में संपन्न होने जा रहा है। यह बहुत शुभ विचार है। हम सभी सनातनी इसका स्वागत करते है। और मंगलगीत गाकर अपनी प्रसन्नता प्रकट करते है। जय श्री राम


Previous
माघ मेला (Magh Mela) 2024 - कब से कब तक - तिथि और माहात्म्य

Next
राजनीति और ज्योतिष में महिला का सशक्तिकरण - ज्योतिषीय अध्ययन