नवग्रह : जानिए किस ग्रह से होता है कौन सा रोग।

By: Future Point | 08-May-2019
Views : 5388
नवग्रह : जानिए किस ग्रह से होता है कौन सा रोग।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे शरीर का संचालन भी ग्रहों के अनुसार ही होता है, मनुष्य के मन, मस्तिष्क और शरीर पर मौसम व ग्रहों, नक्षत्रों का प्रभाव लगातार रहता है. ऐसे में कुछ लोग इनके प्रभाव से बच जाते हैं तो कुछ इनकी चपेट में आ जाते हैं, बचने वाले लोगों की सुदृण मानसिक स्थिति और प्रति रोधक क्षमता का योगदान रहता है. आइये ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आपको बताते हैं कि व्यक्ति के शरीर में होने वाले र्रोग कौन से ग्रहों के जिम्मेदार होते हैं।

नव ग्रहों से होने वाले रोग-

बृहस्पति –

बृहस्पति के अन्तर्गत जांघे, चर्बी, मस्तिष्क, जिगर, गुरदे, फेफड़े, कान, जीभ, स्मरणशक्ति, स्पलीन आदि अंग आते हैं अतः कुंडली में बृहस्पति के पीड़ित होने पर इन्हीं से संबंधित बीमारियाँ होने की संभावना होती है एवं डायबिटिज होने में भी बृहस्पति की भूमिका होती है।


सूर्य-

सूर्य को हड्डी का मुख्य कारक माना गया है, अतः इसके अंतर्गत पेट, दांई आँख, हृदय, त्वचा, सिर तथा व्यक्ति का शारीरिक गठन आता है. जन्म कुंडली में सूर्य से पीड़ित होने पर इन्हीं सभी क्षेत्रों से संबंधित शारीरिक कष्ट व्यक्ति को होते हैं, इसके अलावा व्यक्ति को तेज बुखार, कोढ़, दिमागी परेशानियाँ व पुराने रोग होने की संभावनाएँ बनती है।


चंद्रमा-

चंद्रमा को से मन का मुख्य कारक माना गया है एवं यह हृदय, फेफड़े, बांई आँख, छाती, दिमाग, रक्त, शरीर के तरल पदार्थ, भोजन नली, आंतों, गुरदे व लसीका वाहिनी का भी कारक माना गया है, नींद कम आने की बीमारी हो सकती है, मंदबुद्धि भी चंद्रमा के पीड़ित होने पर हो सकती है, दमा, अतिसार, खून आदि की कमी भी चंद्रमा के कमजोर होने पर होती है।

यह भी पढ़े: नौकरी, उपाय और ज्योतिष


शुक्र-

शुक्र के अन्तर्गत चेहरा, आंखों की रोशनी, गुप्तांग, मूत्र, वीर्य, शरीर की चमक व आभा, गला, शरीर व ग्रंथियों में जल होना, ठोढ़ी आदि आते हैं। शुक्र के पीड़ित होने पर इनसे संबंधित बीमारियाँ हो सकती है। किडनी भी शुक्र के ही अधिकार में आती है इसलिए किडनी से संबंधित रोग भी हो सकते हैं। आँखों की रोशनी का कारक शुक्र होता है इसलिए इसके पीड़ित होने पर नजर कमजोर हो जाती है। यौन रोग, गले की बीमारियाँ, शरीर की चमक कम होना, नपुंसकता, बुखार व ग्रंथियों में रोग होना, सुजाक रोग, उपदंश, गठिया, रक्त की कमी होना आदि रोग शुक्र के पीड़ित होने पर होते हैं।


मंगल-

मंगल के अधिकार में रक्त, मज्जा, ऊर्जा, गर्दन, रगें, गुप्तांग, गर्दन, लाल रक्त कोशिकाएँ, गुदा, स्त्री अंग तथा शारीरिक शक्ति आती है। मंगल के कुंडली में पीड़ित होने पर इन्हीं से संबंधित रोग मंगल की दशा में हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त सिर के रोग, विषाक्तता, चोट लगना व घाव होना एवं आँखों का दुखना, कोढ़, खुजली होना, रक्तचाप होना, ऊर्जा शक्ति का हृस होना, स्त्री अंगों के रोग, हड्डी का चटक जाना, फोडे़-फुंसी, कैंसर, टयूमर होना, बवासीर होना, माहवारी बिगड़ना, छाले होना, आमातिसार, गुदा के रोग, चेचक, भगंदर तथा हर्णिया आदि रोग हो सकते हैं.


बुध-

बुध के अधिकार क्षेत्र में छाती, स्नायु तंत्र, त्वचा, नाभि, नाक, गाल ब्लैडर, नसें, फेफड़े, जीभ, बाजु, चेहरा, बाल आदि आते हैं. अतः कुंडली में बुध के पीड़ित होने पर इन्हीं क्षेत्रो से संबंधित बीमारी होने की संभावना बली होती है, एवं छाती व स्नायु से जुड़े रोग हो सकते हैं. मिर्गी रोग होने की संभावना बनती है। नाक व गाल ब्लैडर से जुड़े रोग हो सकते हैं। टायफाईड होना, पागलपन, लकवा मार जाना, दौरे पड़ना, अल्सर होना, कोलेरा, चक्कर आना आदि रोग होने की संभावना बनती है।


शनि-

शनि के अंतर्गत टांगे, जोड़ो की हड्डियाँ, मांस पेशियाँ, अंग, दांत, त्वचा व बाल, कान, घुटने आदि आते हैं अतः कुंडली में शनि के पीड़ित होने पर इन्हीं से संबंधित रोग हो सकते हैं। शारीरिक कमजोरी होना, मांस पेशियों का कमजोर होना, पेटदर्द होना, अंगों का घायल होना, त्वचा व पाँवों के रोग होना, जोड़ो का दर्द, अंधापन, बाल रुखे होना, मानसिक चिन्ताएँ होना, लकवा मार जाना, बहरापन आदि शनि के पीड़ित होने पर होता है।

यह भी जाने: कैसे दाम्पत्य जीवन को सुखमय बनायें, ज्योतिष विधा के राशि अनुसार अचूक उपाय।


राहु-

राहु के अधिकार में पांव आते है, सांस लेना आता है, गरदन आती है. फेफड़ो की परेषानियाँ होती है. पाँवो से जुड़े रोग हो सकते हैं. अल्सर होता है, कोढ़ हो सकता है, सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। फोड़ा हो सकता है, मोतियाबिन्द होता है, हिचकी भी राहु के कारण होती है। हकलाना, स्पलीन का बढ़ना, विषाक्तता, दर्द होना, अण्डवृद्धि आदि रोग राहु के कारण होते हैं। यह कैंसर भी देता है।


केतु-

केतु फेफड़ो से संबंधित बीमारियाँ देता है। बुखार देता है, आँतों में कीड़े केतु के कारण होते हैं। वाणी दोष भी केतु की वजह से ही होता है। कानों में दोष भी केतु से होता है। आँखों का दर्द, पेट दर्द, फोड़े, शारीरिक कमजोरी, मस्तिष्क के रोग, वहम होना, न्यून रक्तचाप सभी केतु की वजह से होने वाले रोग होते हैं। केतु के कारण कुछ रोग से भी होते हैं जिनके कारणों का पता कभी नहीं चल पाता है।

Astrology Consultation

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
Receive regular updates, Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, & Astrology Articles curated just for you!

To receive regular updates with your Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, Astrology Articles, Festival Updates, and Promotional Sale offers curated just for you!

Download our Free Apps

astrology_app astrology_app

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Help/Support

Trust

Trust of 36 years

Trusted by million of users in past 36 years