माता सती अनुसुइया जयंती

By: Future Point | 20-Apr-2019
Views : 7945
माता सती अनुसुइया जयंती

सती अनुसुया को पतिव्रता धर्म के लिए जाना जाता है। इस वर्ष इनकी जयंती 23 अप्रैल 2019 को मनाई जाएगी। देवी अनुसुईया की पवित्रता और उनका साध्वी रुप सभी विवाहित महिलाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत रहा है। देवी अनुसुईया जयंती के अवसर पर मंदिरों में विशेष पूजा आरती की जाती है। विवाहित महिलाएं इस दिन के व्रत का पालन कर, सती अनुसुईया के दिखाए मार्ग पर चलने का संकल्प लेती है। देवी अनुसुईया प्रसन्न होकर अपने भक्तों के दुख दूर करती हैं और उन्हें अखंड सौभाग्यवती होने का वर देती है। भारत वर्ष के उतराखंड राज्य में देवी अनुसुईया का एक प्रसिद्ध व प्राचीन मंदिर है। पौराणिक कथाओं के अनुसार यह वहीं स्थान है जहां माता देवी की परीक्षा त्रिदेवों ने ली थी। माता अनुसुईया के जन्मदिवस के अवसर पर स्त्रियां अपने वैवाहिक स्त्री धर्म का पालन करते हुए सती अनुसुईयां जयंती का पूजन करती है।

यह माना जाता है कि उत्तराखंड में स्थित माता अनुसुईया के मंदिर में रात्रि में जप और जागरण करने की परंपरा है। इस मंदिर में निसंतान दंपत्ति जप और जागरण कर पूजा अर्चना कर संतान कामना करते है। यह जप-तप, अनुष्ठान शनिवार की रात्रि में करने का प्रावधान है। इस मंदिर को लेकर एक पौराणिक कथा प्रचलित है कि इस मंदिर में त्रिदेव माता की परीक्षा लेने के लिए बालक रुप में आए थे और तीनों देवों ने देवी से भोजन कराने की प्रार्थना की। देवी ने अपने सतीत्व से त्रिदेवों को पहचान लिया, इससे त्रिदेव असली रुप में आ गए। माता अनुसुईया से भगवान शिव दुर्वासा के रुप में मिले थे। विस्तार रुप में यह कथा इस प्रकार है -

Also Read: जानिए अक्षय तृतीया पर्व से जुड़ी मान्यताएं एवं 2019 में तिथि व मुहूर्त।

देवी अनुसुईया का स्थान भारतीय नारी इतिहास में पतिव्रता नारियों में सबसे ऊपर रहा है। देवी अनुसूईया राजा दक्ष की 24 में से एक कन्या है। देवी अनुसुईया बहुत ह्र्दय से बहुत सरल, सहज और निश्छल थी। देवी सती आदर्श नारी का प्रतिमान है। उच्च कुल में जन्म लेने पर भी इनके मन में किसी प्रकार का कोई अहंकार नहीं था। देवी अनुसुईया का संपूर्ण जीवन हम सभी के लिए आदरणीय रहा है। इनके दिखाए पदचिन्हों पर चलकर विवाहित महिलाएं अपने वैवाहिक जीवन को सफल बना सकती है। देवी अनुसुईया का विवाह महर्षि अत्री जी के साथ हुआ था। अपने पति धर्म का पालन करते हुए इन्होंने पूर्ण सेवा और समर्पण दिखाया। अपने पति के लिए इनके समर्पण भाव की सारी जगह प्रशंसा हुई। इस प्रशंसा को सुनकर त्रिदेवियों के मन में दुर्भावना आ गई। इसी के कारण इन्हें परीक्षा की स्थिति का सामना करना पड़ा।

Book Laxmi Puja Online


ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव

कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है. कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं। आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिका फ्यूचर समाचार में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं। जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋणऔर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा,विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।


Previous
जानिए अक्षय तृतीया पर्व से जुड़ी मान्यताएं एवं 2019 में तिथि व मुहूर्त ।

Next
क्या वैदिक ज्योतिष बताती है, आपके भविष्य में कौन सा नौकरीपेशा आपके लिए सर्वोत्तम है ।


2023 Prediction

View all