साल 2023 में इस दिन पड़ रही है महाशिवरात्रि, जान लें पूजन विधि और व्रत करने का तरीका | Future Point

साल 2023 में इस दिन पड़ रही है महाशिवरात्रि, जान लें पूजन विधि और व्रत करने का तरीका

By: Future Point | 25-Jan-2022
Views : 1877
साल 2023 में इस दिन पड़ रही है महाशिवरात्रि, जान लें पूजन विधि और व्रत करने का तरीका

महा शिवरात्रि हिंदुओं का एक बहुत बड़ा त्‍योहार है। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस‍का अर्थ है कि महाशिवरात्रि ज्ञान और ऊर्जा के मिलन का प्रतीक है। देशभर में बड़ी धूमधाम से शिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस दिन सुबह से ही पूजा-पाठ शुरू हो जाता है और भक्‍त व्रत रखते हैं। फाल्गुन महीने (मध्य फरवरी से मध्य मार्च) के दौरान 14वें घटते चंद्रमा को महा शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है।

शिव और शक्‍ति के मिलने के रूप में शिवरात्रि का त्‍योहार मनाया जाता है। दक्षिण भारतीय कैलेंडर के अनुसार माघ के महीने में कृष्ण पक्ष के दौरान चतुर्दशी तिथि को महा शिवरात्रि के रूप में जाना जाता है। हालांकि, उत्तर भारतीय कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन के महीने में मासिक शिवरात्रि को महा शिवरात्रि के रूप में जाना जाता है।

महाशिवरात्रि 2023 कब है

वर्ष 2023 में महाशिवरात्रि 18 फरवरी, शनिवार को है।

  • निशिता काल पूजा का समय - 19 फरवरी को रात्रि 12 बजकर 9 मिनट से शुरू होकर 1 बजे तक है। इसका अवधि 51 मिनट है।
  • 19 फरवरी को शिवरात्रि पारण का समय - प्रात: 06:56 से दोपहर के 3:24 तक 
  • रात्रि प्रथम प्रहर पूजा का समय - 18:13 से 21:24 तक
  • रात्रि द्वितीय प्रहर पूजा का समय - 21:24 से 00:35, फरवरी 19
  • रात्रि तृतीय प्रहर पूजा का समय - 00:35 से 03:46, फरवरी 19
  • रात्रि चतुर्थ प्रहर पूजा का समय - 03:46 से 06:56, फरवरी 19
  • चतुर्दशी तिथि प्रारंभ -18 फरवरी को 20:02
  • चतुर्दशी तिथि समाप्त - 19 फरवरी 2023 को 16:18 बजे

महाशिवरात्रि का महत्‍व

हर व्‍यक्‍ति के लिए शिवरात्रि का एक अलग महत्‍व है। जो लोग अध्‍यात्‍म के मार्ग पर हैं, उनके लिए यह त्‍योहार अत्‍यंत महत्‍व रखता है। वहीं दूसरी ओर, जो लोग अपने जीवन के गृहस्थ चरण में हैं, वे भी शत्रुओं पर शिव की जीत की खुशी में इस दिन को मनाते हैं। शिव और शक्‍ति के विवाह के दिवस के रूप में भी महाशिवरात्रि मनाई जाती है। हालांकि, तपस्वियों के लिए, यह वह दिन है जब शिव योगी बने, कैलाश पर्वत के साथ विलीन हो गए, राजसी शिखर की तरह स्थिर हो गए। किवदंती है कि शिव इसी दिन योगियों के पहले गुरु, आदि गुरु बने थे। यही कारण है कि तपस्वियों के लिए यह दिन अधिक प्रासंगिकता रखता है।

महाशिवरात्रि की व्रत विधि

इस दिन की शुभ पूजा निशिता काल के दौरान की जाती है। महाशिवरात्रि की पूजन विधि इस प्रकार है :

  • घर के पूजन स्‍थल के सामने एक साफ आसन पर बैठें और भगवान शिव की मूर्ति या शिवलिंग को लकड़ी के मंच या चौकी पर स्थापित करें।
  • इसे एक साफ सफेद रंग के कपड़े से ढक दें। चौकी के दाहिनी ओर एक तेल का दीपक जलाएं।
  • भगवान के चरणों में थोड़ा जल छिड़क कर पूजा शुरू करें। मूर्ति को अर्घ्य दें।
  • अपने दाहिने हाथ की हथेली में पानी डालकर उसका आचमन करें।
  • गंगाजल, दूध, दही और शहद से मूर्ति का अभिषेक करें। मूर्ति को साफ सफेद वस्त्र में ढक दें।
  • मूर्ति को कलावा या पवित्र धागा चढ़ाएं। मूर्ति को एक जनेऊ और कुछ अक्षत अर्पित करें।
  • मूर्ति पर चंदन का लेप और इत्र लगाएं। मूर्ति को धतूरा, बेल पत्र, फल और फूल चढ़ाएं।
  • अगरबत्ती या धूप जलाएं। भगवान को सात्विक विधि से बना भोग या नैवेद्य अर्पित करें।
  • अपनी बाईं ओर मुड़कर परिक्रमा शुरू करें। पूजा आरती करें और पुष्पांजलि करके समाप्त करें।

महाशिवरात्रि के दिन क्‍या होता है

शिव और पार्वती के इस मिलन पर कई तरह के रीति-रिववाज किए जाते हैं, जैसे कि :

इस दिन कुंवारी कन्‍याएं भगवान शिव जैसा पति पाने के लिए पूरा दिन उपवास रखती हैं। वहीं विवाहित स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु की कामना करने के लिए यह व्रत रखती हैं।

महाशिवरात्रि पर करोड़ों की संख्‍या में भक्‍त भगवान शिव का आशीर्वाद लेने के लिए काशी विश्‍वनाथ मंदिर के दर्शन करने आते हैं। इस दिन शिवलिंग का जल अभिषेक और दूध से अभिषेक करने का बहुत महत्‍व है।

हजारों श्रद्धालु शिवरात्रि पर गंगा नदी में डुबकी लगाकर अपनी आत्‍मा और मन को शुद्ध करते हैं।

भगवान शिव को बेल पत्र और धतूरा बहुत प्रिय है इसलिए शिवरात्रि के दिन शिवजी के पूजन में इन दोनों चीजों को अर्पित करने का विशेष महत्‍व है।

भगवान शिव ज्ञान, स्वच्छता, और तपस्या का प्रतीक है। इसी कारण आज के दिन भक्‍त अपने माथे पर तीन रेखाओं के रूप में तिलक लगाते हैं।

माना जाता है कि रुद्राक्ष भगवान शिव के आंसू से बना है इसलिए इस दिन रुद्राक्ष के वृ‍क्ष की भी पूजा करते हैं।

महाशिवरात्रि की पौराणिक कथा

शिवरात्रि पर्व का इतिहास पुराणों में विभिन्न मिथकों और परंपराओं में निहित है। एक कथा के अनुसार समुद्र मंथन के समय विष से भरा एक घड़ा समुद्र से निकला था। देवता और दानव सहायता के लिए भगवान शिव के पास भागे, उन्हें डर था कि कहीं यह पूरे ग्रह को नष्ट न कर दे। ग्रह को इसके हानिकारक प्रभावों से बचाने के लिए शिव ने जहर से भरा घड़ा पी लिया और इसे निगलने के बजाय अपने गले में धारण कर लिया। परिणामस्वरूप, उनका गला नीला पड़ गया है और इस तरह उनका नाम नीलकंठ पड़ गया। शिवरात्रि को उस अवसर के रूप में याद किया जाता है जब शिव ने अपने संसार की रक्षा की थी।

एक अन्य प्रसिद्ध कहानी में कहा गया है कि शिव ने देवी पार्वती को शक्ति का रूप दिया था और वह उनकी भक्ति के कारण उनसे शादी करने को तैयार हुए थे। अमावस्या की रात में देवी ने उनके कल्याण के लिए व्रत रखा। इसी प्रकार हर हिंदू महिला आज भी अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए शिवरात्रि का व्रत करती है। इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की वैवाहिक वर्षगांठ मनाई जाती है।

महाशिवरात्रि का व्रत रखने के लाभ

महाशिवरात्रि पर भक्‍त पूरा दिन शिव की भक्‍ति और पूजा में बिताते हैं। व्रत रखने से शरीर की सफाई होती है और मानसिक स्थिरता प्राप्‍त होती है। शिवरात्रि की रात नक्षत्रों की स्थिति साधना के लिए अत्यंत शुभ होती है। इस प्रकार, शिवरात्रि के दौरान, लोगों को जागते रहना चाहिए और ध्यान का अभ्यास करना चाहिए।

शिवरात्रि पर शिव मंत्र का जाप करने से आपका मूड तुरंत अच्छा हो जाता है। इसका परमानंद और आनंद संतुलन, करुणा और शांति में बदल जाता है। शिवरात्रि की रात नक्षत्रों की स्थिति साधना के लिए अत्यंत शुभ होती है। इस प्रकार, शिवरात्रि के दौरान, लोगों को जागते रहना चाहिए और ध्यान करना चाहिए।

शिवरात्रि पर शिव मंत्र का जाप करने से मूड अच्छा रहता है। इस दिन परमानंद और आनंद संतुलन, करुणा और शांति में बदल जाता है।

महाशिवरात्रि के उपाय

शीघ्र विवाह के लिए शाम के समय किसी शिव मंदिर में बेल पत्र चढ़ाएं। बेल पत्र चढ़ाते समय “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें और जल्द से जल्द अपने विवाह की कामना करें।

उत्तम स्‍वास्‍थ्‍य के लिए चार बत्ती और केवल शुद्ध घी से एक दीया जलाएं। भगवान शिव को जल युक्त दूध, मिश्री और चावल अर्पित करें। ऐसा करते समय “ऊं नमः शिवाय” मंत्र बोलें और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करें।

धन लाभ के लिए भगवान शिव की मूर्ति का पंचामृत से अभिषेक करें। याद रखें कि आर्थिक लाभ के लिए दूध, दही, चीनी, शहद और घी एक साथ नहीं बल्कि एक-एक करके चढ़ाना चाहिए।


Previous
Mahashivratri 2023 - Much auspicious Yoga will bless your life this time!

Next
26 जनवरी 2023 से पलट जाएगी भारत की किस्‍मत, इन क्षेत्रों में आ सकता है तूफान