चैत्र नवरात्र पर रहेंगे ये शुभ योग, जानिए, घटस्थापना मुहूर्त, महत्वपूर्ण परंपराएं व अनुष्ठान

By: Future Point | 23-Mar-2020
Views : 4964
चैत्र नवरात्र पर रहेंगे ये शुभ योग, जानिए, घटस्थापना मुहूर्त, महत्वपूर्ण परंपराएं व अनुष्ठान

नवरात्र भारतीयों का प्रमुख़ धार्मिक पर्व है। इसके नौ अलग-अलग दिनों में अलग-अलग देवी की पूजा की जाती है। नवरात्र का पर्व साल में चार बार (चैत्र, आषाढ़, अश्विन और माघ में) आता है। लेकिन इनमें चैत्र और अश्विन (शरद) नवरात्रि का विशेष महत्व है। चैत्र नवरात्रि बसंत ऋतु में पड़ती है इसलिए इसे बसंत नवरात्रि भी कहते हैं। माना जाता है कि इसके आखिरी दिन भगवान राम का जन्म हुआ था इसलिए इसे राम नवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। श्रद्धालु नवरात्रि के पहले दिन से लेकर नौवें दिन तक उपवास रखते हैं और मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की उपासना करते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से मां आपसे प्रसन्न होती हैं और आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं।

चैत्र नवरात्रि पर रहेंगे ये ज्योतिषीय योग

हिंदू धर्म के सभी त्योहारों का अपना महत्व है। मगर कोई भी त्योहार तब और ख़ास हो जाता है जब उस दौरान कोई ज्योतिषीय योग होता है। ज्योतिष विशेषज्ञों के अनुसार इस बार की नवरात्रि पर एक साथ कई महत्वपूर्ण ज्योतिषीय योग बन रहे हैं। इस दौरान चार स्वार्थसिद्धि योग, एक अमृतसिद्धि, एक द्विपुष्कर, 6 रवि योग और एक गुरु पुष्य योग बनेगा।

ज्योतिषविद्या में इन सभी योगों को बेहद शुभ माना जाता है। इस दौरान सभी तरह के शुभ कार्य किए जाते हैं। इस नवरात्रि की एक ख़ास बात यह भी है कि इस दौरान कई तरह के शुभ योग होने से किसी भी तिथि का क्षय नहीं हो रहा है जिसके कारण श्रद्धालु पूरे नौ दिन मां दुर्गा की आराधना कर सकेंगे। यह नवरात्रि बेहद ख़ास है इसलिए मां दुर्गा आप पर मेहरबान रहेंगी। सच्चे मन से उनकी उपासना कर आप अपनी कोई भी इच्छा पूर्ण कर सकते हैं।

चैत्र नवरात्र 2023: तिथि व मुहूर्त

चैत्र नवरात्रि हर वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरु होकर नवमी तक रहती है। इससे संबंधित महत्वपूर्ण तिथियां व मुहूर्त निम्न हैं:

  • नवरात्रि तिथि प्रारंभ: बुधवार, 22 मार्च, 2023
  • नवरात्रि तिथि समाप्त: गुरुवार, 30 मार्च, 2023
  • घटस्थापना मुहूर्त: प्रात: 6:23 बजे से 7:32 बजे तक (बुधवार, मार्च 22, 2023)
  • अवधि: 01 घंटा 09 मिनट
  • प्रतिपदा तिथि प्रारंभ: रात 10 बजकर 52 मिनट (मंगलवार, मार्च 21, 2023)
  • प्रतिपदा तिथि समाप्त: रात 08 बजकर 20 मिनट (बुधवार, मार्च 22, 2023)

चैत्र नवरात्रि का महत्व

हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रम संवत् का पहला दिन है। चैत्र माह से ही हिंदू नववर्ष की शुरुआत होती है। माना जाता है कि इसी दिन कालगणना की शुरुआत हुई थी। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान ब्रह्मा ने देवी दुर्गा के कहने पर ही इसी दिन सृष्टि की रचना की थी। इसी दिन सूर्य की पहली किरण पृथ्वी पर फैली थी। 9 ग्रह, 27 नक्षत्र और 12 राशियों का उदय इसी दिन हुआ था। एक अन्य मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार का जन्म भी इसी दिन हुआ था।

चैत्र नवरात्रि मौसम में बदलाव का भी प्रतीक है। इस दौरान शीत ऋतु के गमन के बाद ग्रीष्म ऋतु का आगमन धीरे-धीरे होने लगता है। मौसम में परिवर्तन के कारण कई तरह के रोगों का सामना भी करना पड़ता है इसलिए श्रद्धालु अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मज़बूत करने के लिए व्रत करते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि का हर दिन शुभ होता है इसलिए इसके नौ दिनों में कोई भी शुभ कार्य बिना मुहूर्त के किए जा सकते हैं।

चैत्र नवरात्रि से जुड़ी महत्वपूर्ण परंपराएं व अनुष्ठान

चैत्र नवरात्रि से जुड़ी महत्वपूर्ण परंपराएं व अनुष्ठान निम्न हैं:

  • नवरात्रि शुरु होने से पहले श्रद्धालु देवी मां के स्वागत के लिए पूरे घर की अच्छे से सफाई करते हैं।
  • नवरात्र के पूरे नौ दिन देवी के भक्त उपवास और पूजा-अर्चना करते हैं। इस दौरान केवल सात्विक भोजन ही किया जाता है जिनमें कुट्टू का आटा, दही, फल आदि शामिल हो सकते हैं। इन दिनों प्याज, लहसुन और मांसाहारी भोजन का पूरी तरह परहेज़ किया जाता है।
  • कुछ श्रद्धालु पूरे नौ दिन व्रत न रखकर अपनी क्षमतानुसार व्रत करते हैं।
  • नवरात्रि के दौरान भक्त उपवास करने के अलावा अपने व्यवहार पर भी संयम बनाए रखते हैं। इस दौरान भक्त अपना ज़्यादातर समय धार्मिक कार्यों में व्यतीत करते हैं। वे देवी दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा और विभिन्न मंत्रों का जाप करते हैं। नवरात्र के आखिरी दिन हवन और कन्या पूजन करने के बाद ही यह व्रत खोला जाता है।
  • नवरात्र के नौ दिनों में अलग-अलग दिन मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। मां दुर्गा के प्रत्येक रूप की अपनी अलग महिमा है। जैसे कि मां महागौरी भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण करती हैं। मां कालरात्रि काल का नाश करने वाली देवी हैं।
  • नवरात्रि के पहले दिन शुभ मुहूर्त में घटस्थापना की जाती है। घटस्थापना के बाद ही श्रद्धालु व्रत और देवी दुर्गा की उपासना करने का प्रण लेते हैं।

Book Durga Saptashati Path with Samput

क्यों की जाती है घटस्थापना?

ये तो सभी जानते हैं कि नवरात्र के पहले दिन घटस्थापना या कलश स्थापना की जाती है लेकिन बहुत कम ही लोग यह जानते हैं कि हम घटस्थापना करते क्यों हैं?

हिदू पौराणिक ग्रंथों के अनुसार घट या कलश को भगवान विष्णु का रूप माना जाता है। देवी दुर्गा की पूजा करने से पहले कलश पूजन किया जाता है। कलश स्थापना करने से पहले पूजा स्थल को गंगाजल से शुद्ध किया जाता है। उसके बाद सभी देवी-देवताओं को पूजा में आमंत्रित किया जाता है।

कलश को पांच तरह के पत्तों से सजाया जाता है जिसमें हल्दी की गाठ, सुपारी, दूर्वा आदि रखा जाता है। इसके साथ ही देवी अन्नपूर्णा को प्रसन्न करने के लिए मिट्टी के पात्र में बालू डालकर जौ भी उगाया जाता है। पूजा स्थल पर एक अखंड दीप जलाया जाता है जिसे नवरात्र के आखिरी दिन तक जलना चाहिए। कलश स्थापना के बाद गणेशजी और मां दुर्गा की पूजा की जाती है और उसके बाद नवरात्र का व्रत शुरु हो जाता है।


Book Online 9 Day Durga Saptashati Path with Hawan

चैत्र नवरात्रि 2023 पर कब किस देवी की होगी पूजा

नवरात्र के नौ दिनों में दुर्गा मां के निम्न अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है:

  • पहला दिन- मां शैलपुत्री पूजा (22 मार्च 2023)
  • दूसरा दिन- मां ब्रह्मचारिणी पूजा (23 मार्च 2023)
  • तीसरा दिन- मां ब्रह्मचारिणी (24 मार्च 2023)
  • चौथा दिन- मां चंद्रघण्टा (25 मार्च 2023)
  • पांचवां दिन- मां स्कंदमाता (26 मार्च 2023)
  • छठा दिन- मां कात्यायनी (27 मार्च 2023)
  • सातवां दिन- मां कालरात्री (28 मार्च 2023)
  • आठवां दिन- मां महागौरी (29 मार्च 2023)
  • नवां दिन- मां सिद्धीदात्री (30 मार्च 2023)

नवरात्र के दौरान पूजा-अर्चना और व्रत करने के अलावा कुछ अन्य बातों का भी ध्यान रखना होता है। जैसे कि किसी को बुरा-भला न कहना, स्त्री का सम्मान करना आदि। इसके बारे में आप हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषियों से परामर्श लेकर और विस्तार से जान सकते हैं।


Previous
बुरी नज़र से बचने के उपाय-

Next
राहुकाल क्या है, इसमें कौन से कार्य हैं वर्जित