२०२० का पहला चंद्रग्रहण: जानिए आपकी राशि पर क्या होगा प्रभाव | Future Point

२०२० का पहला चंद्रग्रहण: जानिए आपकी राशि पर क्या होगा प्रभाव

By: Future Point | 10-Jan-2020
Views : 4343
२०२० का पहला चंद्रग्रहण: जानिए आपकी राशि पर क्या होगा प्रभाव

हमारे सौरमंडल की ग्रहकक्षा में जब सूर्य पृथ्वी और चंद्रमा एक सीध में आ जाते हैं| इस घटना में पृथ्वी, सूर्य और चंद्रमा के बीच में आ जाती है| जिसके कारण चंद्रमा अदृश्य हो जाते हैं या दृश्यता कम हो जाती है| यह घटना पूर्णिमा की रात को होती है| इस दिन सूर्य और चन्द्रमा आमने सामने होते हैं, अर्थात एक-दूसरे से सप्तम भाव में होते हैं, साल 2020 का प्रथम चंद्रग्रहण दिनांक 10 जनवरी (पौष पूर्णिमा)को शुक्रवार के दिन होने जा रहा है| यह चंद्रग्रहण अत्यंत अरिष्टकारक है| क्योंकि इस दिन सभी पाप ग्रहों की दृष्टि इस ग्रहण पर होगी, यह ग्रहण मिथुन राशि में होने जा रहा है| जिसमे चन्द्रमा और राहु की युति है, और सभी पाप ग्रह मंगल,सूर्य,शनि,बुध,और केतु, चन्द्रमा को दृष्ट करके पीड़ित कर रहे हैं| और इस दिन चन्द्रमा केमद्रुम दोष से भी ग्रसित है, जिसका अच्छा कम और बुरा प्रभाव ज्यादा देखने को मिलेगा| क्योंकि चन्द्रमा है मन, और जब किसी जातक का चन्द्रमा अर्थात मन पाप ग्रहों के प्रभाव में होता है, तो उसकी मनोदशा अच्छी नहीं रहती, जिसके कारण कई बनते काम बिगड़ जाते हैं, और वह कई प्रकार की परेशानियों व समस्याओं में घिर जाता है| इस चंद्रग्रहण का अच्छा और बुरा प्रभाव सभी राशि के जातकों पर देखने को मिलेगा, लेकिन इस ग्रहण का शुभ प्रभाव कम रहेगा, क्योंकि इस ग्रहण पर सूर्य बुध शनि मंगल व केतु पापी ग्रहों की दृष्टि हैं| केवल गुरु शुभ ग्रह है, जो देख रहा है, लेकिन वह भी सूर्य से अस्त होने के कारण अपना शुभ प्रभाव नहीं दे पाएंगे| जिसका चराचर जगत पर कुछ विशेष प्रभाव देखने को मिलेगा| इसलिए मेष से मीनराशि पर्यन्त जातकों को इस चंद्रग्रहण का अत्यंत तीव्र अच्छा या बुरा प्रभाव देखने को मिलेगा|

वैदिक ज्योतिष के अनुसार ग्रहण की घटना अशुभ मानी जाती है| इसलिए इस दौरान कई तरह के शुभ कार्यों को करना वर्चित माना गया है, ज्योतिष विशेषज्ञों के अनुसार ग्रहण से केवल प्रकृति पर ही फर्क नहीं पड़ता बल्कि मानव जाति भी प्रभावित होती है| आइए जानते हैं कि वर्ष 2020 के प्रथम चंद्रग्रहण का इस सृष्टि पर क्या प्रभाव पड़ेगा| वर्ष 2020 में पहला चंद्र ग्रहण वर्ष के पहले माह यानि 10-11 जनवरी को लगेगा| यह चंद्र ग्रहण भारतीय समयानुसार करीब 10 बजकर 37 मिनट पर लगेगा, और 11 जनवरी को रात्रि 2 बजकर 42 मिनट तक रहेगा| इस ग्रहण की कुल अवधि 4 घंटे 06 मिनट है| वर्ष का पहला चंद्र ग्रहण यूरोप, अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों में देखा जा सकता है| यह चंद्रग्रहण मिथुन राशि में पुनर्वसु नक्षत्र के दौरान घटित होगा| इसलिए मिथुन राशि के जातकों पर इस ग्रहण का विशेष प्रभाव देखने को मिलेगा|

Read in English - 1st Lunar Eclipse of 2020: With 5 Planet Conjunction

चंद्रग्रहण का मेष राशि पर प्रभाव-

मेष राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव मिला-जुला ही देखने को मिलेगा| यह ग्रहण मेष राशि से तीसरे भाव अर्थात पराक्रम स्थान में लगने जा रहा है| जिसके कारण आपके पराक्रम में वृद्धि होगी, हालांकि परिवार में आपके छोटे भाई-बहनों को कष्ट हो सकता है| आप किसी छोटी यात्रा पर जा सकते हैं| इस यात्रा का आपको लाभ मिलेगा| इस दौरान आपका गुस्सा अधिक बढ़ सकता है, जिसके कारण आप किसी बेकार के वाद-विवाद में पड़ सकते हैं, जो आपको काफी लंबे समय तक परेशान कर सकता है| क्रोध पर नियंत्रण रखें, और हरएक फैसला सोच समझ कर लें|

उपाय-

इस दिन सूर्य भगवान को अर्घ्य प्रदान करें, और किसी ब्राह्मण को गेहूं व गुड़ का दान करें|

तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए|

चंद्रग्रहण का वृषभ राशि पर प्रभाव-

वृषभ राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव खराब ही देखने को मिलेगा| यह ग्रहण वृषभ राशि से दूसरे भाव में लगने जा रहा है| इस राशि के जातकों के लिए धन का नुकसान हो सकता है| जिसके कारण आपको आर्थिक रूप से कुछ परेशानी फेस करनी पड़ सकती है| इस दौरान आप अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें, अन्‍यथा आपका परिवार में या ऑफिस में लड़ाई-झगड़ा हो सकता है| ससुराल पक्ष के साथ संबंधों को लेकर सावधान रहें, आपका वहां भी विवाद हो सकता है| आप इस समय में किसी गंभीर बिमारी या आर्थिक परेशानी का शिकार हो सकते हैं|

उपाय-

अपने पिता की सेवा करें, और 6 मुखी रुद्राक्ष धारण करें|

मंदिर या किसी धार्मिक स्थान में चावल, चांदी और दूध आदि सफेद वस्तुओं का दान करें|

चंद्रग्रहण का मिथुन राशि पर प्रभाव-

मिथुन राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव अधिक अरिष्टकारक देखने को मिलेगा| यह ग्रहण आपकी राशि में ही लगने जा रहा है| इसलिए इसका प्रभाव बहुत अच्‍छा नहीं कहा जा सकता, इस दौरान आपको मानसिक कष्‍टों से गुजरना पड़ेगा, और मानसिक चिंताओं से भी ग्रसित रहेंगे| परिवार में किसी का स्‍वास्‍थ्‍य भी खराब हो सकता है, और आपको सेहत से जुड़ी समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है| परिजनों या जीवनसाथी से भी झगड़ा हो सकता है| धैर्य ना खोएं, संतुलन बना कर रखें|

उपाय-

विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत्र का पाठ करें|

इस दिन एक किलो चावल और एक किलो गुड़ मंदिर में चढ़ाएं|

चंद्रग्रहण का कर्क राशि पर प्रभाव-

कर्क राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव मिश्रित देखने को मिलेगा| यह ग्रहण आपकी राशि से बाहरवें भाव में लगने जा रहा है| इसके चलते आपके खर्च बढ़ सकते हैं| बेफजूल की यात्राएं हो सकती हैं| पति पत्नी के मध्य आंतरिक कलह हो सकती है| लेकिन यदि आप विदेश जाने के इच्छुक हैं तो यह समय आपके लिए अनुकूल है| इस समय अवधि में वाद-विवाद से बचें, और प्रत्येक कार्य सोच समझ कर करें|

उपाय-

सफेद वस्त्र, चावल, शंख, सफेद चंदन, श्वेत पुष्प, चीनी, दही, दूध, मोती, 1 जोड़ा जनेऊ, दक्षिणा के साथ दान करें|

गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण करें, और पंचामृत मिश्रित जल से स्नान करें|

चंद्रग्रहण का सिंह राशि पर प्रभाव-

सिंह राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का लगभग शुभ प्रभाव ही देखने को मिलेगा| यह ग्रहण आपकी राशि से ग्याहरवें भाव में लगने जा रहा है, जिसके कारण आपको अप्रत्‍याशित लाभ हो सकता है| आपकी आय में बढ़ोतरी हो सकती है, अपने बड़े भाई से भी किसी प्रकार का लाभ मिल सकता है| और रूके हुए धन की वापसी भी हो सकती है| परिवार में भी किसी से उपहार मिल सकता है, संतान पक्ष से कोई चिंता हो सकती है| प्रेम संबंधों के लिहाज से समय अच्‍छा नहीं है, आपका प्रेमी से झगड़ा हो सकता है, जिसके कारण आपके सम्बन्ध खराब हो सकते हैं|

उपाय-

“आदित्य हृदय स्तोत्र” का पाठ करें|

रोटी में गुड़ डाल कर गाय को खिलाएं| ग्रहण वाले दिन लाल चन्दन को घिसकर स्नान के जल में डाल कर स्नान करें|

चंद्रग्रहण का कन्या राशि पर प्रभाव-

कन्या राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव मिला-जुला देखने को मिलेगा| यह ग्रहण आपकी राशि से दशवें भाव में लगने जा रहा है, इस दौरान कार्यालय में अधिकारियों से सामंजस्‍य बना रहेगा, लेकिन इस समय कोई नया व्यवसाय शुरू न करें, परिवार में भी तालमेल बिगड़ सकता है| स्‍वास्‍थ्‍य की तरफ विशेष ध्‍यान दें,अभी स्‍वास्‍थ्‍य खराब हो सकता है| परिवार में कलह,और मानसिक तनाव में बढ़ोत्तरी हो सकती है| इसलिए इस समय में विशेष सावधानी बरतें|

उपाय-

इस समय के दौरान गणेश भगवान की पूजा अर्चना करें|

गाय को हरा चारा और किन्नरों को हरे रंग के वस्त्र देना शुभ होगा|

चंद्रग्रहण का तुला राशि पर प्रभाव-

तुला राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता, यह ग्रहण आपकी राशि से नवमें भाव अर्थात भाग्य स्थान में लगने जा रहा है| समय और परिस्थितियों को देखते हुए ही कार्य करना आपके लिए बेहतर साबित होगा| किसी नए कार्य का शुभारंभ करना या जल्दबाजी में कोई निर्णय लेना नुकसान दायक हो सकता है| व्यवसाय में उतार-चढाव रहेगा, नौकरी में पदोन्नति हो सकती है परिवार वालों के साथ आपसी सामंजस्य बनाए रखने का प्रयास करें| हरएक कार्य को सोच विचार कर ही करें|

उपाय-

इस दिन अपने भोजन में से एक रोटी गाय को, एक कौवे और एक कुत्ते को अवश्य दें|

सात मुखी रुद्राक्ष धारण करना श्रेयकर रहेगा|

चंद्रग्रहण का वृश्चिक राशि पर प्रभाव-

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए यह चंद्रग्रहण अच्छा नहीं कहा जा सकता, क्योंकि यह ग्रहण आपकी राशि से आठवें भाव में लगने जा रहा है| इसलिए वृश्चिक राशि के जातकों को बहुत ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है| क्योंकि इस समय इन्हें कई प्रकार के संकटों का सामना करना पड़ सकता है| वाहन चलाते समय विशेष सावधानी बरतनी होगी, क्योंकि इस समय में आप किसी दुर्घटना के शिकार भी हो सकते हैं| आपकी सेहत अत्याधिक खराब भी हो सकती है| स्वास्थ्य की ओर विशेष ध्‍यान दें| चंद्र ग्रहण के चलते आपके लिए धन की हानि भी हो सकती है, ऐसे में सतर्क रहें, प्रत्येक कार्य सोच समझ कर करें|

उपाय-

हनुमानजी को सिंदूर और चमेली का तेल चढ़ाएं|

बारह मुखी रूद्राक्ष को धारण करने या फिर अपने पास रखने से लाभ मिलेगा|

चंद्रग्रहण का धनु राशि पर प्रभाव-

धनु राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव अच्छा नहीं कहा जा सकता, यह ग्रहण आपकी राशि से सातवें भाव में लगने जा रहा है| धनु राशि के लोगों को अपने पारिवारिक जीवन में ध्‍यान देने की जरूरत है, पारिवार में कलहपूर्ण वातावरण तथा आपका आपके जीवनसाथी के साथ किसी प्रकार का झगड़ा भी हो सकता है| यह समय पति पत्नी के लिए कष्टकारी रहेगा, दूसरी तरफ बिजनेस में भी घाटे की स्थिति रहेगी| साझेदारी में किसी के साथ बिजनेस न करें, क्योंकि उसमे भी विवाद हो सकता है|

उपाय-

इस दिन घी का दीप जलाकर भगवन विष्णु की पूजा करें, और विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत्र का पाठ करें|

अपने माता पिता और गुरु का आशीर्वाद लें, व ॐ नमो भगवते वासुदेवाय || इस मंत्र का जप करें|

चंद्रग्रहण का मकर राशि पर प्रभाव-

मकर राशि के जातकों के लिए इस चंद्रग्रहण का प्रभाव मिला-जुला रहने वाला है| यह ग्रहण आपकी राशि से छठे भाव में लगने जा रहा है| इस समय अवधि में आप अपने शत्रुओं पर हावी रहेंगे| और वहीं यदि आपका कोई कोर्ट केस चल रहा है तो आपको उसमें भी सफलता मिल सकती है| बाहरी कोई ताकत आपका अहित नहीं कर पाएगी लेकिन इस समय अब्धि में आपको अपने स्वास्थ्य की और विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है| इस समय आपको स्वास्थ्य से सम्बंधित परेशानी हो सकती है| पानी से होने वाले रोगों को लेकर सतर्क रहें, खान-पान का विशेष ध्यान रखें|

उपाय-

श्री हनुमान यंत्र रखने या धारण करने से लाभ मिलेगा|

इस दिन चींटी और कौवे को रोटी खिलाएं|

चंद्रग्रहण का कुम्भ राशि पर प्रभाव-

कुम्भ राशि के जातकों के लिए यह चंद्रग्रहण शुभ फलदायक है| यह ग्रहण आपकी राशि से पांचवें भाव में लगने जा रहा है| इस दौरान संतान पक्ष से अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे| यदि वे पढ़ाई कर रहे हैं तो उन्हें पढ़ाई में सफलता मिलेगी| प्रेम संबंधों के लिए भी समय अच्छा है प्रेम संबंधों में मधुरता बनी रहेगी| हालांकि आपको या परिवार में किसी को पेट से सम्बंधित परेशानी हो सकती है| इसलिए खान-पान का विशेष ध्‍यान रखें|

उपाय-

ऊँ प्रां प्रीं प्रौं स: शनिश्चराय नम:|| इस मंत्र का जप करें|

इस दिन मंदिर में जाकर भगवान विष्णु को तुलसी दल सहित पीली वस्तुयें अर्पित करें|

चंद्रग्रहण का मीन राशि पर प्रभाव-

मीन राशि के जातकों के लिए यह चंद्रग्रहण मिले-जुले परिणाम देने वाला होगा| यह ग्रहण आपकी राशि से चौथे भाव में लगने जा रहा है| राहु और चन्द्रमा की चौथे भाव में युति माँ के स्वास्थ्य और सुखों में कमी करने वाली होगी| यदि आप कोई मकान या वाहन खरीदना चाहते हैं| तो यह समय अधिक अनुकूल नहीं है| और इस समय में आपको अपने प्रेम संबंधों और वैवाहिक जीवन को लेकर भी सर्तकता बरतने की आवश्यकता है| इस दौरान प्रत्येक कार्य को करने से पहले विचार-विमर्श अवश्य करें|

उपाय-

इस दिन रोटी में चने की दाल, गुड़ एवं हल्दी डालकर गाय को खिलाएं|

नौ मुखी रूद्राक्ष को धारण करने या फिर पूजा स्थान पर रखने से लाभ मिलेगा|


Previous
1st Lunar Eclipse of 2020: With 5 Planet Conjunction

Next
बुध गोचर 2020: जानिए बुध का राशि परिवर्तन से होने वाले प्रभाव के बारे में