सूर्य का मीन राशि में परिवर्तन - जानिए, क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

By: Future Point | 29-Jan-2020
Views : 3846
सूर्य का मीन राशि में परिवर्तन - जानिए, क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को अग्नि तत्व का प्रतिनिधि और हमारे आत्मबल व आरोग्यता का कारक माना जाता है| यही कारण है कि जब भी कुंडली में सूर्य की स्थिति कमजोर होती है| तो व्यक्ति का आत्मबल कमजोर पड़ जाता है। वरिष्ठ अधिकारीयों से कम बनती है या उनके कारण तरक्की नहीं हो पाती, पिता के सुखों में कमी और स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानियां रहती हैं| लेकिन कुंडली में सूर्य प्रबल हो तो जीवन में तरक्की, सफलता और सम्मान के साथ ही पिता के साथ बेहतर संबंध भी स्थापित होते हैं। वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो सूर्योदय के समय जहाँ सूर्य के दर्शन करना आँखों के लिए बेहद फ़ायदेमंद माना जाता है। तो वहीं उसकी किरणे हमारे शरीर पर पड़ने से हमे विटामिन डी की प्राप्ति भी होती है, जो हमारी हड्डियों को मज़बूत बनाती है। समाज में उच्च पदस्थ नौकरी पाने अथवा मान सम्मान प्राप्ति के लिए भी सूर्य का अच्छी स्थिति में होना आवश्यक है। यह हमारे कुल का द्योतक है। पौराणिक मान्यताओं अनुसार श्री राम का जन्म भी सूर्य वंश में ही हुआ था। तभी इन्हें हनुमान जी के गुरु बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

सूर्य का राशि परिवर्तन संक्रांति कहलाता है। 14 मार्च को सूर्य गुरु की राशि मीन में परिवर्तन कर रहे हैं। मीन राशि के स्वामी गुरु के साथ इनका संबंध मैत्रीपूर्ण होता है। ऐसे में ग्रहों का यह योग आपके लिए क्या संयोग बना रहा है। सूर्य देव राशि चक्र का भ्रमण करते हुए अंतिम राशि मीन में 14 मार्च की सुबह 11 बजकर 54 मिनट पर गोचर करेंगे। इसके साथ ही मलमास शुरू हो जाएगा। सौरवर्ष के अनुसार यह साल का अंतिम महीना भी होगा। 13 अप्रैल को जब सूर्य मेष राशि में प्रवेश करेंगे, उस दिन से नया संवत्सर भी शुरू हो जायेगा। ऐसे में हिंदू वर्ष का अंतिम महीना आपके लिए कैसा रहेगा। आइये देखते हैं मीन राशि के सूर्य का सभी राशियों पर कैसा प्रभाव पड़ेगा।

मेष राशि (Aries)

मेष राशि वालों के लिए सूर्यदेव पांचवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से बारहवें भाव में गोचर करेंगे| इस गोचर का सबसे अधिक लाभ उन जातकों को मिलेगा जो विदेश में पढाई करने के लिए सोच रहे हैं। इस दौरान उनकी यह इच्छा पूरी हो सकती है। नौकरी से असंतुष्ट जातकों को इस समय नए और बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं। लेकिन इस भाव में सूर्य की उपस्थिति से आपका स्वास्थ्य कुछ कमज़ोर रह सकता है। इस दौरान अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखें। साथ ही वाहन आदि में सफर करते समय सावधानी बरतें। प्यार के मामले में तकारार बढ़ने के भी आसार हैं। इस दौरान आप अपने साथी की भावनाओं को आहत न करें न ही उनके साथ किसी भी प्रकार की बहसबाजी में पड़ें।

ॐ आदित्याय विद्महे दिवाकराय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयात". इस मन्त्र का १०८ बार जाप करें|
लाल चन्दन को घिसकर स्नान के जल में डाल कर स्नान करें|

वृषभ राशि (Taurus)

वृषभ राशि वालों के लिए सूर्यदेव चौथे भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में गोचर करेंगे| इसके प्रभाव से आपकी आमदनी में वृद्धि होगी, और प्रॉपर्टी में लाभ के साथ विदेश यात्रा का भी मौका मिल सकता है| इस दौरान आपको शेयर मार्केट में फायदा हो सकता है। आपको कोई भी काम जल्‍दबाज़ी में नहीं करना चाहिए। जो जातक अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं, उनके लिए यह गोचर बेहद खास साबित हो सकता है| जमीन-जायदाद में लाभ मिलने की प्रबल संभावना है। नौकरी करने वालों को अपने उच्च अधिकारियों का सहयोग प्राप्त होगा। परिवार में कुछ हद तक तानव की स्थिति बनी रहेगी। यह समय दोस्तों के साथ अच्छा समय व्यतीत करने के लिहाज से भी काफी बेहतर कहा जा सकता है।

सूर्याष्टकम स्तोत्र का नित्य पाठ करें|
गाय को गेहुं और गुड़ मिलाकर खिलाना श्रेयकर रहेगा|

मिथुन राशि (Gemini)

मिथुन राशि वालों के लिए सूर्यदेव तीसरे भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से दशवें भाव में गोचर करेंगे| नौकरी करने वाले व्यक्ति कार्यक्षेत्र में सफलता प्राप्त करेंगे| और कार्यस्थल पर पदोन्नति के योग भी बन रहे हैं, आपके काम की तारीफ भी हो सकती है| इस दौरान आपके लिए विशेष रूप से कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलने की अच्छी संभावना नजर आ रही है। हालाँकि इस दौरान काम की अधिकता होने की वजह से आपको निजी जीवन में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस गोचर के दौरान आपकी माता जी की सेहत खराब हो सकती है, इसलिए इस अवधि में उनकी सेहत का विशेष ख्याल रखें| राजनीति से संबंध रखने वाले जातकों के लिए यह गोचर लाभकारी साबित हो सकता है। उन्हें अपने राजनीतिक क्षेत्र में सफलता मिलने की प्रबल संभावना है।

आदित्य ह्रदयस्त्रोत का पाठ करना शुभ फलदायक रहेगा|
बहते पानी में तांवे का सिका बहाएं।

कर्क राशि (Cancer)

कर्क राशि वालों के लिए सूर्यदेव दूसरे भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से नवमें भाव में गोचर करेंगे| इस समय आपके मान सम्मान और भाग्य की वृद्धि होगी, इस गोचर के दौरान आपकी इच्छाशक्ति में बढोतरी होगी, और आपका शरीर ऊर्जा से भरपूर रहेगा, हालाँकि कार्यक्षेत्र की बात करें, तो यहाँ भाग्य का आपको पूरा साथ मिलेगा। किसी छोटी यात्रा पर भी जा सकते हैं| धार्मिक कार्यों में आपकी रुचि बढ़ेगी| समाज के प्रतिष्ठित लोगों के साथ आपका मेल मिलाप बढ़ेगा| झूठे आरोपों से बचकर रहना होगा| पिता के साथ किसी बात पर बहस हो सकती है, गोचर की इस अवधि में अपनी सेहत को भी नज़रअंदाज़ न करें। क्योंकि आपको घुटनों में दर्द की समस्या हो सकती है। परिवार में भाई बहनों के साथ किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती है।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः" इस मन्त्र का १०८ की संख्या में जाप करें|
माणिक्य, गुड़, कमल का फूल, लाल-वस्त्र, लाल-चन्दन, एवं तांबा दक्षिणा सहित रविवार के दिन दान करें।

सिंह राशि (Leo)

सिंह राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि के स्वामी होकर आपकी राशि से आठवें भाव में गोचर करेंगे| आठवां भाव दुर्घटनाओं और बाधाओं को दर्शाता है। इस दौरान आपके स्‍वास्‍थ्‍य में गिरावट आ सकती है| सीनियर्स से भी सहयोग मिलने की उम्मीद थोड़ी कम है।कार्यक्षेत्र में चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। आंख व हड्डियों संबंधी रोगों से विशेष रूप से सावधान रहने की जरूरत है। आर्थिक रूप से देखें तो सूर्य का यह गोचर आपके लिए जहां एक तरफ धन लाभ लेकर आएगा वहीं दूसरी तरफ धन हानि की स्थितियां भी बना सकता है। इस दौरान अगर आप वाहन चलाते हैं तो विशेष सावधानी बरतें। ख़ासकर शराब या फिर अन्य प्रकार के मादक पदार्थों का सेवन करके वाहन बिल्कुल न चलाएं।

नित्य गायत्री मंत्र का जाप करें
तांबे का कड़ा हाथ में धारण करें।

कन्या राशि (Virgo)

कन्या राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से बारहवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से सातवें भाव में गोचर करेंगे| इस गोचर के दौरान आपको अपने जीवनसाथी के साथ ताल-मेल बिठा कर चलना होगा, उनकी भावनाओं को समझना होगा, अगर आप दोनों के बीच किसी प्रकार की ग़लतफहमी होती है तो उस ग़लतफहमी को तुरंत दूर करने का प्रयास करना होगा। इससे आप दोनों के बीच पारस्परिक संबंध अच्छे बने रहेंगे। इस दौरान आपके खर्चों में भी वृद्धि हो सकती है। गुस्से पर काबू रखें और किसी से बहस न करें। करियर के लिए समय शुभ संकेत दे रहा है। नौकरी में तरक्की होने की प्रबल संभावना दिखाई दे रही है। अगर साझेदारी में किसी के साथ व्यापार कर रहे हैं तो उसके लिए भी यह समय चुनौतीपूर्ण हो सकता है। बिजनेस पार्टनर से संबंधों को न बिगड़ने दें। अगर आप इस समय साझेदारी में व्यापार करने की शुरुआत करने वाले हैं तो इसके लिए समय अनुकूल नहीं है। स्वास्थ्य के लिहाज से देखें तो इस दौरान आप अपनी सेहत को लेकर परेशान हो सकते हैं। इसलिए अपनी सेहत का पूरा ख्याल रखें|

शुभ फलों की प्राप्ति के लिए गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण करें|
सूर्य को मिश्री युक्त जल चढ़ाएं।

तुला राशि (Libra)

तुला राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से ग्यारहवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से छठे भाव में गोचर करेंगे| इस गोचर के दौरान आपको निवेश सोच समझकर ही करना लाभदायक होगा, क्योंकि आपको धन हानि हो सकती है। अपने खर्चों पर नियंत्रण करने का प्रयास करें। पिता जी से धन लाभ हो सकता है। किसी महिला के कारण आपके कार्यों में बाधा आ सकती है| अगर आपका कोई अदालती या कानूनी प्रकरण चल रहा है, तो फैसला आपके पक्ष में आने की संभावना है। कड़ी मेहनत से आप विरोधियों को परास्त कर पाएंगे, यह समय स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने का है। बुखार, सिरदर्द, घुटनों में दर्द, और आंख सबंधी संक्रामक रोग आपको परेशान कर सकते हैं।

आदित्य-ह्रदय स्तोत्र का पाठ करें।
तांबा, गेहूं एवं गुड़ का दान करें|

वृश्चिक राशि (Scorpio)

वृश्चिक राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से दशवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से पांचवें भाव में गोचर करेंगे| नौकरी में बदलाव या स्थान परिवर्तन हो सकता है। पारिवारिक जीवन में भी कुछ परेशानियां आएंगी। लेकिन कठिन परिश्रम कर सफलता प्राप्त कर सकते हैं। जो जातक सरकारी नौकरी से जुड़े हुए हैं उन्हें लाभ प्राप्त होना सम्भव है| यह समय शिक्षा के लिए बेहतर है, यदि आप डटकर मेहनत करते हैं तो इस समय में मनचाहा परिणाम पा सकते हैं| अगर आप अपनी नौकरी बदलना चाह रहे हैं तो यह समय आपके पक्ष में है| अवसर का लाभ उठायें| इस दौरान पेट से संबंधित परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखें।

ॐ घ्रणि सूर्याय नम: का जाप करें।
लाल चन्दन या केशर का तिलक लगायें|

धनु राशि (Sagittarius)

धनु राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी राशि से नवमें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से चौथे भाव में गोचर करेंगे| इस गोचर के दौरान आपके परिवार का माहौल थोड़ा अशांत रह सकता है। परिवार के सदस्यों के बीच किसी बात को लेकर मतभेद की स्थिति भी बन सकती है। हालाँकि इस दौरान आपकी माता जी की सेहत अच्छी रहने की उम्मीद है| राजनीती और सरकारी नौकरी करने वाले जातकों के लिए यह समय काफी अच्छा कहा जा सकता है। इस दौरान नौकरी करने वालों की पदोन्नति हो सकती है और आपके काम के लिए बॉस से सराहना भी मिल सकती है। इस समय आप वाहन अथवा घर भी खरीद सकते हैं। प्रॉपर्टी से सम्बंधित विवाद रह सकता है| वैवहिक जीवन में भी इस दौरान परिस्थितियाँ सामान्य रहने वाली है, आपके जीवनसाथी को भी कार्यक्षेत्र में तरक्की मिल सकती है|

विष्णुसहस्रनाम स्त्रोत्र का पाठ करें|
रविवार के दिन लाल वस्तुओं का दान करें।

मकर राशि (Capricorn)

मकर राशि वालों के लिए सूर्यदेव आठवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर करेंगे| भाग्य का सम्पूर्ण साथ मिलेगा, और बिगड़े हुए काम पुरे होंगे| धर्म-कर्म के कार्य में भी खर्च होगा, साझेदारी के मामलों में थोड़ा संभल कर रहने की जरूरत है| यह गोचर आपके लिए यात्रा के योग लेकर आ सकता है, कोई छोटी दूरी की यात्रा करनी पड़ सकती है। पैतृक संपत्ति को लेकर भाई बहनों के साथ मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है, इस गोचर के दौरान आपकी मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, नए लोगों से संबंध बनेंगे, जो लाभदायक साबित होंगे| धार्मिक कार्यों के प्रति आपकी रुचि बढ़ेगी और संभवतः आप किसी धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते हैं| इस दौरान मानसिक और स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानी हो सकती है|

सूर्य यंत्र की स्थापना कर उसकी पूजा अर्चना करें|
शनिवार को पीपल के वृक्ष के नीचे दिया जलाएं।

कुंभ राशि (Aquarius)

कुम्भ राशि वालों के लिए सूर्यदेव सातवें भाव के स्वामी होकर आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेंगे| स्वास्थ्य की दृष्टि से यह गोचर आपके लिए कुछ परेशानी भरा रह सकता है| फूड प्वॉइजन, होने की शिकायत इस दौरान आपको हो सकती है।इस समय आप अनावश्यक वाद-विवाद में भी पड़ कर परेशान हो सकते हैं, इसलिए अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें| बिजनेस में आर्थिक लाभ हो सकते हैं, और घर में किसी नए मेहमान का आगमन भी हो सकता है। आध्यात्मिक कार्य के लिए धन ख़र्च हो सकता है। हालाँकि इससे आपको मानसिक सुकून मिलेगा। परिवार में सामंजस्य की स्थिति बनी रहेगी। मुश्किल समय में परिजनों का साथ मिलेगा। चेहरे में मुंहासे और सिरदर्द जैसी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं।

शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें।
ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः" इस मन्त्र का १०८ की संख्या में जाप करें|

मीन राशि (Pisces)

मीन राशि वालों के लिए सूर्यदेव छठे भाव के स्वामी होकर आपकी राशि में गोचर करेंगे| इस अवधि में सूर्य के प्रभाव से आपके अंदर क्रोध की प्रवृत्ति बढ़ेगी, आपकी सेहत में थोड़ी गिरावट आ सकती है, जैसे-बुखार, सिरदर्द आदि हो सकता हैं, स्वास्थ्य कुछ हद तक प्रभावित ही रहेगा| सरकारी क्षेत्र में काम करने वाले जातकों को इस गोचर का अत्यधिक लाभ मिलने वाला है। इस दौरान समाज में मान-सम्मान में वृद्धि होगी| आपके अंदर नेतृत्व क्षमता का गुण विकसित होगा। यदि आप विवाहित हैं, तो इस दौरान आप अपने जीवनसाथी के साथ रोमांटिक डिनर पर जा सकते हैं और विवाहित जीवन का आनंद उठा सकते हैं।

विष्णु जी की आराधना करें।
गायत्री मंत्र की एक माला जाप करना आपके लिए शुभ रहेगा|


Previous
Mercury Transit in Aquarius: Impact on 12 Zodiac Signs

Next
ज्योतिषीय विश्लेषण: किन गुणों और ग्रहों के प्रभाव से गांधी बने राष्ट्रपिता