कुंडली में किस भाव या राशि में होने पर शनि ग्रह देता है शुभ प्रभाव? | Future Point

कुंडली में किस भाव या राशि में होने पर शनि ग्रह देता है शुभ प्रभाव?

By: Future Point | 25-Nov-2022
Views : 414
कुंडली में किस भाव या राशि में होने पर शनि ग्रह देता है शुभ प्रभाव?

वैदिक ज्‍योतिष के अनुसार शनि क्रूर, पापी और अलगाववादी ग्रह है। शनि धीमी गति से चलने वाला ग्रह है और यह एक राशि में ढाई साल तक रूकता है। शनि मकर और कुंभ राशि का स्‍वामी ग्रह है। शनि तुला में उच्‍च और मेष राशि में नीच का होता है। शनि ग्रह बीमारी, लंबी आयु, आयरन, विज्ञान, डिस्‍कवरी, रिसर्च, खनिज, इंप्‍लॉयी, नौकर, जेल, उम्र, दयालुता, अड़चन, वृद्धावस्‍था, वायु तत्‍व, मृत्‍यु, अपमान, स्‍वार्थीपन, लालच, आकर्षण, आलस कानून, धोखाधड़ी, शराब, काले कपड़ों, वायु विकार, लकवा, गरीबी, भत्ता, कर्ज और जमीन आदि से जुड़ा हुआ है।

शनि को वैदिक ज्‍योतिष में एक अशुभ ग्रह बताया गया है लेकिन अगर यह कुंडली (Kundali) में शुभ स्‍थान या मजबूत स्थिति में हो तो व्‍यक्‍ति को इस ग्रह के शुभ प्रभाव मिल सकते हैं। कमजोर शनि व्‍यक्‍ति को आलसी, थका हुआ, सुस्‍त और तामसिक व्‍यवहार करने वाना बनता है। शनि कुंडली के 6, 8, 12 भावों का कारक है। पीड़ित शनि के प्रभाव से लकवा, जोड़ और हड्डी के रोग, कैंसर, टीबी जैसे दीर्घकालिक रोग उत्पन्न होते हैं।

मान्‍यता है कि शनि व्‍यक्‍ति को हमेशा दर्द और दुख ही देता है लेकिन यह सत्‍य नहीं है। शनि आपको वही देता है, जो आपने अपने जीवन में किया होता है। कहने का मतलब है कि शनि देव आपको आपके कर्मों का फल ही देते हैं। शनि ग्रह को उत्तम शिक्षक भी कहा जाता है। शनि की महादशा, शनि की साढ़ेसाती और शनि की ढैय्या के दौरान व्‍यक्‍ति की परीक्षा होती है। इस समय उसके धैर्य, शक्‍ति और संयम की परीक्षा होती है।

यदि कुंडली में शनि मजबूत स्‍थान में बैठा हो तो यह व्‍यक्‍ति को मेहनती, अनुशासन में रहने वाला बनाता है। शनि के शुभ प्रभाव के कारण व्‍यक्‍ति मेहनती और अपने काम के लिए प्रतिबद्ध होता है। शनि की शुभ स्थिति व्‍यक्‍ति को धैर्यवान बनाती है और उसे जीवन में संतुलन प्रदान करती है। इस प्रभाव के कारण व्‍यक्‍ति को लंबी आयु मिलती है।

विद्वान ज्योतिषियों से फोन पर बात करें और जानें शनि ग्रह का अपने जीवन पर प्रभाव

कब देता है शुभ फल

यदि जन्म कुंडली में शनि की स्थिति शुभ ग्रह के रूप में हो तो व्यक्ति व्यवस्थित जीवन व्यतीत करता है। वह अनुशासित, व्यावहारिक, मेहनती, गंभीर और सहनशील होता है। उसकी कार्यक्षमता बहुत अच्छी है, और वह बिना थके लगातार काम कर सकता है। शनि के बली होने पर जातक दृढ़ निश्चयी और परिपक्व सोच वाला होता है।

शनि व्यक्ति को आध्यात्मिक भी बनाता है। यदि कुंडली में शनि आठवें या बारहवें भाव से संबंधित हो तो व्यक्ति कठोर साधना कर सकता है। शनि से प्रभावित जातक हर काम के प्रति सावधान और सतर्क रहता है। शनि व्यक्ति को व्यापार में कुशलता प्रदान करता है। इसके प्रभाव से मनुष्य हर काम को पूरी लगन और कुशलता से करता है।

शनि कुंडली के तीसरे, सातवें, दसवें या एकादश भाव में शुभ स्थिति में होता है। शनि वृष, मिथुन, कन्या, तुला, धनु और मीन राशि में हो तो शुभ फल देता है। शनि की शुभ स्थिति शुभ फल देती है भले ही शनि निकट युति में हो या कुंडली के शुभ और कारक ग्रहों की दृष्टि में हो। कुंडली में शनि का स्वामी मजबूत होने पर भी शनि शुभ फल देता है।

मान लीजिए नवांश कुंडली में शनि अपनी नीच राशि मेष में नहीं है तो यह शुभ फल देता है। बलवान शनि व्यक्ति को मान सम्मान, लोकप्रियता, धन, पहचान, कड़ी मेहनत, धैर्य, अनुशासन, आध्यात्मिकता, परिपक्वता, सहनशीलता और हर कार्य को पूरी निष्ठा और कुशलता से करने की शक्ति देता है। कुंडली में शनि की शुभ स्थिति गंभीर और कठिन विषयों को समझने की शक्ति देती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली (Janam Kundali) में शनि तीसरे, सातवें या ग्यारहवें भाव में हो तो यह योग व्यक्ति को बहुत मेहनती और पराक्रमी बनाता है। ऐसे लोग हर बाधा को पार कर अपने जीवन में आगे बढ़ते हैं।

तीसरे भाव में स्थित शनि आपके साहस, पराक्रम, लड़ने की क्षमता और मांसपेशियों की शक्ति को बढ़ाता है।

शनि तीसरे भाव में स्थित होने पर छोटे भाई-बहनों के सुख को भी कम करता है। छठा भाव रोग, शत्रु, ऋण, विवाद, मुकदमेबाजी और प्रतिस्पर्धा से संबंधित है। इसलिए छठे भाव में बैठा शनि आपको शत्रुओं को परास्त करने में मदद करता है। छठा घर भी आपकी नौकरी से संबंधित है, और शनि सेवा और नौकरी से संबंधित ग्रह है, इसलिए छठे भाव में शनि नौकरी के माध्यम से अच्छा आर्थिक लाभ देता है।

ऐसा व्यक्ति अपने काम में बहुत मेहनती होता है। लेकिन छठे भाव में स्थित शनि मामा-चाची से मिलने वाले सुख को कम करता है। एकादश भाव में स्थित शनि व्यक्ति की आय में वृद्धि करता है। यदि कोई व्यक्ति पुण्य और शुभ कार्यों में शामिल हो तो शनि कई इच्छाओं को आसानी से पूरा कर सकता है। यहां स्थित शनि बड़े भाई-बहनों के सुख को कम करता है।

सप्तम भाव में शनि दिग्बली है क्योंकि कुंडली में सप्तम भाव पश्चिम दिशा का है और शनि पश्चिम दिशा का स्वामी भी है। इसलिए इस भाव में स्थित शनि बहुत बलवान होता है। सप्तम भाव में स्थित होने से शनि दीर्घकालीन संबंध देता है।

दसवें भाव में शनि बलवान होता है क्योंकि मकर राशि काल पुरुष कुंडली के दशम भाव में आती है। इसलिए इस भाव में शनि का विराजमान होना शुभ होता है। यहां स्थित शनि व्यक्ति को अपने क्षेत्र में कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करता है। ऐसा व्यक्ति कर्मयोगी होता है। ऐसा जातक अपने व्यवसाय में धीरे-धीरे उन्नति करता है।

11 वां घर आय, लाभ, मित्र, इच्छाओं की पूर्ति, समृद्धि  का भाव है। लाभ के मामले में शनि की यह स्थिति अनुकूल है। जातक बहुत साहसी होता है और वह दूसरों की बातों को धैर्य से सुनता है। वह बुद्धिमानी से निर्णय लेता है और दूसरों के सुझावों पर वास्तव में विचार करता है। उसके पास तेज दिमाग और पकड़ने की शक्ति है। तकनीकी कार्यों में उसे अच्छा लाभ मिल सकता है। मित्रों का पूर्ण सहयोग मिल सकता है। ये दोस्त उसके पेशे में उसकी मदद भी कर सकते हैं। वह भाग्य पर निर्भर नहीं होता है।

अपनी कुंडली में सभी दोष की जानकारी पाएं कम्पलीट दोष रिपोर्ट में



View all

2023 Prediction


Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
Receive regular updates, Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, & Astrology Articles curated just for you!

To receive regular updates with your Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, Astrology Articles, Festival Updates, and Promotional Sale offers curated just for you!

Download our Free Apps

astrology_app astrology_app

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Help/Support

Trust

Trust of 36 years

Trusted by million of users in past 36 years