परिवार की कलह और अशांति दूर करने के लिए अपनाएं वैदिक ज्‍योतिष | Future Point

परिवार की कलह और अशांति दूर करने के लिए अपनाएं वैदिक ज्‍योतिष

By: Future Point | 16-Jul-2022
Views : 2820
परिवार की कलह और अशांति दूर करने के लिए अपनाएं वैदिक ज्‍योतिष

हमारे जीवन में परिवार का बहुत महत्‍व होता है। हम क्‍या कर रहे हैं, जीवन में सफल हो रहे हैं या असफलता मिल रही है, इन सभी चीजों में अगर परिवार का साथ मिल जाए तो काफी चीजें आसान लगने लगती हैं। हालांकि, हर किसी के जीवन में परिवार का सुख नहीं होता है। कुछ लोगों को भरा-पूरा परिवार ही नहीं मिल पाता है, तो वहीं कुछ लोगों की अपने परिवार से बनती नहीं है।

ज्‍योतिष में मनुष्‍य की हर समस्‍या का समाधान और जीवन की संभावनाओं का रहस्‍य छिपा है। आपका परिवार कैसा है, घर में कोई आपसे प्‍यार करता है या नहीं, आपकी परिवार से अनबन क्‍यों रहती है, इस तरह की कई चीजों की जानकारी ज्‍योतिष में मिल सकती है। इसके अलावा जीवन के हर पहलू की जानकारी ज्‍योतिष विद्या की मदद से ली जा सकती है। अगर आप भी एस्‍ट्रोलॉजी सीखना चाहते हैं या इस महाविद्या के जरिए पारिवारिक स्‍तर के बारे में कुछ जानना चाहते हैं, तो आप Future Point से Online astrology course सीख सकते हैं।

आगे हम आपको कुंडली में परिवार से संबंधित ग्रहों और पा‍रिवारिक शांति को भंग करने वाले ग्रहों की स्थिति एवं परिवार सुख देने वाली ज्‍योतिषीय स्थिति के बारे में बता रहे हैं।

मुकदमेबाजी और विचारों में अंतर

कई बार प्रॉपर्टी या किसी अन्‍य चीज को लेकर परिवार के सदस्‍य कोर्ट तक पहुंच जाते हैं। यह कुंडली के छठे भाव के स्वामी के कारण होता है। छठा भाव शत्रुओं, मुकदमों, षड्यंत्रों और झगड़ों को दर्शाता है। छठे भाव के स्‍वामी के पास रिश्तों को खराब करने की शक्ति है। छठे घर में कौन-सा ग्रह बैठा है और इस भाव पर किस ग्रह की दृष्टि पड़ रही है, यह सब महत्‍वपूर्ण होता है।

उपेक्षा, उदासीनता और परवाह न करने वाला रवैया

कई बार परिवार के लोग ही एक-दूसरे की परवाह करना छोड़ देते हैं या परिवारजनों की उपेक्षा करने लगते हैं। ऐसा ज्‍यादातर शनि और केतु की वजह से होता है।

कड़वा बोलना और अहंकार

यह स्वाभाविक रूप से मंगल और सूर्य के कारण होता है। दोनों आक्रामक  ग्रह हैं। इन ग्रहों से प्रभावित संबंध के बीच बहुत अहंकार आ जाता है। यही कारण है कि सातवें घर में मंगल और सूर्य रिश्ते को खत्‍म करेन का काम करते हैं। अष्टम का सूर्य परिवार में पत्नी पक्ष के साथ समस्या का कारण बनता है, 11वें भाव में संतान पक्ष के साथ समस्या पैदा होती है और तीसरे भाव में मंगल छोटे भाई-बहनों आदि के साथ अनबन का कारण बन सकता है। मंगल तीसरे या नौवें भाव में भी जीवनसाथी के भाई-बहनों के साथ समस्याओं का संकेत दे सकता है।

 

झूठ बोलना और धोखा देना

परिवार के सदस्‍यों के बीच ऐसे होने की वजह राहू हो सकता है। राहू झूठ, छल और कपट का मुख्य कारक है। यह अहंकार का विस्तार करता है और इसलिए रिश्ते के चारों ओर रहस्य का एक बादल बना देता है। चतुर्थ भाव में राहू परिवार के प्रति विश्वासघाती बनाता है। 5वें भाव में राहू की वजह से व्‍यक्‍ति के बच्‍चों के बच्‍चों की परवरिश कोई और कर सकता है।

जाने अपनी सभी समस्याओं का समाधान पाएं: सम्पूर्ण महा कुंडली रिपोर्ट में

पारिवारिक समस्‍याओं और ज्‍योतिष का संबंध

हर परिवार में कोई न कोई समस्या होती ही है। पारिवारिक समस्‍याएं हमारे कर्मों और ग्रह-नक्षत्रों से प्रभावित होती हैं। प्राचीन काल में यह समस्या बहुत कम हुआ करती थी, क्योंकि प्राचीन काल में सभी लोग या राजा महाराजा ज्‍योतिष्य, कुंडली और शास्त्रों को अपने दोषों से छुटकारा पाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण मानते थे। वे समय-समय पर हवन किया करते थे। घर-परिवार में शांति बनाए रखने के लिए पूजा और दान-पुण्‍य एवं ज्‍योतिषीय उपाय किए जाते रहते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है।

अब य‍दि पारिवारिक कलह को दूर करने के लिए ज्‍योतिष की बात करें तो लोग इसे अंधविश्वास कहते हैं और मानने से इनकार कर देते हैं, लेकिन अगर आप ज्‍योतिष को ठीक से समझें तो पाएंगे कि इस विद्या में मनुष्‍य की हर समस्‍या का समाधान है।

परिवार में कलह पैदा कर रहे ग्रहों के दोषों को दूर करने के लिए हवन किया जाता है। हालांकि, अब लोग इन चीजों में कम विश्‍वास करते हैं लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि ज्‍योतिष की मदद से पारिवारिक कलह को दूर नहीं किया जा सकता है।

यदि हम ज्योतिष पर विश्वास करना और इसे जानना शुरू कर दें तो इसकी मदद से हम अपने जीवन के बारे में काफी कुछ जान सकते हैं। इसकी मदद से हम जान सकते हैं कि हमारी किन कमियों के कारण परिवार में अनबन का माहौल चल रहा है और इसका क्‍या समाधान है। अगर आप भी एस्‍ट्रोलॉजी सीखना चाहते हैं तो vedic astrology distance learning course ले सकते हैं।

पारिवारिक विवादों को सुलझाने में ज्योतिषीय गणनाएं कैसे मदद करती हैं?

कई बार छोटी-छोटी बातें भी इतनी चुभ जाती हैं कि परिवार का कोई सदस्‍य दूर रहने का निर्णय ले लेता है। एक परिवार के लिए य‍ह स्थिति किसी भी तरह से अच्‍छी नहीं होती है इसलिए बेहतर होगा कि आप कुछ ज्‍योतिषीय उपायों की मदद से अपनी पारिवारिक समस्‍याओं को सुलझाने का प्रयास करें।

  • यदि परिवार में किसी एक व्यक्ति के कारण किसी दूसरे सदस्य को परेशानी हो रही है, तो आपको किसी ज्योतिषी से सलाह लेनी चाहिए। आप उस व्यक्ति की कुंडली ज्योतिषी को दिखा सकते हैं। वे आपको बताएंगे कि आपके घर में यह समस्‍या क्‍यों हो रही है और इसका उपाय क्‍या है।
  • वेदों और ज्योतिषी के अनुसार घर में हवन करवाते रहना चाहिए। हवन से आपका घर और मन दोनों ही सकारात्मक ऊर्जा से भर जाते हैं और परिवार एवं घर की नेगेटिविटी दूर होती है। यह आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा को कम कर के ऊर्जा का संचार करता है।
  • आप ज्‍योतिषी या पंडित से अपने घर-परिवार को बुरी नजर से बचाने का उपाय भी पूछ सकते हैं।
  • अपने घर में 21 दिनों तक पवित्र जल या गंगाजल का छिड़काव करें। इससे आपके घर से नेगेटिविटी खत्‍म होती है।
  • दीवाली या नवरात्रि जैसे हर शुभ अवसर पर घर में पूजा जरूर करें। पूजा में परिवार के सभी सदस्यों को हिस्‍सा लेना चाहिए।

एस्‍ट्रोलॉजी कोर्स

आप Future Point से ज्‍योतिष विद्या सीखने का कोर्स कर सकते हैं। यहां पर astrology courses online india करवाए जाते हैं और आप भी घर बैठे इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।


Previous
These Errors May Bring Miseries In Life - Effective Vastu Tips

Next
इस साल कब है सावन शिवरात्रि, जानें पूजा का समय और विधि एवं उपाय