सीता नवमी / जानकी जयंती 2019: जानें कब है जानकी जयंती

By: Future Point | 10-May-2019
Views : 6796
सीता नवमी / जानकी जयंती 2019: जानें कब है जानकी जयंती

पर्व और त्यौहार भारतीय संस्कृति का एक अहम हिस्सा हैं। यदि भारत को त्योहारों की भूमि कहा जाए तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी। भारत में लगभग प्रतिदिन कोई ना कोई त्यौहार या पर्व होता ही है. संपूर्ण भारत में धूमधाम से मनाए जाने वाले त्यौहारों में से एक त्यौहार जानकी जयंती पर्व है. इस दिन देवी सीता का जन्म हुआ है. यह बहुत लोकप्रिय और महत्वपूर्ण पर्व है. इसे सीता नवमी के नाम से भी जाना जाता है. माता सीता के कई नाम थे, जिसमें से जानकी नाम एक लोकप्रिय नाम है. भगवान राम की अर्धांगिनी देवी सीता के जन्मदिवस के दिन माता सीता को विशेष रुप से याद किया जाता है. उनका विशेष रुप से पूजन किया जाता है. आगे बढ़ने से पूर्व आईये जान लें कि देवी सीता कौन है?

सीता माता देवी लक्ष्मी का अवतार हैं जिन्होंने त्रेता युग में मिथिला राज्य में जन्म लिया था। सीता जनक की पुत्री थीं, राजा जनक मिथिला के राजा थे। राजा जनक की पुत्री होने के कारण ही इन्हें जानकी नाम से सम्बोधित किया गया. बाद में देवी जानकी ही भगवान राम की पत्नी बनी. सीता माता को सिया, जानकी, मैथिली, वैदेही या भूमिजा के नाम से भी जाना जाता है। देवी सीता पौराणिक महाकाव्य रामायण का मुख्य बिंदू रही है।

सीता माता को उनके समर्पण, आत्म-बलिदान, पवित्रता और साहस के लिए जाना जाता है। राज्य निर्वासन होने पर वह भगवान राम के साथ गई थी जहां उनका अपहरण राक्षस राजा रावण ने किया था। राक्षस रावण ने देवी को अपने राज्य लंका की अशोक वाटिका में कैद कर रखा. माता सीता को कैद से मुक्त कराने में भगवान राम को हनुमान जी, सुग्रीव जी और अन्य वानरों की सेना का सहयोग प्राप्त हुआ. रावण को मारकर भगवान राम ने देवी सीता को बचाया. देवी सीता को अपनी पवित्रता सिद्ध करने के लिए अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ा. अग्नि परीक्षा से सुरक्षित निकलकर देवी ने अपनी पवित्रता सिद्ध की. अपनी पवित्रता साबित करने के बाद, देवी सीता भगवान राम और लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौट गईं. जहां भगवान राम और सीता को राजा और रानी के रूप में ताज पहनाया गया। उसके बाद देवी सीता का सामाजिक कारणों से भगवान राम ने त्याग कर दिया और देवी सीता को शेष जीवन जंगलों में ॠषि मुनियों के साथ कुटिया में बिताना पड़ा, जहां उनके दो पुत्र लव और कुश हुए. सीता माता पवित्रता और सौम्यता की प्रतीक रही है. यही वजह है कि उन्हें लाखों लोगों द्वारा पूजा जाता है. देवी सीता का पूजन करने से देवी द्वारा भक्तों को वृद्धि, समृद्धि और बुद्धि का आशीर्वाद मिलता है।


सीता नवमी के दिन क्या करें

सीता नवमी हिन्दुओं का एक विशेष त्यौहार है, जो देवी सीता की जयंती के रुप में मनाया जाता है. इस पर्व को विशेष तौर से विवाहित हिंदू महिलाएं मनाती है. इस दिन ये व्रत-उपवास रख अपने पति की लम्बी आयु की कामना ईश्वर से करती है. सीता नवमी वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। यह माना जाता है कि देवी सीता का जन्म पुष्य नक्षत्र में मंगलवार को वैशाख माह की नवमी तिथि को हुआ था। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, राम नवमी के ठीक एक महीने बाद सीता नवमी मनाई जाती है। सीता नवमी पूरे भारत में अत्यंत श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाई जाती है।


सीता नवमी का महत्व

सीता नवमी हिंदू धर्म में एक महान धार्मिक महत्व रखती है। वास्तव में, देवी सीता देवी लक्ष्मी का एक अवतार हैं जो भगवान विष्णु की पत्नी और धन, समृद्धि और सभी सुख-सुविधाओं-विलासिता की देवी है. सीता माता को सभी नश्वर और अन्य जीवित प्राणियों की माता माना जाता है। ये प्रेम, त्याग, भक्ति और पवित्रता की प्रतीक है। भगवान राम के लिए उनका प्रेम और भक्ति सभी स्त्रियों के लिए प्रेरणास्त्रोत का कार्य करती है. ये अपने पति भगवान श्री राम के प्रति धैर्य और भक्ति के लिए पहचानी जाती हैं। इसलिए, विवाहित महिलाएं सीता नवमी के दिन देवी सीता का आशीर्वाद लेती हैं और पवित्रता और ईमानदारी जैसे गुणों से संपन्न होने की प्रार्थना करती हैं। वे देवी सीता से अपने पति की लंबी और सफल जीवन के लिए प्रार्थना करती है. महिलाएं इस दिन सीता नवमी पर पूजा अनुष्ठान और व्रत (उपवास) करती हैं ताकि वे एक खुशहाल और संतुष्ट विवाहित जीवन का आशीर्वाद पा सकें।


सीता नवमी कथा

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी सीता वेदवती का पुनर्जन्म है। वेदवती महान पूजनीय महिला थी जो भगवान विष्णु से विवाह करना चाहती थी। उनके पिता एक महान ब्रह्मऋषि कुशध्वज थे। वेदवती ने भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए एक गहरी तपस्या और तपस्या की। उस समय, लंका का राक्षस राजा, रावण उसकी सुंदरता से प्रभावित था. रावण ने वेदवती की शीलहरण करने का प्रयास किया जिसमें वेदवती रावण से बचकर आग में कूद गई। अग्नि में कूदने से पूर्व उसने रावण को श्राप दिया कि वो रावण को नष्ट करने के लिए फिर से पुनर्जन्म लेगी.

अगले जन्म में वेदवती ने रावण और मंदोदरी की बेटी के रूप में पुनर्जन्म लिया। ज्योतिषियों ने भविष्यवाणी की कि जन्म लेने वाली लड़की रावण की मृत्यु का कारण होगी। इसलिए रावण ने बालिका को समुद्र में फिंकवा दिया. हालांकि, देवी बच्ची को सागर वरुणी ने बचा लिया। उसने बालिका को देवी पृथ्वी को दे दिया। जब मिथिला के राजा जनक भूमि की जुताई कर रहे थे, तो उन्होंने एक सुनहरे वस्त्र में एक बच्ची को पाया. राजा जनक ने इसे देवी पृथ्वी का एक उपहार माना और बच्ची को गोद ले लिया। राजा ने इस बच्ची का नाम 'सीता' रखा। '


सीता नवमी कैसे मनाई जाती है?

सीता नवमी, देवी सीता को सम्मानित और पूजन करने वाला पर्व है। इस दिन, हिंदू भक्त, विशेष रूप से विवाहित महिलाएं देवी सीता, भगवान राम और लक्ष्मण की पूजा करती हैं। एक छोटा पूजा मंडप स्थापित किया गया है जिसे रंगीन फूलों से सजाया जाता है। देवी सीता, भगवान राम, लक्ष्मण, राजा जनक और माता सुनयना की मूर्तियों को मंडप में रखा जाता है. जैसा कि माना जाता है कि माता सीता भूमि से निकली हैं, इसलिए देवी पृथ्वी को भी सीता नवमी पर पूजा जाता है।

भक्त तिल, चावल, जौ और फल चढ़ाकर देवी सीता और देवी पृथ्वी का पूजन करते हैं। विशेष "भोग" तैयार किए जाते है जो पूजा समारोह के पूरा होने के बाद भक्तों के बीच वितरित किए जाते है। पूजन के बाद आरती गान होता है.

सीता नवमी के दिन, विवाहित महिलाएं एक कठिन उपवास का पालन करती हैं और पूजा समारोह पूरा होने तक भोजन का एक भी दाना ग्रहण नहीं करती है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और कल्याण के लिए व्रत रखती हैं।

राम-जानकी मंदिरों में विशेष अनुष्ठान और प्रार्थना आयोजित की जाती हैं। अनुष्ठानों में श्रृंगार दर्शन, महा अभिषेक और आरती शामिल हैं। भक्त भजन गीत गाते हैं और भगवान राम और माता सीता की मूर्तियों की शोभायात्रा निकालते हैं। मंदिरों में रामायण के श्लोकों का भी पाठ किया जाता है। सीता नवमी सुख, स्वास्थ्य और समृद्धि से भरे लंबे जीवन के लिए देवी सीता का आशीर्वाद लेने का त्योहार है।


सीता नवमी तिथि 2019

सीता नवमी 13 मई 2019 (सोमवार) को मनाई जाएगी।


Previous
जाने कौन सा ग्रह इंसान को आत्मविश्वासी बनाता है?

Next
गंगा जयंती पर विशेष- महत्व, कथा एवं पूजा विधि।