Sorry, your browser does not support JavaScript!

हरियाली तीज क्या है? हरियाली तीज क्यों मनाई जाती है?

By: Rekha Kalpdev | 13-Jul-2019
Views : 450
हरियाली तीज क्या है? हरियाली तीज क्यों मनाई जाती है?

हरियाली तीज एक त्योहार है जिसमें भारतीय महिलाओं द्वारा उपवास रखा जाता है। यह उपवास विवाहित और अविवाहित दोनों महिलाओं में लोकप्रिय है। यह पति की लंबी आयु और विवाहित जीवन को आनंदमय बनाने के लिए मनाया जाता है। हरियाली तीज सावन में मनाई जाती है जो इस वर्ष 03 अगस्त 2019 को है। श्रावण मास वास्तव में वर्षा ऋतु को कहा जाता है। जिसे मानसून के नाम से भी जाना जाता है। हरियाली से अभिप्राय: हरे भरे महौल से है। हरियाली तीज समृद्धि और विकास का प्रतीक है और यह विकास और हरियाली का उत्सव है। तीज एक ऐसा त्यौहार है जो शुष्क और तेज़ गर्मी के बाद पृथ्वी पर हरियाली का आगमन लाता है। हरतालिका तीज को विशेष रूप से राजस्थान, झारखंड, बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में मनाया जाता है। यह त्योहार मां हरतालिका को समर्पित है, जिन्हें देवी पार्वती के नाम से भी जाना जाता है।

Also Read in English: Hariyali Teej 2019

हरियाली तीज क्यों मनाई जाती है?

इस त्योहार पर, महिलाएं व्रत कर माता पार्वती (भगवान शिव की पत्नी) की पूजा करती है। इसके अतिरिक्त विवाहित महिलाएं अपने जीवन साथी की लम्बी आयु और खुशहाल जिंदगी के लिए व्रत रखती हैं। ऐसा माना जाता है कि देवी पार्वती ने भगवान शिव को पति रुप में प्राप्त करने के लिए लम्बे समत तक साधना की। शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव ने उन्हें 108 जन्मों और पुनर्जन्मों के लिए अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। विवाहित महिलाएं देवी पार्वती का आशीर्वाद लेती हैं और अविवाहित लड़कियां देवी पार्वती से आशीर्वाद लेती हैं ताकि उन्हें भगवान शिव जैसा पति मिले।

हरियाली तीज की कथा क्या है?

हरियाली तीज को श्रावणी तीज के नाम से भी जाना जाता है यह व्रत/उपवास श्रावण मास में आता है। यह वह दिन है जब भगवान शिव ने देवी पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में प्राप्त किया था। भगवान शिव और देवी पार्वती के मिलन के पीछे एक बड़ी कहानी है। देवी पार्वती के लिए भगवान शिव को प्रभावित करना एक कठिन कार्य था। इसके लिए उसे काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। देवी पार्वती ने भगवान शिव से शादी करने के लिए बहुत कुछ किया क्योंकि उन्हें प्राप्त करना आसान नहीं था। भगवान शिव देवी पार्वती के आदर्श पुरुष थे, इसलिए उन्होंने कई वर्षों तक उपवास रखा। उसने भगवान शिव को प्रभावित करने के लिए इस व्रत का पालन किया। इतने संघर्ष के बाद, आखिरकार भगवान शिव ने उन्हें अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया। ऐसा माना जाता है कि यह चमत्कार सावन के महीने में शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन हुआ था। भगवान शिव और देवी पार्वती के मिलन के उस दिन से, सावन महीने के इस दिन को हरियाली तीज के रूप में मनाया जाता है। महिलाएं पूरे दिन इस व्रत के दिन व्रत रखती हैं और अपने पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करती हैं। हरियाली तीज के त्यौहार के पीछे यह पौराणिक कथा है।

The Rudrabhishek Puja is performed in strict accordance with all Vedic rules & rituals as prescribed in the Holy Scriptures.

हरियाली तीज का क्या महत्व है?

हरियाली तीज को हिंदू समुदाय की महिलाओं के लिए उपवास का दिन माना जाता है। इस दिन पति की लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करना शुभ दिन है। विवाहित महिलाएं और अविवाहित लड़कियां इस दिन व्रत रखती हैं अपने जीवन साथी की शुभता के लिए। अविवाहित लड़कियां मनचाहे जीवन साथी की प्राप्ति के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करती है, भगवान शिव के समान जीवन साथी की कामना करती है। व्रत/उपवास रख विवाहित महिलाएं इस दिन दुल्हन की तरह सजती है। सोलह श्रंगार करती है, साड़ी, मेहंदी और लाल रंग की सजावट की वस्तुओं से सजती है। सर्वश्रेष्ठ कपड़े पहनने की कोशिश करती हैं। मेहंदी भी लगाती हैं, सुंदर और रंगीन चूड़ियाँ पहनती हैं। इस दिन, विवाहित महिलाएं अपने पति द्वारा तैयार किए गए भोजन का आनंद लेती हैं। हरियाली तीज का उपवास बहुत कठिन व्रत है।

इस दिन महिलाएं पूरे दिन भोजन और पानी ग्रहण नहीं करती है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन देवी पार्वती ने महिलाओं के लिए इस दिन को शुभ घोषित किया और घोषणा की कि जो भी इस दिन कुछ अनुष्ठान करेगा, उसे सुखद वैवाहिक जीवन का आशीर्वाद मिलेगा। अविवाहित लड़कियां व्रत रखती हैं और अच्छे पति पाने की आशा में देवी पार्वती से प्रार्थना करती हैं। हरतालिका तीज व्रत विवाहित और अविवाहित दोनों महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। विवाहित महिलाएँ सुखी और शांतिपूर्ण वैवाहिक जीवन प्राप्त करने के लिए व्रत रखती हैं। इन तीन दिनों में निर्जला व्रत (बिना पानी के) किया जाता है और तीनों दिन सोने से परहेज करते हैं। यह उस तपस्या का प्रतीक है जिसे देवी पार्वती ने शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए लिया था। व्रत के दौरान ब्राह्मणों और छोटी कन्याओं को भोजन कराया जाता है।

महाराष्ट्र में, महिलाएं सौभाग्य के प्रतीक हरे कपड़े, हरी चूड़ियाँ, गोल्डन बिंदी और काजल पहनती हैं। हाथों और पैरों पर मेहंदी लगाती है। हरतालिका तीज के दिन, महिलाएं सुबह जल्दी उठती हैं, नहाती हैं और नए कपड़े पहनती हैं और सबसे अच्छे आभूषण पहनती हैं। महिलाओं को अपने माता-पिता, ससुर से उपहार मिलते हैं, जिसमें आम तौर पर पारंपरिक लहेरिया पोशाक, चूड़ियाँ, मेहंदी, सिंदूर और घेवर जैसी मिठाइयाँ होती हैं। इन उपहारों को सामूहिक रूप से सिंधारे के नाम से जाना जाता है।

हरतालिका तीज पर 5 चीजें विवाहित महिलाओं को नहीं करनी चाहिए

1. यदि आप गर्भवती हैं, तो उपवास न करें। चिकित्सकीय रूप से यह उचित नहीं है कि गर्भवती होने पर उपवास रखा जाए।

2. युवा लड़कियों को अपने आसपास भूखा न रहने दें। चाहे वे आपको ज्ञात हों या अज्ञात।

3. उपवास के दिन पूजन करते समय दीपक जलाएं और दीपक को बुझने न दें। सुनिश्चित करें कि आप जिस दीये का प्रकाश करते हैं, वह कम से कम 24 घंटे तक जलता रहना चाहिए। यदि आवश्यक हो तो इसके चारों ओर एक ग्लास का उपयोग करें।

4. इस तीज के दौरान सिर्फ प्रार्थना और उपवास न करें। इस दिन को एक उत्सव की तरह मनाए। अच्छे कपड़े और गहने पहनें।

5. इस दिन बुरे विचारों और क्रोध से बचें।

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव

कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है. कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं। आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिका फ्यूचर समाचार में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं। जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋण और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा, विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
Receive regular updates, Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, & Astrology Articles curated just for you!

To receive regular updates with your Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, Astrology Articles, Festival Updates, and Promotional Sale offers curated just for you!

Download our Free Apps

astrology_app astrology_app

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Call: 91-8810625600, 011 - 40541000

Helpline

8810625600

Trust

Trust of 36 years

Trusted by million of users in past 36 years