Sorry, your browser does not support JavaScript!

गुरु पूर्णिमा - गुरुओं को धन्यवाद का पर्व, गुरु की महिमा और गुरु का महत्व जानें

By: Rekha Kalpdev | 12-Jul-2019
Views : 1086
गुरु पूर्णिमा - गुरुओं को धन्यवाद का पर्व, गुरु की महिमा और गुरु का महत्व जानें

शास्त्रों में कहा गया है कि माता-पिता संतान को जन्म दे सकते हैं, अच्छे संस्कार दे सकते हैं, परन्तु उसे मोक्ष और मुक्ति का मार्ग दिखाने वाला गुरु ही होता है। इसलिए गुरु को पिता से श्रेष्ठ माना जाता है। गुरु सभी बंधनों से मुक्त होता है, इसलिए वह अपने शिष्यों को मुक्ति दिला सकता है। गुरु का महत्व और 'गुरु' शब्द का अर्थ - गुरु-शिष्य परंपरा हमारे राष्ट्र और संस्कृति की एक अनूठी विशेषता है। गुरु वह है जो हमारी अज्ञानता को दूर करता है। शिक्षक हमारे गुरु हैं। इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन सभी छात्रों को अपने गुरुओं का ह्रद्य से धन्यवाद करना चाहिए। शिक्षकों के चरणों में कृतज्ञता अर्पित करनी चाहिए और 16 जुलाई 2019, गुरुपूर्णिमा के शुभ दिन को ही 'शिक्षक दिवस' के रुप में मनाया जाना चाहिए। आगे बढ़ने से पूर्व आईये हम यहां गुरु शब्द का अर्थ समझ लें। गु का अर्थ है अंधकार और "यू' का अर्थ है 'हटाना'। गुरू वह है जो हमारे जीवन से विकार की अज्ञानता को दूर करता है और हमें सिखाता है कि आनंदमय जीवन कैसे जिया जाए।

Book Online Guru Purnima Puja


गुरु महिमा संत, महात्माओं के शब्दों में

  • एक स्थान पर संत तुलाराम ने कहा है कि जब तक हमें कोई सदगुरु नहीं मिलता, हम मोक्ष (अंतिम मुक्ति) का मार्ग नहीं खोज सकते। इसलिए गुरु की तलाश पूरी होते ही, हमें सबसे पहले उसके पैरों को पकड़ना चाहिए, अर्थात हमें उनकी कृपा पाने के लिए प्रयास करना चाहिए। सदगुरु अपने शिष्य को मोक्ष के योग्य बनाता है। सदगुरु की महानता अथाह है, और यहाँ तक कि उन्हें पारस कहना भी उनकी महानता को कम करता है, गुरु महिमा का वर्णन करना अपर्याप्त है। गुरु से ज्ञान प्राप्ति के अतिरिक्त इस सांसारिक जीवन से मुक्ति का अन्य कोई मार्ग नहीं है। योग और यज्ञ व्यक्ति में अहंकार बढ़ाते है, सर्वोच्च ज्ञान भाव (आध्यात्मिक भावना) के बिना हासिल नहीं किया जाता है। सदगुरु के बिना मुक्ति प्राप्त नहीं की जा सकती।
  • श्री शंकराचार्य ने कहा है गुरु के लिए तीनों लोकों में कोई उपयुक्त उपाधि नहीं है। उसे पारस कहना भी अपर्याप्त होगा। क्योंकि पारस लोहे को सोने में परिवर्तित कर देता है, लेकिन यह धातु को उसकी गुणवत्ता प्रदान नहीं कर सकता।
  • समर्थ रामदास स्वामी जी कहते हैं कि पारस सब कुछ सोने में नहीं बदल सकता। अत: सदगुरु की तुलना पारस से करना अनुचित है।

गुरु शिष्य को ब्रह्म की ओर लेकर जाता हैं

हिंदू संस्कृति ने गुरु को ईश्वर से ऊंच स्थान दिया गया है। गुरु साधक को ईश्वर प्राप्ति की साधना सिखाता है, ईश्वर का एहसास कराता है। और ईश्वर प्राप्ति में मदद भी करता है। गुरु शिष्य में हीन भावना को समाप्त कर देता है। जिस तरह एक बाघ के जबड़े में फंसे शिकार को छोड़ा नहीं जाता है, उसी तरह जिस पर गुरु की कृपा होती है, वह तब तक गुरु से मुक्त नहीं होता। जब तक वह मोक्ष को प्राप्त नहीं कर लेता। यदि कोई शिष्य नर्क में जाता है, तो गुरु उसका अनुसरण करेंगे और उसे वापस लाएंगे।

Also Read: Guru Purnima 2019: Date, Importance, & Guru Puja

जीवन में आध्यात्मिक प्रगति के लिए आवश्यक है कि स्वयं को पूर्ण रुप से गुरु के सम्मुख समर्पित कर दें। मैं कौन हूं, कि खोज करने के लिए मन को शांत कर गुरु सम्मुख समर्पण आवश्यक है। जिस प्रकार एक मां अपने सोते हुए बच्चे को रात में खाना खिलाती है। हालांकि, अगले दिन बच्चे को लगता है कि उसने कुछ भी नहीं खाया है। केवल मां ही जानती है कि बच्चे ने पिछली रात दूध पिया था। इसी तरह, गुरु शिष्य की प्रगति से अवगत रहता है। गुरु सचेत रूप से शिष्य पर अपनी आँखें, शब्द या स्पर्श के माध्यम से उसकी कृपा को बढ़ाता है।

जीवन में गुरुओं के प्रकार

हमें जीवन में तीन प्रकार के गुरु प्राप्त होते हैं-

प्रथम गुरु के रुप में माता-पिता

माता पिता हममें अच्छे संस्कार विकसित करते हैं और समाज के साथ घुलने-मिलने में हमारी मदद करते हैं, वे हमारे पहले गुरु हैं। हमारे माता-पिता हमें बचपन में सब कुछ सिखाते हैं। वे जानते हैं कि सही और गलत क्या है। वे हम में अच्छी आदतों का विकास करते है। उदाहरण के लिए-सुबह जल्दी उठने के लिए और धरती माँ को श्रद्धांजलि अर्पित करें। क्यों बड़ों का सम्मान और कैसे करना चाहिए, यह समझाते हैं। सायंकाल की आरती का संस्कार। नमस्कार ’के साथ सबका अभिवादन करना। चूंकि हमारे माता-पिता हमें ये सारी बातें बताते हैं, वे हमारे पहले गुरु हैं। इसलिए हमें उनका सम्मान करना चाहिए और प्रतिदिन उनका चरण वंदन करना चाहिए आशीर्वाद लेना चाहिए।

This Puja can be dedicated to Teachers and Mentors in life; along with parents and grandparents.

दूसरे गुरु हमारे शिक्षक

एक बेहतर इंसान बनाने के लिए हमें बहुत सी बातें सिखाते हैं, वे हमारे दूसरे गुरु हैं। गुरुपूर्णिमा के दिन ही वास्तव में शिक्षक दिवस मनाया जाना चाहिए। इस दिन हमें शिक्षकों के सम्मान में झुकना चाहिए और उनका आशीर्वाद माँगना चाहिए। हमारे शिक्षक हमारे गुरु हैं और हम शिष्य हैं। इसलिए, हमें इस दिन केवल शिक्षक दिवस मनाना चाहिए। हमारे शिक्षक हमें विभिन्न विषयों का ज्ञान देते हैं। हमारी देशभक्ति को जागृत करती है। हमें जीवन का व्यापक दृष्टिकोण देते हैं। हमें अपने राष्ट्र के लिए जीना चाहिए, न कि अपने लिए। वे हमें महान क्रांतिकारियों की तरह बलिदान करने के लिए कहते हैं-भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव आदि जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपना जीवन लगा दिया। हमें सिखाते हैं कि "बलिदान हमारे जीवन का आधार है।" हमारे शिक्षक हमें निःस्वार्थ भाव से विभिन्न विषय पढ़ाकर हमें प्रगति के पथ पर ले जाते हैं।

हमारे शिक्षक हमें विभिन्न भारतीय भाषाएं सिखाते हैं और इस प्रकार हमारी मातृभाषा के प्रति हमारे गौरव को जागृत करते हैं। रुपूर्णिमा ऐसे महान शिक्षकों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है, जो अपना सारा जीवन छात्रों को अध्ययन करते हुए बिता देते है। शिक्षक हमें जीवन में बहुत सारे मूल्य सिखाते हैं और सदव्यवहार सिखाते हुए आवश्यकता पड़ने पर हमें दंडित करते हैं। मानव जीवन में कई रिश्ते हैं। लेकिन, गुरु और शिष्य के रिश्ते को इन सांसारिक रिश्तों में से नहीं गिना जा सकता है। वास्तव में, प्रेम का एकमात्र बंधन जो शाश्वत और अविनाशी है, गुरु-शिष्य संबंध है। अन्य रिश्तों में, प्रमुख कारक बंधन है। लेकिन, गुरु-शिष्य संबंध में कोई बंधन नहीं है, क्योंकि गुरु वह द्वार है जो हमें सभी बंधन से परम स्वतंत्रता की ओर ले जाता है।

Get Benefits of Guru Purnima Puja

सभी मानवीय रिश्ते एक-दूसरे के साथ बहने वाली दो छोटी धाराओं की तरह हैं। गुरु-शिष्य का संबंध पूरी तरह से अलग है। शिष्य का अनुभव गंगा के शक्तिशाली प्रवाह के नीचे खड़े एक व्यक्ति का अनुभव है। सच तो यह है कि आध्यात्मिक गुरु एक उपस्थिति मात्र है, अनंत आकाश की तरह।

बौद्ध धर्म में गुरु पूर्णिमा महत्व

गौतम बुद्ध को आत्मज्ञान प्राप्त होने से पहले, उन्हें "गौतम" कहा जाता था। बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे गौतम गौतम बुद्ध बने; जहां उन्होंने आत्मज्ञान प्राप्त किया। उन्होंने सारनाथ की यात्रा शुरू की, जहां उनके पांच साथी ज्ञान प्राप्त करने से पहले चले गए थे। अपनी आध्यात्मिक शक्तियों के माध्यम से वह जानता था कि उसके पांचों साथी धर्म के मार्ग पर आसानी से जा सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि आषाढ़ माह में पूर्णिमा के दिन सारनाथ में अपने पांच साथियों को बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था। उसी दिन को "गुरु पूर्णिमा" के रूप में मनाया जाता है।

जैन धर्म में गुरु पूर्णिमा महत्व

जैन धर्म के अनुसार, भगवान महावीर जो 24 वें तीर्थंकर थे, उन्होंने इंद्रभूति गौतम को अपना पहला शिष्य बनाया, जिससे वे स्वयं त्रिनोक गुहा या प्रथम गुरु बन गए। जैन परंपराओं में इसे "त्रिनोक गुहा पूर्णिमा" भी कहा जाता है।

Related Puja

View all Puja

fututrepoint
futurepoint_offer Get Offer

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
Receive regular updates, Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, & Astrology Articles curated just for you!

To receive regular updates with your Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, Astrology Articles, Festival Updates, and Promotional Sale offers curated just for you!

Download our Free Apps

astrology_app astrology_app

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Call: 91-8810625600, 011 - 40541000

Helpline

8810625600

Trust

Trust of 36 years

Trusted by million of users in past 36 years