गणेश चतुर्थी 2023 - तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि | Future Point

गणेश चतुर्थी 2023 - तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

By: Future Point | 06-Sep-2023
Views : 1644
गणेश चतुर्थी 2023 - तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

गणेश चतुर्थी भारत में सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है, जिसे हर साल बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। 2023 में, गणेश चतुर्थी 19 सितंबर को मनाई जाएगी।

भगवान गणेश के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाने वाला यह 10 दिवसीय त्योहार पूरे देश में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। लोग अपने घरों और पंडालों में विधि-विधान से भगवान गणेश की पूजा-अर्चना करते हैं।

गणेश चतुर्थी पर अपने घर में भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करना शुभ माना जाता है। पूजा से पहले मूर्ति की स्थापना कर प्राण-प्रतिष्ठा की जाती है। फिर भगवान को फूल, फल, मोदक आदि चढ़ाए जाते हैं।

गणेश चतुर्थी के अवसर पर अपने परिवार के साथ मिलकर भगवान गणेश की पूजा करने का मौका न गंवाएं। इस बार आइए, भव्य गणेश उत्सव मनाएं और भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त करें!

गणेश चतुर्थी 2023 तिथि (Ganesha Chaturthi 2023 Date)

गणेश चतुर्थी हर साल भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को पड़ती है। यह त्यौहार अगस्त या सितंबर महीने में होता है। इस त्योहार को आमतौर पर 10 दिनों तक मनाया जाता है, जिसमें सबसे बड़ा जुलूस अंतिम दिन अनंत चतुर्दशी को निकाला जाता है। 2023 में, गणेश चतुर्थी की तिथि 19 सितंबर है।

गणेश चतुर्थी त्योहार का महत्व (Importance of Ganesh Chaturthi Festival)

गणेश चतुर्थी भारतीय संस्कृति में एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है। इस त्योहार का विशेष महत्व निम्नलिखित है-

  • यह त्योहार भगवान गणेश के जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। भगवान गणेश हिंदू देवताओं में सबसे पहले पूजे जाने वाले देवता हैं।
  • गणेश जी को विघ्नहर्ता और मंगलकारक माना जाता है। उनकी पूजा से सभी मनोकामनाएँ पूरी होती हैं।
  • गणेश चतुर्थी के दिन नए कामों की शुरुआत करना शुभ माना जाता है। भगवान गणेश सफलता और उन्नति के देवता हैं।
  • इस दिन सभी लोग अपने-अपने घरों में भगवान गणेश की पूजा करते हैं। परिवार के सदस्य एकत्रित होकर पूजा का आनंद लेते हैं।
  • गणेश चतुर्थी पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिससे सामाजिक एकता बढ़ती है।

अतः गणेश चतुर्थी का त्योहार धार्मिक और सामाजिक दोनों दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है। हमें इस पावन पर्व को उत्साहपूर्वक मनाना चाहिए।

 

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा 

गणेश चतुर्थी त्योहार के पीछे की कहानी (Story Behind Ganesh Chaturthi Festival)

परंपरा के अनुसार, गणेश पूजा के दिन कुछ समय के लिए चंद्रमा को देखना मना है। ऐसा कहा जाता है कि अगर कोई व्यक्ति चंद्रमा को देख लेता है, तो उस पर चोरी का आरोप लगाया जाएगा और समाज द्वारा अपमानित किया जाएगा, जब तक कि वह एक विशेष मंत्र का जाप न करे। 

ऐसा माना जाता है कि यह तब हुआ जब भगवान कृष्ण पर एक मूल्यवान रत्न चुराने का गलत आरोप लगाया गया था। ऋषि नारद ने कहा कि कृष्ण ने भद्रपद शुक्ल चतुर्थी (वह अवसर जिस पर गणेश चतुर्थी पड़ती है) को चंद्रमा देख लिया था और इसी कारण श्रापित हो गए थे।

गणेश उत्सव: तिथि और शुभ मुहूर्त (Ganesh Utsav: Date & Auspicious Timings (Muhurats))

गणेश चतुर्थी 19 सितंबर, 2023 को गणपति बप्पा की मूर्ति लाने के लिए शुभ, लाभ या अमृत चोघड़िया उचित होगा। निम्नलिखित शुभ समयावधियों को ध्यान में रखें:

मध्याह्न गणेश पूजा मुहूर्त - सुबह 11:01 बजे से दोपहर 1:28 बजे तक - अवधि - 02 घंटे 27 मिनट

चतुर्थी तिथि प्रारम्भ - 18 सितंबर, 2023 को दोपहर 12:39 बजे

चतुर्थी तिथि समाप्ति - 19 सितंबर, 2023 को दोपहर 1:43 बजे

गणेश विसर्जन - गुरुवार, 28 सितंबर, 2023

महत्वपूर्ण गणेश मंत्र (The Important Ganesh Mantra)

वक्रतुंड महाकाय सूर्यकोटी समप्रभ ।

निर्विध्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ।।

Vvakratunda mahakaya surya koti samaprabha |

Nnirvighnam kurume deva sarva karyeshu sarvada ||

इस श्लोक का अर्थ निम्नलिखित है (The meaning of the verse is as follows):

हे भगवान गणेश, हम आपको परम पूज्य मानते हैं। हे महाबलशाली प्रभु, जिनका वक्र त्रुंड है, और जो पवित्र और दिव्य हैं, जिनका तेज अनगिनत सूर्यों के समान है, जो सभी को आनंद देते हैं। करोड़ों देवताओं के देवता को नमन। 

मेरी सभी समस्याओं से लड़ने में मेरी मदद करिए, और मुझे विश्वास है कि आप हमेशा की तरह मेरी रक्षा करते रहेंगे। हे मेरे प्रभु, मुझे आप पर विश्वास है कि आप हमेशा के लिए सभी बुराइयों से मुझे बचाए रखेंगे।

 

भविष्य से जुड़ी किसी भी समस्या का समाधान मिलेगा विद्वान ज्योतिषियों से बात करके

महान गणेश उत्सव को कैसे मनाएं (How To Celebrate The Grand Ganesh Utsav Festival)?

  • भगवान गणेश की एक सुंदर मूर्ति घर या सार्वजनिक स्थल पर स्थापित करें।
  • प्राण प्रतिष्ठा किया जा सकता है ताकि मूर्ति में देवता की शक्ति का आह्वान किया जा सके, इसके बाद षोडशोपचार पूजा नामक 16 चरणों वाला अनुष्ठान किया जाता है।
  • गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश के सामने फूल और फल जैसे केला, आम, अनार या कटहल चढ़ाएं।
  • सबसे पहले एक कलश को शुद्ध जल से भरें।
  • इसमें सुपारी,  रुपया  का सिक्का, हल्दी का पाउडर, 5 पान के पत्ते, नारियल मिलाएं।
  • नारियल और पान के पत्तों पर हल्दी का तिलक लगाएं।
  • चावल के दानों पर एक सुपारी और सुपारी पर एक सिक्का रखें।
  • गणेश मंत्र का जाप करें।
  • पूजा मूर्ति की स्थापना से शुरू होती है।
  • अब 5 पान के पत्ते फैलाएं।
  • प्रत्येक पान के पत्ते पर एक-एक सुपारी रखें, फिर हल्दी लगाएं।
  • अब गणेश चतुर्थी के दिन गणेश की मूर्ति का आवरण उठाएं।
  • उन्हें मुकुट, माला, कंगन, वस्त्र भेंट करें।
  • 21 दुर्वा घास की पत्तियां, 21 मोदक और 21 फूल गणेश को अर्पित करें। संख्या 21 का अर्थ है - पांच ज्ञानेंद्रिय, पांच कर्मेंद्रिय, पांच प्राण वायु, पांच तत्व और मन।
  • गणेश चतुर्थी पर उनके ललाट पर लाल चंदन का तिलक लगाएं।
  • दीपक, धूप और सुगंधित वस्तुओं से आरती की थाल तैयार करें।
  • 108 भगवान गणेश को समर्पित आरती या गणेश उपनिषद का पाठ करें।
  • “जय गणेश जय गणेश” गाएं।
  • अंत में, अपनी सभी इच्छाओं को पूरा करने के लिए भगवान गणेश का आशीर्वाद लें।
  • इस गणेश उत्सव पर, विधि और अनुष्ठान के साथ ऑनलाइन गणेश पूजा बुक करें!

इस दिन चंद्र दर्शन पर प्रतिबंध (Prohibition of Moon Sight on this day)

मान्यता है कि भक्तों को गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा नहीं देखना चाहिए। गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा देखने से मिथ्या दोष या मिथ्या कलंक लगता है, जिसका अर्थ है किसी चीज़ की चोरी करने का गलत आरोप। 

पुराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान कृष्ण पर स्यमंतक नामक मूल्यवान गहने चुराने का गलत आरोप लगाया गया था। भगवान कृष्ण की स्थिति जानने के बाद, ऋषि नारद ने उन्हें बताया कि उन्होंने भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन चंद्रमा देखा था, जिससे मिथ्या दोष का श्राप लग गया। 

ऋषि नारद ने भगवान कृष्ण को बताया कि उन्हें भगवान गणेश द्वारा मिथ्या दोष से श्रापित किया गया था। जो भी इस दोष से श्रापित होगा, वह समाज में बदनाम और अपमानित होगा। ऋषि नारद ने भगवान कृष्ण को मिथ्या दोष को हटाने के लिए गणेश चतुर्थी का व्रत रखने का सुझाव दिया।

Embrace the convenience of Online Puja, where sacred rituals meet the digital age for a meaningful spiritual connection.

मिथ्या दोष निवारण का तरीका (Mithya Dosha Prevention Method)

चतुर्थी के प्रारम्भ और समाप्ति के समय पर निर्भर करते हुए चंद्रमा को देखने पर प्रतिबंध लगा होता है। भले ही कोई गलती से चंद्रमा को देख ले तो भी, व्यक्ति को निम्नलिखित मंत्र का जाप करना चाहिए:

सिंहः प्रसेनमवधीत्सिंहो जाम्बवता हतः।
सुकुमारक मारोदीस्तव ह्येष स्यमन्तकः॥

Simhah Prasenamavadhitsimho Jambavata Hatah।
Sukumaraka Marodistava Hyesha Syamantakah॥


Previous
Solve your problems with the Help of the Best Astrologer in Delhi

Next
Get Closer to God with Convenient Online Puja Services