सलमान एक मुसीबतें हजार

By: Abha Bansal | 07-Apr-2018
Views : 12518
सलमान एक मुसीबतें हजार

कैदी नम्बर 106 - सलमान खान

करीब पांच शताब्दियों तक मारवाड़ की राजधानी रहा जोधपुर जिसे सूर्य नगरी के नाम से भी जाना जाता है. आज तक यह अपने ऎतिहासिक महत्व और अपनी रजवाड़ी आनबान शान के लिए खबरों की सुर्खियां बटोरता रहा हैं, आज स्थिति इसके विपरीत है, आज यह बॉलीवुड के दबंग खान "सलमान खान" पर काले हिरण के शिकार के मामले के तहत चल रहे मुकद्दमें में फैसले को लेकर चर्चा का कारण बना हुआ है।

मामला करीब 20 साल पुराना हैं। सलमान पर अब तक तीन बड़े कानूनी मामले विशेष रुप से चर्चित रहें। जिसमें एक आर्म्स एक्ट का मामला, नशे में लोगों पर गाड़ी चढ़ाने का मामला और काले हिरण के शिकार का मामला है। आगे बढ़ने से पहले आईये एक नजर सलमान खान ने अर्जित की आज तक की शौहरत और कामयाबी पर डालते हैं-

अब्दुल रशीद सलीम सलमान खान जिन्हें आज हम सलमान खान के नाम से जानते हैं। सलमान बॉलीवुड जगत के मशहुर अभिनेता होने के साथ-साथ निर्माता, टी.वी. होस्ट और समाज सेवी है। 27 दिसम्बर 1965 के दिन दोपहर के समय, इंदौर में सलीम खान के यहां जब नवजात बालक की किलकारियां गूंजी तो परिवार में खुशी की लहर दौड़ गई। सलीम खान अपने समय के जानेमाने लेखक रहें हैं, बॉलीवुड के शीर्ष लेखकों की श्रेणी में इनका नाम गिना जाता हैं।

महाराष्ट्रियन परिवार से आई माता और जम्मू कश्मीर के धरातल से आए पिता दोनों के संस्कार, लाड़ प्यार और दो अलग-अलग कल्चर का मिलाजुला पालन-पोषण सलमान को मिला। एक भरे पूरे परिवार में सलमान का जन्म हुआ, जिसमें दो भाई, दो बहन एक सौतेली मां हैं। परिवार में बड़े होने के बावजूद सलमान अपने घर-परिवार की आंखों के तारे रहे।

कहते हैं सलमान के स्टाइल का जादू इनके फैन्स के सिर चढ़कर बोलता है। एक के बाद एक हिट फिल्में देने वाले सलमान के हर स्टाइल की कापी उनके फैन्स करते रहे हैं। फिर वह चाहे दबंग का चुलबुल पांडे हों, तेरे नाम का राधे या फिर टाइगर का। छोटे से लेकर हर बड़े बैनर के नीचे सलमान ने काम किया हैं। जहां एक और कामयाबी ने उनके हमेशा कदम चूमें हैं वही विवाद और सलमान एक सिक्के के दो पहलू रहे हैं।

आए दिन इनका नाम किसी न किसी विवाद के साथ जुड़ता ही रहा हैं। यहां तक की तीन मामलों में वे कानूनी तौर पर भी फंस चुके हैं, उनके बारे में कहा जाता है कि सलमान कब अपना टॆंपर लूज कर दें कुछ कहा नहीं जा सकता । हालांकि अन्य दोनों खानों को आज बॉलीवुड जगत का डूबता हुआ सूरज कहा जा सकता हैं।

पिछले कुछ समय से शाहरुख खान और आमिर खान दोनों की कोई बड़ी हिट फिल्म नहीं आई हैं। जबकि सलमान का जलवा आज भी बरकरार हैं। सलमान एक्टिंग के साथ-साथ चैरिटी दोनों को समय देते हैं। टीवी की दुनिया में भी उन्होंने खूब नाम कमाया है, बिग बॉस और दस का दम जैसे कार्यक्रमों को सलमान ने संचालित किया हैं।

 

एक तरह जहां सलमान की फिल्में आज भी रिकार्ड तोड़ कमाई कर रही हैं वही सलमान प्यार के मामलों में ज्यादा सफल नहीं रहें। समय-समय पर किसी न किसी कोस्टार्स के साथ उनका नाम खबरों की हेडलाइन्स बनता ही रहा है। सलमान में कुछ खास बातें हैं जिनके चलते आज भी वे पॉपुलर और सफल हैं। खबरों के अनुसार सलमान को ट्राईजेमिनल न्‍यूरालाजिया नामक रोग हैं, जिसके कारण बोलने तक में इन्हें दर्द होता हैं।

सलमान दुनिया के सातवें सबस हैंड्सम आदमी का स्थान प्राप्त कर चुके हैं। बॉलीवुड हीरोस में इंटरनेट पर सर्च किए जाने वाले सबसे चर्चित सेलिब्रिटी हैं। लंदन के तुसाद संग्राहलय में उनकी वैक्स की मूर्ति हैं। कमाई के मामले में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं तो विवादों में भी सलमान का कोई सानी नहीं हैं।

सलमान से जुड़े कुछ विवाद इस प्रकार है

एक समय में सलमान ने 400 कैदियों के जुर्माने की रकम भरने के लिए आगे आए थे, सलमान उस समय नहीं जानते थे कि आज जिन कैदियों की ये मदद कर रहे हैं एक दिन उन्हें भी कैदी नम्बर 106 की पहचान मिलेगी। 5 अप्रैल 2018 के दिन जब सूरज उगा तो अपने साथ उजाला और प्रकाश लेकर तो अवश्य आया, और साथ ही लेकर आया सलमान खान के लिए चिंता और तनाव के बादल।

इस दिन सारे मीडि़या की नजरें जोधपुर की अदालत के उस कमरे पर टीकी थी, जहां सलमान खान पर पिछले 20 साल से विचाराधीन काले हिरण के शिकार के मामले का फैसला आना था। इस मामलें में न केवल उनपर हिरण का शिकार करने का मामला चल रहा हैं अपितु अवैध रुप से हथियार रखने और इस्तेमाल करने के आरोप लगे हुए हैं।

सलमान पर यह मामला कोई नया नहीं था, लास्ट 20 ईयर्स से इस तनाव को सलमान झेल रहे हैं। 5 अप्रैल को सभी प्रमुख अखबारों, चैनलों के पत्रकार, फोटोग्राफर्स यह जानने के लिए बेताब थे कि सलमान को इस मामले में जेल मिलेगी या रिहाई। सलमान मामले के मुख्य आरोपी थे, बाकि सोनाली बेंद्रे, तब्बू, सैफ अली खान और नीलम भी सहयोगी आरोपी थे।

 

salman-khan

 

मामले की तह में जाएं तो यह मामला 28 सितम्बर 1998 में सूरज बड़जात्या की फिल्म हम साथ-साथ हैं के निर्माण के दौरान की हैं। कथित रुप से इस दिन सलमान और सहयोगी आरोपियों ने चिंकारा हिरण का शिकार किया। चिंकारा राजस्थान का राज्य पशु घोषित है जबकि काला हिरण दुर्लभ वन्य प्राणियों की सूची में आता हैं। इन दोनों पशुओं को मारने के जुर्म के अंतर्गत आने पर प्रावधान के अनुसार 6 साल तक की सजा हो सकती हैं।

इसी आरोप में यह मामला चल रहा था, जिसका फैसला 5 अप्रैल 2018 को आया। इस मामले में कोर्ट ने सलमान को 5 साल की सजा का ऎलान किया। गौरतलब है कि सलमान इससे पहले भी इस मामले में अब तक 18 दिनों तक जोधपुर के जेल में रह चुके हैं। सबसे पहले 1998 में, फिर 2006 में और फिर 2007 में उन्हें जेल में रहना पड़ा।

उन पर चल रहे एक अन्य 2002 वर्ष का हिट एंड रन केस में उन्हें आरोपों से बरी कर दिया गया था, पर यह मामला भी काफी लम्बे समय तक चला और अंतत: उन्हें इस मामले से राहत मिली थी, इस मामले में एक व्यक्ति की मृत्यु हो गई थी, और पांच लोग उनकी गाड़ी की चपेट में आकर गंभीर रुप से घायल हो गए थे।

इस मामले में मिली राहत के खिलाफ अभी आरोपी सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाने का कह रहे हैं। 2002 से सलमान को कोर्ट-कचहरी के मामलों ने ऐसा परेशान किया हैं कि उनके दिन का चैन और रातों की नींद गायब हो गई है। 1998 से ग्रहों ने किस प्रकार की करवट ली की उनकी परेशानियां खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं, आईये इसका विश्लेषण इनकी जन्मकुंडली से करते हैं-

कुंडली विश्लेषण

 

salman-khan-kundli

 

मेष लग्न, कुम्भ राशि में सलमान का जन्म हुआ। लग्नेश मंगल उच्चस्थ, आयेश शनि आय भाव में अपनी मूलत्रिकोण राशि में स्थित हैं। मंगल की इस स्थिति ने इन्हें दबंग और आवेशयुक्त बनाया, यही वजह है कि ये कभी भी आपा खो देते हैं। शनि इनके लिए आय, लाभ, कामयाबी, सफलता और उन्नति के ग्रह तो हैं परन्तु शनि इनके लिए अशुभ ग्रहों के स्वामी होकर, अशुभ भाव में स्थित हैं, बाधकेश भी हैं और शुक्र इनके लिए मारकेश हैं। मारकेश शुक्र का लग्नेश के साथ करियर भाव में एक साथ होना, वह भी 10 अंशों से कम अंतर से इनके लिए गलैमर्स जगत में फैमस और मनोरंजन नगरी में सफलता का कारक बना।

इनकी कुंड्ली में सबसे अच्छी बात हैं कि भाग्य भाव से भाग्येश गुरु का सीधा संबध बन रहा है, पंचमेश सूर्य अपने से पंचम में स्थित हैं, धन और सफलता के पक्ष से यह अति शुभ योग हैं। परन्तु शनि और मंगल दो अशुभ ग्रहों का पंचम भाव से दृष्टि संबंध बनाना इन्हें बार बार प्रेम संबंधों में असफलता देता हैं। राहु का वाणी भाव में होना इन्हें बयानबाजी के कारण विवादों में लाता रहा हैं।

धन योगों और राजयोगों से भरी इनकी कुंडली इन्हें सफलता तो दे रही हैं साथ ही विवाद भी इनके तनाव का कारण बन रहे हैं। यह तो बात हुई इनकी कुंडली में बन रहे योगों की, आईये अब बात करें 1998 से शुरु हुए कानूनी मामलों की- 1998 सितम्बर जिस समय इनपर काले हिरण के शिकार का मामला हैं, उस समय इन पर गुरु-चंद्र-शनि की दशा प्रभावी थी।

महादशानाथ गुरु भाग्येश और व्ययेश हैं, तीसरे भाव में वक्री अवस्था में भी हैं। महादशानाथ गुरु और अंतर्दशानाथ चंद्र दोनों 1 अंश के साथ स्थित हैं और गुरु की चंद्र पर दृष्टि भी हैं। प्रत्यंतर्द्शानाथ शनि व चंद्र एक साथ हैं। इस तरह इनकी मानसिक शांति भंग हुई। घटना के समय गुरु गोचर में वक्री अवस्था में थे, राहु-केतु अक्ष में, छ्ठा भाव पीडि़त था। लग्न भाव पर शनि का गोचर लग्न को पीडित कर रहा था। मंगल-राहु एक साथ थे, लग्न, लग्नेश दोनों कमजोर थे। इसी मामले का फैसला 5 अप्रैल 2018 को आया।

28 सितम्बर 2002 में जब हिट एंड रन केस में इन्हें कोर्ट कचहरी का सामना करना पड़ा। ठीक इसी के आसपास इनकी शनि की महादशा शुरु हुई। शनि आयेश होने के कारण इनके लिए लाभकारी ग्रह तो साबित हुए परन्तु शनि का बाधकेश होना, चंद्र के साथ युति में होना और दशम दृष्टि से षष्ठेश बुध से संबंध होना, इनके लिए बैठे बिठाए परेशानियों का कारण बना। बुध इनके लिए कोर्ट-केस, कचहरी भाव से जुड़े ग्रह हैं। कष्ट और तनाव, बाधाओं के लिए प्रसिद्ध अष्टम भाव में केतु के साथ हैं। छ्ठे भावेश का अष्टम भाव में होना, विपरीत राज योग तो बना रहा हैं साथ ही षष्ठेश का राहु/केतु अक्ष में आना आए दिन कानूनी पचड़ों में भी इन्हें डाल रहा हैं।

वर्तमान में शनि/राहु/शुक्र की दशा चल रही हैं। जैसा की हमने ऊपर बताया शनि बाधकेश, राहु मारक भाव में स्थित होने के कारण मारकेश और शुक्र स्वयं मारकेश हैं। 5 अप्रैल की रात सलमान खान को जोधपुर जेल में गुजारनी पड़ी, इस समय इन्हें जो नम्बर मिला वह 106 था। आने वाले समय में इन्हें जमानत मिलने से परेशानी कुछ कमी जरुर हुई परन्तु मामला अभी खत्म नहीं हुआ। शनि महादशा 2021 तक रहेगी, तब तक कानूनी मामले इनकी परेशानियां बढ़ाते रहेंगे।

इस समय गोचर में शनि वक्री अवस्था में हैं गुरु भी वक्री हैं और षष्ठेश बुध भी वक्री हैं। सभी ग्रह सितम्बर 2018 तक मार्गी हो जायेंगे। तब तक स्थिति कुछ नियंत्रण में रहेगी। परन्तु इन्हें अंतिम राहत इस केस से 2019 तक ही मिलने के आसार बन रहे हैं। इसके बाद आने वाली महादशाएं भी कोर्ट-कचहरी से जुड़ी ही आ रही हैं अत: सावधानी रखनी समझदारी होगी।


Previous
Astrological Remedies for Booming Business

Next
Weekly Horoscope 8th April – 14th April