लक्ष्‍मी रुद्र माला – सिर्फ पैसा ही नहीं सेहत और मान-सम्‍मान दिलाने का एकमात्र उपाय है

By: Future Point | 27-Oct-2018
Views : 7698
लक्ष्‍मी रुद्र माला – सिर्फ पैसा ही नहीं सेहत और मान-सम्‍मान दिलाने का एकमात्र उपाय है

धरती पर अगर किसी वस्‍तु में स्‍वयं भगवान बसते हैं तो वो रुद्राक्ष ही है। जी हां, रुद्राक्ष को स्‍वयं भगवान शिव का रूप कहा जाता है। मान्‍यता है कि रुद्राक्ष भगवान शिव के अश्रु हैं जो उनकी आंखों से छलक कर धरती पर गिरे थे। रुद्राक्ष एक रक्षा कवच के रूप में काम करता है जो हर मुसीबत से आपको बचाता है।

ये तो थी रुद्राक्ष की बात अब बात करते हैं स्‍फर्टिक की। स्‍फटिक का संबंध स्‍वयं धन की देवी मां लक्ष्‍मी से है। धन प्राप्‍ति के लिए मां लक्ष्‍मी के मंत्रों का जाप स्‍फटिक की माला से ही किया जाता है। अगर कोई व्‍यक्‍ति मां लक्ष्‍मी के पूजन में स्‍फटिक की माला का प्रयोग करता है तो उसे शीघ्र की दोगुना फल प्राप्‍त होता है।

भगवान शिव और धन की देवी मां लक्ष्‍मी की एकसाथ कृपा पाने का सर्वोत्तम साधन है लक्ष्‍मी रुद्र माला। इस चमत्‍कारिक माला के प्रयोग से आपको भगवान शिव की कृपा तो प्राप्‍त होगी ही साथ ही मां लक्ष्‍मी के आशीर्वाद से धन की भी सारी कमी दूर हो जाएगी।

लक्ष्‍मी रुद्र माला

आपको बता दें कि चमत्‍कारिक लक्ष्‍मी रुद्र माला में मां लक्ष्‍मी और भगवान शिव की शक्‍तियां समाहित हैं। अगर आप धन की इच्‍छा रखते हैं तो स्‍फटिक और रुद्राक्ष से बनी इस माला को जरूर धारण करें।

कैसे बनती है लक्ष्‍मी रुद्र माला

इस माला में सफेद दाने और रुद्राक्ष के दाने बराबर मात्रा में पिरोए गए हैं। इसमें 54 दाने स्‍फटिक के हैं और 54 दाने रुद्राक्ष के हैं। जैसा कि हमने पहले भी बताया कि स्‍फटिक मां लक्ष्‍मी का प्रतीक है और रुद्राक्ष को भगवान शिव का प्रतीक बताया गया है।

कौन धारण कर सकता है ये माला

समृद्धि, धन, वैभव और खुशहाली की कामना रखने वाले लोगों को लक्ष्‍मी रुद्र माला धारण करनी चाहिए। अगर आप अपने जीवन में किसी भी तरह की आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं तो आपको इस माला से लाभ मिल सकता है। इसमें पिरोए गए चमत्‍कारिक स्‍फटिक और रुद्राक्ष के दाने अपनी ऊर्जा से आपके जीवन के कष्‍टों का अंत कर देते हैं।

दरिद्रता दूर भगाने का उपाय

अगर आपके करियर या व्‍यवसाय में रुकावटें आ रही हैं या बहुत प्रयास करने के बाद भी आपको धन का अभाव रहता है और दरिद्रता आपका पीछा नहीं छोड़ रही है तो आपको लक्ष्‍मी रुद्र माला धारण करनी चाहिए। इस माला के रूप में मां लक्ष्‍मी सदा के लिए आपके पास वास करेंगीं।

रोगों से छुटकारा

अगर आपको रक्‍त से संबंधित कोई रोग है तो ये माला आपको उसे रोग से छुटकारा दिला सकती है। इसके अलावा लक्ष्‍मी रुद्र माला सेहत को दुरुस्‍त रखती है। अगर बहुत बुखार चढ़ जाए तो लक्ष्‍मी रुद्र माला को पानी में धोकर कुछ समय के लिए नाभि पर रख दें। इससे बुखार कम होता जाएगा और मरीज़ को आराम मिलेगा। इस माला को जो भी व्‍यक्‍ति धारण करता है उसका स्‍वास्‍थ्‍य दुरुस्‍त हो जाता है और परिवार के बाकी सदस्‍यों को भी इसका लाभ मिलता है।

पाप से मुक्‍ति देती है लक्ष्‍मी रुद्र माला

कई बार अनजाने में या जानबूझकर हमसे कुछ ऐसे कार्य हो जाते हैं जिन्‍हें अधर्म की श्रेणी में रखा गया है। ऐसे कार्यों को पाप कर्म कहा जाता है। अगर आपसे भी कोई पाप हुआ है और आप उससे मुक्‍ति पाना चाहते हैं तो लक्ष्‍मी रुद्र माला को धारण करें। ये माला गंभीर पापों से भी मुक्‍ति दिलाती है।

शत्रुओं का नाश

कलियुग के समय में ऐसा कोई भी व्‍यक्‍ति नहीं होगा जिसके शत्रु ना हों। अगर आप भी अपने शत्रुओं से रक्षा पाना चाहते हैं तो तुरंत इस माला को धारण कर लें। ये आपकी रक्षा करेगी और आपको क्रोध एवं भय से भी दूर रखेगी।

सुख-समृद्धि में वृद्धि

ज्‍योतिषशास्‍त्र के अनुसार लक्ष्‍मी रुद्र माला पर स्‍वयं मां लक्ष्‍मी की कृपा और शक्‍तियां समाहित हैं और इस वजह से इस माला को धारण करने से व्‍यापार में बरकत मिलती है और धन-वैभव में वृद्धि होती है। इस माला को आप अपनी तिजोरी में भी रख सकते हैं। इससे आपको अत्‍यंत लाभ होगा।

शिक्षा के लिए वरदान

जिन बच्‍चों का मन पढ़ाई में ना लगता हो या जो चाहकर भी पढ़ाई में ध्‍यान ना लगा पा रहे हों, उन बच्‍चों के लिए ये लक्ष्‍मी रुद्र माला किसी वरदान से कम नहीं है। इस माला की सकारात्‍मक ऊर्जा से शिक्षा के क्षेत्र में आ रही सभी बाधाएं दूर होती हैं।

कहां से प्राप्‍त करें लक्ष्‍मी रुद्र माला

ऐसा नहीं है कि आप कोई भी लक्ष्‍मी रुद्र माला लेकर उसे धारण कर सकते हैं। इस तरह का कोई भी ज्‍योतिषीय उपाय आपको तभी लाभ देता है जब उसे उससे संबंधित ईष्‍ट देवता के मंत्रों से अभिमंत्रित करवाया जाए। लक्ष्‍मी रुद्र माला भी आपको तभी लाभ देगी जब आप इसे मां लक्ष्‍मी और भगवान शिव के मंत्रों द्वारा अभिमंत्रित करने के बाद धारण करेंगें।

 

 सभी प्रकार की रुद्राक्ष आर्डर करने के लिए क्लिक करें 

 

फ्री कुंडली, फ्री कुंडली मैचिंग, फ्री लाल किताब रिपोर्ट, फ्री न्यूमेरोलॉजी रिपोर्ट के लिए क्लिक करें

Previous
पूजा में इन दो रंगों का इस्‍तेमाल बना सकता है आपको पाप का भागी

Next
Weekly Career and Financial Forecast (29.10.18 to 04.11.18)