ज्योतिष और मधुमेह

By: Future Point | 06-Mar-2018
Views : 13327
ज्योतिष और मधुमेह

भारतीय वैदिक ज्योतिष एक बहुत ही उपयोगी और प्राचीन विद्या है। साथ ही भारतीय ज्योतिष कई स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान खोजने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है। भारतीय ज्योतिष की एक अलग शाखा है, जिसे मेडिकल ज्योतिष कहा जाता है। ज्योतिष की इस शाखा में कुंडली चार्ट के माध्यम से स्वास्थ्य संबंधित बिंदुओं का अध्ययन किया जाता है। चिकित्सा ज्योतिष के अनुसार, किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य उसके जन्म लग्न, जन्म राशि, चंद्र की स्थिति और अन्य सात ग्रहों की स्थिति, युति और दॄष्टि संबंध पर निर्भर करता हैं। जन्म कुंडले बनाने के लिए शुद्ध जन्म तिथि, जन्म समय और जन्म स्थान की जानकारी होनी आवश्यक हैं। इसके साथ ही ज्योतिष की एक अन्य पद्वति जिसे अष्टकवर्ग के नाम से जाना जाता हैं, पर भी निर्भर करता हैं।

जन्मकुंडली और अष्टकवर्ग दोनों का सूक्ष्मता से विश्लेषण करने के पश्चात ही व्यक्ति के शारीरिक स्वास्थ्य और जीवन की अन्य घटनाओं की त्वरित, सटीक और प्रभावी भविष्यवाणियां की जाती हैं। भारतीय वैदिक ज्योतिष में उपाय के रुप में आयुर्वेदिक दवाइयों, प्रार्थना (मंत्र) और रत्न-रुद्राक्ष के माध्यम से मनुष्यों की जटिल से जटिल शारीरिक और मनोवैज्ञानिक समस्याओं का समाधान प्रदान किया जाता हैं। प्राचीन समय में ज्योतिषियों को आयुर्वेदिक दवाओं का अच्छा ज्ञान होता था। आयुर्वेद विद्या पर 600 से अधिक प्राचीन साहित्य उपलब्ध हैं। गरुड़ पुराण, कूर्म पुराण और विष्णु पुराण में चिकित्सीय ज्योतिष का वर्णन आता है। उपाय के रुप में रुद्राक्ष, तंत्र, मंत्र, रत्न और हवन आदि का उल्लेख मिलता हैं। आधुनिक समय में खान-पान और रहन सहन ने अनेक रोगों को जन्म दिया है। पहले की तुलना में आज के समय में रोग अधिक विस्तॄत रुप में और नए नए प्रकारों में सामने आ रहे हैं। आज के समय में मधुमेह एक ऐसा रोग हैं जो तेजी के साथ अपने पांव पसारता जा रहा हैं।

 

मधुमेह एक उपापचय संबंधी विकार है। यह माना जाता है कि मधुमेह या अधिक वजन वाले व्यक्ति ज्यादातर मधुमेह से प्रभावित होते हैं। जब रक्त में शर्करा का स्तर लगातार अधिक होता है तो यह किडनी की विफलता, हृदय संबंधी समस्याओं के कारण पैदा हो सकता है। ऐसा कहा जाता है कि मधुमेह वाले मरीजों को हृदय रोग और स्ट्रोक होने की संभावना 4 गुना अधिक रहती है। मधुमेह का नियंत्रण ज्यादातर आहार, व्यायाम और दवा पर निर्भर करता है। सामान्यत: यह बच्चों में भी अधिक पाया जाता है। मधुमेह का कारण अधिक वजन, व्यायाम की कमी, वंशानुगत कारण और तनाव के कारण मधुमेह होने की संभावना बढ़ जाती हैं। इस बीमारी के सामान्य लक्षणों में अक्सर भूख कम लगती हैं, अधिक प्यास, वजन में कमी और कमजोरी आदि होते हैं।

मधुमेह रोग निम्न ग्रह योग होने के कारण बनता हैं-

  • दो या तीन अशुभ ग्रह यदि जल तत्व राशियों में मौजूद हों।
  • 6 वें भाव में दो या तीन अशुभ ग्रहों का एक साथ हों।
  • दो या तीन ग्रह अशुभ ग्रह सातवें भाव या तुला राशि में स्थित हों।
  • चंद्रमा जलतत्व राशियों में सूर्य या मंगल से पीड़ित हों।
  • शुक्र जलीय राशियों में सूर्य या मंगल ग्रह से पीडि़त हों।
  • यदि 6 वें भाव का स्वामी 8वें भाव में हों और ८वें भाव का स्वामी ६वें भाव में हों।
  • कुंडली में जब गुरु ग्रह शनि ग्रह से पीडि़त हों। तब मधुमेह होने की संभावनायें बढ़ जाती हैं।

मधुमेह रोग को अतिसंवेदनशील होने से बचाने के लिए आवश्यक है कि रोग के बढ़ने से पहले इसकी रोकथाम के उपाय कर लिए जायें ताकि रोग को तीव्रता से बढ़ने से रोका जा सकें-

सामान्यत: मधुमेह के तीन प्रमुख प्रकार हैं:

  • इंसुलिन पर निर्भर डायबिटीज - टाइप 1।
  • गैर-इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह रोग - प्रकार 2।
  • गर्भावधि के दौरान होने वाला मधुमेह।

टाइप 1 मधुमेह के ज्योतिषीय लक्षण

टाइप 1 मधुमेह एक पुरानी (जीवनकाल) बीमारी है जो तब होती है जब रक्तचाप के स्तर को उचित रूप से नियंत्रित करने के लिए अग्न्याशय बहुत कम या बिल्कुल इंसुलिन पैदा नहीं करता है। टाइप 1 डायबिटीज़ में, अग्न्याशय में कोशिकाएं जो इंसुलिन बनाती हैं, इससे इंसुलिन की गंभीर कमी हो जाती हैं। यह शरीर पर हमला करने और उसके स्वयं की कोशिकाओं को अग्न्याशय में नष्ट करने का नतीजा माना जाता है। संक्षेप में, टाइप 1 मधुमेह के लिए ज्योतिषीय लक्षण निम्न हैं-

  • शुक्र पीडित हों। वह पाप कर्तरी में हों, दुर्बल हो।
  • मंगल पीडित हों, पाप कर्तरी में होने के कारण निर्बल हों।
  • पांचवा घर पीडित हों।
  • राहु के कारण शुक्र और मंगल दोनों पीडित हों।
  • शुक्र, मंगल और राहु सभी का आपसी संबंध बन रहा हों।

टाइप 2 मधुमेह के ज्योतिषीय लक्षण

टाइप 2 मधुमेह सबसे अधिक होने वाली मधुमेह है लगभग 90% मधुमेह इस प्रकार की मधुमेह से पीड़ित हैं। टाइप 2 मधुमेह के परिणाम इंसुलिन प्रतिरोध (एक ऐसी स्थिति जिसमें शरीर को इंसुलिन का उपयोग करने में विफल रहता है), रिश्तेदार इंसुलिन की कमी के साथ संयुक्त होता है। यहां दो पहलू हैं-

  • सापेक्ष इंसुलिन की कमी - पर्याप्त मात्रा में शरीर द्वारा इंसुलिन का उत्पादन नहीं किया जाता है।
  • इंसुलिन प्रतिरोध - शरीर में इंसुलिन का उत्पादन तो होता हैं परन्तु शरीर उसका ठीक से उपयोग नहीं कर पाता है।

ज्योतिष में शुक्र ग्रह को अग्न्याशय का कारक ग्रह माना गया हैं। शुक्र के पीडित हो या दोषपूर्ण हो तो जातक का अग्न्याशय से संबंधित रोग होने की संभावनाएं अधिक रहती हैं। लेकिन आग्न्याशय के स्वस्थ होने पर भी व्यक्ति को भी टाइप 2 डायबिटीज हो सकता है। इसके लिए इस रोग के अन्य लक्षणॊं पर भी ध्यान देना चाहिए। चिकित्सकों के अनुसार इंसुलिन को बेहतर रखने के लिए प्राथमिक उपचार के रुप में व्यायाम और वजन घटाना है। वैदिक ज्योतिष में मंगल ग्रह को मजबूत करने पर भी इस रोग में कमी की जा सकती हैं। साथ ही यदि कुंडली में गुरु दोषपूर्ण हों तब भी मधुमेह रोग पर नियंत्रण रखा जा सकता हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इंसुलिन प्रतिरोध के लिए प्राथमिक उपचार व्यायाम और वजन घटाने है। वैदिक ज्योतिष अभ्यास के अनुसार मंगल ग्रह को मजबूत करने के रूप में पढ़ा जा सकता है। वजन घटाने (शरीर के वजन का प्रबंधन) पढ़ा जा सकता है क्योंकि बृहस्पति के दोषपूर्ण प्रभाव को कम किया जा सकता है।

मधुमेह पर नियंत्रण के सामान्य और ज्योतिषीय उपाय-

  • शारीरिक रूप से सक्रिय रहें। डायबिटीज को रोकने के लिए रोजाना 30 मिनट व्यायाम, जैसे कि- चलना, तैराकी, बाइकिंग, बागवानी, साइकिल से चलने, शक्ति प्रशिक्षण, जॉगिंग और नृत्य करना चाहिए।
  • संतुलित आहार लेना चाहिए-कई सब्जियां और फल, मछली, और दुबला मांस और गैर-डेयरी उत्पादों शामिल हैं।
  • गैर स्टार्च वाली सब्जियां जैसे कि- पालक, हरी बीन्स, ब्रोकोली, मसूर, साबुत अनाज, पूरे गेहूं और गाजर जैसी होनी चाहिए। खाद्य को इस तेलों में पकाया जाना चाहिए जैसे-मछली, ट्यूना, सैल्मन, जैतून का तेल आदि में खाना पकाना चाहिए।
  • मधुमेह के रोगी को जितना संभव हो उतना चीनी से बचना चाहिए। इसमें केक, कुकियाँ, शक्कर मिठाई वाले शीतल पेय, चिप्स और पूर्ण वसा वाले आइसक्रीम शामिल हैं।
  • नमक और नमकीन खाद्य पदार्थ जैसे- चटपटा चिप्स और डिब्बाबंद सब्जियों से दूर रहें। यदि आप डिब्बाबंद सब्जी खाते हैं, तो उन्हें खाने से पूर्व साफ पानी में धोया जाना चाहिए।
  • यदि मधुमेह अधिक वजन वाले हैं, तो वजन को कम करने के सभी आवश्यक उपाय करने चाहिए।

Previous
The 2018 for all the Zodiac signs

Next
ज्योतिष और ह्रदय रोग