जीवनसाथी से अलगाव और ज्योतिष

By: Future Point | 03-May-2019
Views : 8040
जीवनसाथी से अलगाव और ज्योतिष

हमारे समाज में अलगाव की संख्या तेजी से बढ़ रही है। बहुत से लोग वैवाहिक जीवन में परेशानी का सामना कर रहे हैं। शादियां स्वर्ग में होती हैं लेकिन तलाक का फैसला धरती पर लिया जाता है। एक सुखी वैवाहिक जीवन हमारे जीवन में हर तरह की समृद्धि, पारिवारिक वृद्धि और खुशी लाता है। लेकिन हर एक इस विषय में लकी नहीं होता। तलाक या अलग होने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन यहां हम केवल ज्योतिष तलाक के संकेतों पर चर्चा करेंगे। कुंडली में अशुभ ग्रहों के बाद भी तलाक या अलगाव से बचने में उचित विवाह मिलान बहुत प्रभावी सिद्ध होता है।

तलाक - ग्रह और भाव

अशुभ ग्रह विशेष रूप से मंगल, राहु, शनि और सूर्य पृथक् प्रकृति के हैं। वास्तव में ये ग्रह कुंडली में तलाक के एजेंट के रूप में कार्य करते है। इनमें से दो या दो से अधिक ग्रहों का सप्तम, सप्तमेश और कारक गुरु को पीड़ित करना तलाक का कारण बनता है। शुक्र ग्रह प्रेम, रोमांस, सेक्स और विवाह का मुख्य ग्रह है। पुरुष कुंडलियों में यह जीवन साथी को इंगित करता है। इसलिए यदि शुक्र पीड़ित है, मार्गी होकर कमजोर है तो यह वैवाहिक जीवन में परेशानी का संकेत है। महिला कुंडली में बृहस्पति को पति का कारक ग्रह माना जाता है। इसलिए जब बृहस्पति कमजोर या पीड़ित होता है तो पति नाखुश रहता है।

कुंडली में तलाक के भाव

  • ज्योतिष शास्त्र में वैवाहिक सौहार्द्र, विडंबना और तलाक को आंकने के लिए मुख्य रुप से चतुर्थ, सप्तम, आठवें और द्वादश भाव का विचार किया जाता है।
  • चतुर्थ भाव परिवार से सुख का भाव है। इसलिए जब चतुर्थ भाव या चतुर्थेश पीड़ित हो तो परिवार में सुख की कमी रहती है। इसके विपरीत चतुर्थ भाव मजबूत हो या चतुर्थेश सुस्थित हो तो तलाक योग अंतिम परिणाम नहीं होता है।
  • सातवां घर विवाह का मुख्य भाव है। यह भाव न केवल शादी के विषय में बल्कि सभी प्रकार के संबंधों के लिए भी देखा जाता है। इसलिए जब 7 वां भाव पीड़ित होता है और सातवें भाव का स्वामी भी पीड़ित होता है, तो यह इंगित करता है कि व्यक्ति को एक अच्छा वैवाहिक जीवन नहीं मिलेगा।
  • 8 वां भाव किसी भी व्यक्ति के यौन जीवन को नियंत्रित करता है। सभी भावों में यह सबसे अशुभ भाव है। यह सभी प्रकार की छिपे हुए विषयों, गुप्त चीजों, बाधाओं और संघर्षों आदि को प्रकट करता है। इसके अलावा 7 वें भाव से दूसरा होने के कारण यह वैवाहिक जीवन में वृद्धि के लिए भी जिम्मेदार है। यदि 8 वां भाव पीड़ित है, और 8 वें भाव का स्वामी सातवें भाव से संबंध बनाता हैं तो यह विवाह में नकारात्मक फल ला सकता है। यह ज्योतिष में विवाहेतर संबंधों के लिए मुख्य भाव है।
  • 12 वें भाव शयन सुख या यौन सुख के भाव के रूप में जाना जाता है। यदि 12 वां भाव पीड़ित है तो यह खराब यौन जीवन को दर्शाता है और यदि 12 वें भाव का स्वामी पीड़ित है तो यह यौन जीवन में रुचि की कमी दर्शाता है।
  • यदि 7 वें भाव का स्वामी 12 वें भाव के स्वामी और राहु के साथ लग्न भाव में स्थित हो तो यह वैवाहिक कलह का कारण बनता है।

उपाय

  • श्रावण मास के दौरान लड़कियां हरे रंग की चूड़ियाँ पहनें।
  • गुरुवार को सफेद कपड़े पहनें। ये दोनों ग्रह प्रेम, संबंध और शीघ्र विवाह को नियंत्रित करता है।
  • दीया / दीपक जलाएं और इसे अपने घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में रखें।
  • सुपारी या पान लें। उस पर अपने प्रिय का नाम लिखें और उसे शहद की बोतल में डुबोएं। यह उस व्यक्ति को आपके करीब लाएगा।
  • आप दोनों के बीच प्रेम के बंधन को मजबूत करने के लिए पूर्णिमा पर अपने प्रेमी से मिलें।
  • 108 मनकों से बनी स्फटिक मनकों की माला पर "ओम लक्ष्मी नारायण नमः" का 3 बार जप करें। 3 महीने तक भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी के सामने मंत्र जाप करें। यह आपके और आपके जीवनसाथी के बीच एक मजबूत पैदा करेगा।
  • अपने प्यार को जीतने के लिए अपने घर के पास किसी भी भगवान कृष्ण मंदिर में बांसुरी अर्पित करें।
  • दुर्गा माता को लाल शॉल चढ़ाएं और अपने प्यार के सफल होने की प्रार्थना करें। इससे आपको आपका मनचाहा प्यार मिलेगा।
  • शहद के साथ "रुद्र अभिषेक" करें। शिव लिंग की यह पूजा विवाहित और अविवाहित लड़कियों के लिए लाभदायक है।
  • लड़कियों को एक सुंदर और प्यार करने वाला पति पाने के लिए 16 सोमवार या सोलह सोमवार का व्रत करना चाहिए।
  • अपने इच्छित व्यक्ति से विवाह करने के लिए गौरी-शंकर रुद्राक्ष पहनें।
  • अपने जीवन में प्यार को आकर्षित करने के लिए डायमंड या ओपल या जिरकॉन (हीरे के विकल्प) पहनें।
  • खुशहाल शादी सफल जीवन की कुंजी है। एक प्यार करने वाला जीवनसाथी आपको सफलता की बुलंदियों तक पहुंचा सकता है। कई कारक विवाहित जीवन की सफलता को निर्धारित करते हैं।

Previous
राहु और मंगल की युति 2019

Next
परीक्षा में टॉप करने के लिए अपनाएं ये आसान वास्तु टिप्स