घर में चित्रों का उपयोग कर वास्तु दोष कैसे निकालें

By: Future Point | 09-Jun-2018
Views : 10513
घर में चित्रों का उपयोग कर वास्तु दोष कैसे निकालें

एक सुंदर सा अपना आशियाना हों इसका स्वप्न हम सभी देखते हैं। अपने इस स्वप्न को यथार्थ की जमीं देन की भी हम पूरी कोशिश करते हैं। आज की मंहगाई और प्रतियोगिता के युग में इस स्वप्न को पूरा कर पाना सभी के लिए मुमकिन नहीं हो पाता हैं। जिन चंद लोगों को अपने घर में रहने की खुशियां प्राप्त हो पाती हैं, उन लोगों के लिए घर किसी स्वर्ग से कम नहीं होता हैं।

कहने को तो सभी घरों के बनाने में पत्थर, सीमेंट और ईंट ही लगती हैं, परंतु हर मकान घर नहीं बन पाता हैं। जब तक घर को प्यार, विश्वास और आपसी रिश्तों के ड़ोर से नहीं बांधा जाता हैं तक यह घर्रौंदा मकान ही बना रहता हैं।

आपके इसी घरौंदे में आपसी भाईचारा, प्रेम, विश्वास बना रहे, उन्नति और सफलता की प्राप्ति घर में रहने वाले सदस्यों को मिलती रहें, इसके लिए आवश्यक हैं कि आपका घर के रंग, तस्वीर और अन्य वस्तुएं वास्तुसम्मत हों। सभी वस्तुओं में उचित तालमेल बना रहना शुभता देता हैं। घर के सौंदर्य को बेहतर करने में सुंदर चित्रों का प्रयोग करना, न केवल घर को सुंदर बनाता हैं, साथ ही इससे वास्तु दोषों को भी दूर किया जा सकता हैं।

आज इस आलेख में हम आपको यही जानकारी देने जा रहे हैं कि- घर की कौन सी दिशा में कौन सा चित्र लगाया जाना चाहिए- आईये जानें

  • घर के बच्चों की फोटॊ लगाने के लिए पूर्वी एवं उत्तरी दीवारों पर लगाना शुभ माना जाता हैं। घर के इस भाग की दिशा या दीवारों को हंसते, खेलते, मुस्कुराते बच्चों का चित्र परिवार में प्रसन्नता और खुशी बन रखता हैं। इससे वास्तु दोष में कमी होती हैं और पारिवारिक जीवन खुशहाल बनता हैं।

  • धन आगमन को बनाए रखने के लिए घर के उत्तर-पूर्व दिशा को साफ सुथरा रखें। घर का मंदिर रखने के लिए यह सबसे शुभ दिशा हैं। इस दिशा में आप धन वृद्धि के लिए लक्ष्मी जी व कुबेर जी की फोटो लगा सकते हैं। यह उपाय इस दिशा का वास्तु दोष तो दूर करता ही हैं साथ ही धन आगमन के साधनों को भी बेहतर करता हैं।

  • घर में प्रकृति से जुड़े तस्वीर लगाने की सबसे उत्तम दिशा दक्षिण या पश्चिम दिशा हैं। इस दिशा में आप इस तरह की तस्वीरें लगाने से सुख-समृद्धि बनी रहती हैं और घर में खुशहाली आती हैं।

  • घर या व्यापारिक क्षेत्र में धन आगमन बनाए रखने के लिए ईशान कोण जिसे उत्तरी व पूर्वी कोने के नाम से भी जाना जाता हैं। इस दिशा में ऐसे तस्वीरें लगाने से घर में धन की किसी प्रकार की कमी नहीं रहती हैं।

  • घर के उत्तर-पूर्व के कोने को ईशान कोण के नाम से जाना जाता हैं। इस दिशा को साफ सुथरा रखना चाहिए और पूजा घर के लिए यही दिशा सबसे अनुकूल दिशा हैं। इस कोने में बहते पानी के चित्र लगाना वास्तु दोष में कमी करता है। साथ ही इस तरह के चित्र यहां लगाने से घर में धन का आगमन बन रहता हैं। यह ध्यान रखें कि पानी के चित्र में पहाड़, पर्वत और रुकावटें ना दिखाई गई हों।

  • उत्तर क्षेत्र की दिशा या दिवार पर हरे-भरे लहलाते पौधों के चित्र और चहचाहते पक्षियों की फोटो लगाना भी धन आगमन के पक्ष से शुभ हैं। इस दिशा की शुभता न केवल धन आगमन को बेहतर करती हैं, बल्कि इससे बच्चों का शिक्षा में मन भी लगता हैं। साथ ही कार्यों में एकाग्रता भी अधिक रहती हैं। इस दिशा का स्वामी बुध ग्रह हैं।

  • उत्तर दिशा क्योंकि धन के देवता कुबरे व धन की देवी लक्ष्मी जी की दिशा हैं। इस दिशा में इन दोनों का तस्वीरें लगाना भी शुभता देता हैं। आय और लाभ दोनों के शुभ परिणाम प्राप्त होने शुरु होते हैं।

  • जुड़वां पक्षियों या जुड़वां बच्चों के फोटॊ लगाना भी वास्तु शास्त्र के अनुसार शुभता देता हैं। ऐसे चित्र लगाने से घर में सुख समॄद्धि बनी रहती हैं।

  • धन रखने के स्थान व तिजोरी के दोनों और लक्ष्मी जी की तस्वीर जिसमें दो हाथी सूंड उठाए हुए हों, लगाना अत्यंत शुभ माना जाता हैं। जहां यह तिजोरी रखी गई हों उस कमरे का रंग क्रीम कराना शुभ रहता हैं।

  • बच्चे की पढ़ाई की मेज के सामने दिवार पर या मेज पर देवी सरस्वती का चित्र लगाना चाहिए, मेज पर एजुकेशन ग्लोब रखें।

  • बच्चा जिस कक्ष में पढ़ता हो उस कक्ष में वीणा और शिक्षा से जुड़ी वस्तुओं के चित्र लगाने चाहिए। इससे पढ़ाई में बच्चे की रुचि बनी रहती हैं।


Previous
कुबेर यंत्र - उपयोग विधि, लाभ और धारण विधि

Next
वास्तु : इन यंत्रों के उपयोग से जीवन में आएंगी अधिक खुशियां