Sorry, your browser does not support JavaScript!

वार्षिक राशिफल (कन्या राशि)

इस वर्ष शनि धनु राशि में चतुर्थ भाव में रहेंगे। 23 मार्च को राहु मिथुन राशि में दशम भाव में प्रवेश करेंगे। 29 मार्च को गुरू धनु राशि में चतुर्थ भाव में प्रवेश करेंगे और वक्री होकर फिर से 23 अप्रैल को वृश्चिक राशि में तृतीय भाव में गोचर करेंगे और फिर मार्गी होकर 05 नवम्बर को धनु राशि में चतुर्थ भाव में आजाएंगे।

कार्य व्यवसाय़

व्यवसाय की दृष्टि से यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। दशम भाव पर शनि की दृष्टि से कार्य क्षेत्र में साधारण परेशानी हो सकती है जिससे आप अपने कार्यों को अंजाम तक पहुंचाने में कठिनार्इ का अनुभव करेंगें। उस अवधि में आपका अपने प्रति विश्वास आपको लगातार विजय दिलायेगा। नौकरी करने वाले व्यक्तियों के लिए यह समय स्थानान्तरण का है। वरिष्ठ लोगों व उच्चाधिकारियों का सहयोग प्राप्त करने का प्रयास करें। 23 मार्च के बाद राहु ग्रह का गोचर दशम भाव में होगा। उस के बाद आप को कार्य क्षेत्र में अचानक उन्नति के योग बनेंगे।

धन सम्पत्ति

आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष सामान्य फलदायक रहेगा। वर्षारंभ में एकादश स्थान का राहु अचानक लाभ प्राप्त कर सकता हैं जिससे पुराने चले आ रहे कर्ज इत्यादि से मुक्ति मिल सकती है। 23 मार्च के बाद राहू ग्रह का गोचर दशम स्थान में होगा। उस समय परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य पर भी धन व्यय हो सकता है। इस वर्ष आप पुराने घर की मरम्मत आदि कार्यों में रुकावटों के चलते कुछ परेशान हो सकते हैं। सम्पति पर व्यय होगा। नर्इ सम्पति बनाने की योजना को सोच समझकर अंजाम दें जल्दबाजी करना अच्छा नहीं होगा।

परिवार एवं समाज

पारिवारिक दृष्टि से यह वर्ष सामान्य रहेगा। चतुर्थ स्थान का शनि पारिवारिक माहौल के लिए अच्छा नहीं होता है। इसके प्रभाव से परिवार में किसी बडे़ व्यक्ति या माता-पिता से वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो सकते हैं। उस समय आपको अपने अन्दर प्रतिरोधात्मक शक्ति विकसित करें नहीं तो स्थिति बिगड़ सकती है। अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें तथा माता-पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। आपकी अचानक उन्नति से आपका सामाजिक रुतबा बढ़ेगा।

संतान

संतान की दृष्टि से यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। आपके बच्चे अपने परिश्रम के बल पर आगे बढेंगे वो अपने बौद्धिक बल पर अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे। आपकी प्रथम संतान के लिए यात्रा व व्ययाधिक्य के योग बने हुए हैं। दि्वतीय संतान को मानसिक चिंता हो सकती है परंतु व्यावसायिकदृष्टि से स्थिरता बनी रहेगी।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष बहुत अनुकूल नहीं रहेगा। लग्न स्थान पर शनि की दृष्टि के कारण स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव काफी देखने को मिलेगा। खासकर जोड़ों में दर्द, सिर दर्द एवं वायु संबंधी समस्या हो सकती है। इसके अतिरिक्त मानसिक तनाव की स्थिति बनी रहेगी। अतः स्वास्थ्य को लेकर किसी प्रकार की लापरवाही न करें अन्यथा स्वास्थ्य ज्यादा प्रभावित हो सकता है। यदि आप आयुर्वेद जड़ी-बूटी और योगाभ्यास आदि का सहारा लें तो जल्दी लाभ मिलेगा। सुर्योदय से पहले उठ कर पार्क में घूमना भी आपके लिए लाभ प्रद रहेगा।

करियर एवं प्रतियोगी परीक्षा

विद्यार्थियों के लिए यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। यदि आप नौकरी पाने के लिए या किसी बडे़ संस्थान में शिक्षा प्राप्ति हेतु प्रवेश पाने के लिए किसी प्रतियोगी परीक्षा में बैठने जा रहे हैं तोआपके लिए अचानक सफलता प्राप्ति के योग बने हुए हैं। प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता प्राप्ति हेतु आपको दृढ़ प्रतिज्ञ होकर तैयारी करनी चाहिए। अध्ययन के प्रिंत आपकी रूचि बढ़गी परन्तु आलस्य की भावना सफलता में बाधक साबित हो सकती है।

यात्रा

इस वर्ष दूर की यात्राएं स्थगित रहेंगी परंतु समय समय पर पास की यात्राएं होती रहेंगी। जो की सामान्यतः आपके लिए लाभदायक सिद्ध होंगे। नौकरी करने वाले व्यक्तियॊं का स्थानान्तरण होगा। नवम स्थान पर गुरू ग्रह की दृष्टि प्रभाव से आप धार्मिक यात्रा का आनन्द प्राप्त करेंगे।

धर्म कार्य एवं ग्रह शान्ति

धार्मिक कार्य के लिए यह वर्ष अनुकूल है। नवम स्थान पर गुरू ग्रह की दृष्टि प्रभाव से आप कोर्इ विशेष पूजा अनुष्ठान जैसे अखण्ड रामायण का पाठ, माता की चौकी, माता का जागरण या अन्य कोर्इ हवन इत्यादि संपन्न करेंगे। जिससे आपको मानसिक शान्ति प्राप्त होगी। • शनिवार के दिन लोहे का तवा दान करें। • गरीब लोगों की सहायता करें एवं काला कंबल दान करें। • रुद्राभिषेक पूजन करें और ऊँ नमः शिवाय मंत्र का पाठ करें।

और अधिक जानकारी के लिये आज ही हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें और पाएँ १०% की छूट

कन्या राशि के सामान्य गुण

भौतिक लक्षण कन्या राशि

मध्यम कद, काले बाल और आंख, त्वरित चुस्त चाल, वास्तविक आयु से कम के प्रतीत होते हैं, विकसित छाती, सीधी नाक, पतली और तीखी आवाज, धनुषाकार धनी भौंहें, गर्दन या जांधों पर निशान।

अन्य गुण :

बहुत बुद्धिमान, विश्लेषक, विलक्षण बुद्धि वाला अन्य की भावनाओं और त्रुटियों का निंदक। भाषाओं के ज्ञानी होते हैं और किसी प्रक्रिया को समझने में वैज्ञानिक दृष्टिकोण का उपयोग करते हैं। भावनाओं में बह जाते हैं। सोच समझ कर निर्णय लेते हैं। आत्मविश्वास की कमी, घबराये से रहते हैं। सुव्यवस्थित अपने विचार की बारीकियों को समझने में सक्षम होते हैं। स्वयं के स्वार्थ के प्रति जागरूक, मितव्ययी, कूटनीतिज्ञ, चतुर होते हैं। गृहसज्जा में निपुण, गणितज्ञ, परविद्या में रुचि होती है।

संभावित रोग कन्या राशि :

उदर रोगों से सावधान रहना चाहिए। पेचिश, टायफायड, पथरी आदि संभाव्य रोग है। विवाह में विलंब, वैवाहिक जीवन सुखी, संतान कम होती है। आय उत्तम, कार्य-व्यवसाय में सफलता, संपत्ति के मालिक होते हैं। नाममात्र की व्याधि होने पर भी डॉक्टर के पास चले जाते हैं। पृथ्वी तत्व की राशि होने के कारण बागवानी और खेती में रुचि लेते हैं। धन संचय में रुचि होती है।

20 से 25 वर्ष की आयु में सफल और साहसी होते हैं। 25 से 35 वर्ष की आयु में स्वयं का मकान होता है। 36 से 48 वर्ष कष्टप्रद होते हैं। 49 से 62 वर्ष सौभाग्यशाली होते हैं, अचानक लाभ होता है। 23 और 24वें वर्ष बहुत उत्तम रहते हैं जबकि 4, 16, 22, 36 और 55 वें वर्ष कष्टप्रद होते हैं। जीवन के अंतिम चरण में टी. बी. हो सकती है।

स्त्री राशि, मनोरंजन के स्थान, चारागाह, शुभ राशि, मध्यम कद शीर्षोदय राशि, पौधों वाली भूमि, कन्धों तथा भुजाओं का झुकना, सच्चा दयालुता, काले बाल, अच्छी मानसिक योग्यता, विधि अनुसार कार्य करने वाली तर्कशील होती है।

कन्या राशि के उपयुक्त व्यवसाय

लेखाकार, मनोचिकित्सक, क्लर्क, डॉक्टर, पायलट, संपादक और लेखक, स्टेशनरी की दुकान

कन्या राशि की मित्र राशि

मिथुन, वृषभ, तुला, मकर, कुंभ राशि

कन्या राशि का तत्व

पृथ्वी

कन्या राशि का संबद्ध चक्र

विशुद्ध

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
for free daily, weekly & monthly horoscope

Download our Free Apps

futuresamachar futuresamachar

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Call: 91-9911185551, 011 - 40541000

Helpline

9911185551

Trust

Trust of 35 yrs

Trusted by million of users in past 35 years