Sorry, your browser does not support JavaScript!

वार्षिक राशिफल (कुंभ राशि)

इस वर्ष शनि धनु राशि में एकादश भाव में रहेंगे। 23 मार्च को राहु मिथुन राशि में पंचम भाव में प्रवेश करेंगे। 29 मार्च को गुरू धनु राशि में एकादश भाव में प्रवेश करेंगे और वक्री होकर फिर से 23 अप्रैल को वृश्चिक राशि में दशम भाव में गोचर करेंगे और फिर मार्गी होकर 05 नवम्बर को धनु राशि में एकादश भाव में आजाएंगे।

कार्य व्यवसाय़

कार्य व्यवसाय की दृष्टि से यह वर्ष श्रेष्ठ रहेगा परन्तु कार्य में सफलता प्राप्ति के मार्ग पर लगातार व्यवधान आते रहेंगे। सट्टा व शेयर मार्केट आदि कार्यों से दूर रहें। शत्रु पक्ष द्वारा कार्यों में रूकावटें डाली जायेंगी। अतः सावधानी बरतें। दशम स्थान स्थित गुरु नौकरी करने वालों की पदोन्नति करायेंगे। भूमि से सम्बन्धित कार्य करने वाले व्यक्तियों को लाभ प्राप्त होगा। व्यवसाय मेंविस्तार होगा।

धन सम्पत्ति

आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष सामान्य लाभ दायक रहेगा। आय स्थान का शनि धानागम में निरन्तरता बनाए रखेंगे। फंसे हुए धन की प्राप्ति हो सकती है। मांगलिक कार्यमें आप धन व्यय करेंगे। सट्टा कार्यों में धन हानि हो सकती है। उत्साह एवं पराक्रम के साथ अपने आर्थिक स्थिति को बढ़ाने में तत्पर रहेंगे। इस वर्ष वाहन के क्रय, भवन निर्माण कार्य या घर में विवाह आदि पर धन का व्यय होगा। निवेश के लिए भी यह समय अनुकूल है।

परिवार एवं समाज

पारिवारिक दृष्टि से यह वर्ष अनुकूल रहेगा। दूसरे भाव पर गुरु की दृष्टि से परिवार में शांतिपूर्ण वातावरण रहेगा। आपको पारिवारिक माहौल से सहारा मिलेगा। परिवार के साथ तीर्थाटन पर जा सकते हैं। परिवार में नये सदस्यों की बढ़ोत्तरी होगी। माता पिता का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। विरोधी दूर होंगे एवं परिवार के लोगों का व्यवहार बहुत अच्छा हो जायेगा। इस वर्ष आप परोपकारी, जन कल्याण तथा सेवा कार्यों में संलग्न रहेंगे। ऐसा करने से आपके मान-सम्मान व पुण्य की वृद्धि होगी।

संतान

संतान की दृष्टि से यह वर्ष बहुत बढिया नहीं रहेगा। बच्चों की शिक्षा स्वास्थ्य व उन्नति में भी बाधा उत्पन्न होगी। 23 मार्च के बाद राहु का गोचर पंचम स्थान में होगा। गर्भपात होने की सम्भावना है।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष मिला-जुला रहेगा। पेट दर्द तथा पाचन तन्त्र से सम्बन्धित समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। अपना स्वास्थ्य अनुकूल रखने के लिए शाकाहारी भोजन करें एवं योगाशन करते रहें। कभी-कभी मौसम जनित बीमारियों से परेशान हो रहे हैं तो जल्दी ही आप अच्छे हो जाएंगे। 23 मार्च के बाद समय थोड़ा प्रभावित हो जाएगा। यदि आप ब्लडप्रेशर के मरीज हैं तो उस समय अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें।

करियर एवं प्रतियोगी परीक्षा

वर्ष का पूर्वार्द्ध करियर के लिए उत्तम रहेगा, षष्ट स्थान का राहु प्रिंतयोगी परीक्षा में सफलता के लिए अच्छा योग बना रहा हैपरन्तु 23 मार्च के बाद राहु ग्रह का गोचर पंचम स्थान मे होगा। वो समय विद्यार्थियो के लिये बाधा कारक है। उस समय पढ़ार्इ के प्रति अरूचि उत्पन्न होगी। तकनीकी शिक्षा, प्राद्यौगिकी व इन्जीनियरिंग की पढ़ार्इ में दाखिला मिल जायेगा।

यात्रा

यात्रा की दृष्टि से यह वर्ष सामान्य फलदायक रहेगा। वर्ष के पूर्वार्द्ध में छोटी मोटी यात्राएं होती रहेंगी। वर्षारम्भ में विदेश यात्रा भी हो सकती है। 23 मार्च के बाद नौकरी में स्थानान्तरण हो सकता है। यह स्थानान्तरण आपके लिए अनुकूल रहेगा।

धर्म कार्य एवं ग्रह शान्ति

वर्ष के प्रारम्भ में आप धार्मिक कार्य अधिक करेंगे। आपका मन एकाग्र रहेगा जिससे योग ध्यान इत्यादि क्रिया करते रहेंगे। आप मन्त्र जाप व कुछ तान्त्रिक क्रियाओं में रुचि लेंगे। • दुर्गा बीसा यन्त्र गले में धारण करें। प्रतिदिन दुर्गा कवच का पाठ करें। • अपने कार्य स्थल पर व्यापार वृद्धि यन्त्र स्थापित करें एवं नित्य उसका पूजन करें। • कन्या पूजन करें तथा उन्हें भोजन व नूतन वस्त्र आदि प्रदान करें।

और अधिक जानकारी के लिये आज ही हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें और पाएँ १०% की छूट

कुंभ राशि के सामान्य गुण

भौतिक लक्षण कुंभ राशि

मध्यम कद, हष्ट-पुष्ट, चेहरा सुंदर और गोल, गाल भरे हुए, कनपटियां और जांघें विकसित होती हैं। गोरा रंग, भूरे बाल, असुंदर दांत, पिंडलियों में मस्सा, शरीर पर घने बाल हाथ और पैर मोटे, नसें विकसित होती हैं।

अन्य गुण धर्म :

मानवीय दृष्टिकोण और प्रगतिशील जीवन और उसकी समस्याओं के प्रति स्वस्थ दृष्टिकोण रखते हैं। संकोची होते हैं, निर्णय लेने से पूर्व पूर्ण नापतोल करते हैं या अन्य लोगों द्वारा कार्यारंभ करने तक प्रतीक्षा करते हैं। सदा सतर्कता, धैर्य, एकाग्रता, अध्ययनशीलता से युक्त रहते हैं। वार्तालाप रुचिकर होता है। स्पष्टवादी, सबके प्रिय होते हैं। दयालु, अध्ययन प्रेमी और सज्जन होते हैं। प्रकृतिप्रेमी होते हैं। मित्रता निभाते हैं, रुचि-अरुचि तीव्र होती है। एकांतप्रिय होते हैं। अतीन्द्रिय शक्ति से युक्त होते हैं, ध्यान-साधना में रुचि होती है। स्मरणशक्ति तीव्र, दृष्टिकोण वैज्ञानिक होता है।

गरीबों के सेवक होते हैं। नवीन तकनीक और मशीनरी, अनुसंधान, निवेश आदि द्वारा धनार्जन करते हैं। तकनीकी शिक्षा में रुचि होती है। परिवार से लगाव होता है। जीवनसाथी के चुनाव में आयु को अनदेखी कर बुद्धि और शिक्षा में समानता पर जोर देते हैं। गृह सुसज्जित होता है जिसमें आधुनिक ढंग से पुरातत्विक सामग्री एकत्रित रहती है। अपने प्रेम को अभिव्यक्त नहीं करते। अगर इनका प्रेमी वासनप्रिय हो तो वह असंतुष्ट होता है क्योंकि कुंभ राशि के व्यक्ति शीतल होते हैं।

संभाव्य रोग कुंभ राशि :

संक्रामक रोग, दंत व्याधि, टॉन्सिल आदि 22 से 40 वर्ष की आयु में संपन्नता रहती है। 41 से 43 वर्ष में हथियार, लोहे या काष्ठ से चोट की आशंका रहती है। 44 से 67 वर्ष भाग्यशाली होते हैं। 68 वर्ष से बाद का समय अशुभ होता है।

अशुभ वर्ष कुंभ राशि :

33, 48, 64

वे स्थान जहां पानी सूख जाता है, जहां शराब बनती है, जहां पक्षी रहते हैं और जहां घड़े रखे जाते हैं। पाप राशि, दिनबली, शीर्षोदय, देखने में सुंदर, प्रतिभावान, क्षमाशील स्वभाव का होता है। पुरुष राशि है।

कुंभ राशि के उपयुक्त व्यवसाय

सलाहकार, इंजीनियर, डॉक्टर, ज्योतिषी, तकनीकी और मैकेनिकल नौकरियां

कुंभ राशि की मित्र राशि

मिथुन, वृषभ, कन्या, तुला, मकर राशि

कुंभ राशि का तत्व

हवा

कुंभ राशि का संबद्ध चक्र

मूलाधार

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
for free daily, weekly & monthly horoscope

Download our Free Apps

futuresamachar futuresamachar

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Call: 91-9911185551, 011 - 40541000

Helpline

9911185551

Trust

Trust of 35 yrs

Trusted by million of users in past 35 years