facebook आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातक

आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातक

भचक्र में 27 नक्षत्रों की श्रृंखला में आर्द्रा नक्षत्र का स्थान छठा है। ज्योतिष के अनुसार आर्द्रा नक्षत्र का स्वामी ग्रह राहु है। यह आँसू की तरह दिखायी देता है। इस नक्षत्र के देवता रूद्रा (शिव का एक रूप) और लिंग स्री है। आर्द्रा नक्षत्र कई तारों का समूह न होकर केवल एक तारा है। यह आकाश में मणि के समान दिखता है। इसका आकार हीरे अथवा वज्र के रूप में भी समझा जा सकता है। कई विद्वान इसे चमकता हीरा तो कई इसे आंसू या पसीने की बूंद समझते हैं। इस नक्षत्र का रंग लाल होता है। प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस लाल रंग के तारे में संहारकर्त्ता शिव का वास माना जाता है।

आर्द्रा नक्षत्र के चारों चरण मिथुन राशि में स्थित होते हैं जिसके कारण इस नक्षत्र पर मिथुन राशि तथा इस राशि के स्वामी ग्रह बुध का प्रभाव भी रहता है। आर्द्रा नक्षत्र मिथुन राशि में 6 अंश 40 कला से 20 अंश तक रहता है। आर्द्रा का अर्थ होता है नमी, भीषण गर्मी के बाद नमी के कारण बादल बरसने का समय, सूर्य का इस नक्षत्र पर गोचर ग्रीष्म ऋतु की समाप्ति तथा वर्षा ऋतु का आगमन को दर्शाता है। कुछ विद्वानों ने आर्द्रा नक्षत्र का संबंध पसीने और आँसू की बूंद से जोडा़ है। वास्तव में सभी प्रकार की नमी, ठण्डक तथा गीलापन आर्द्रता कहलाता है। जो बीत गया, उसे भूल जाओ, नए का स्वागत करो, यही संदेश आर्द्रा नक्षत्र में छिपा है। दृढ़ता, धैर्य, सहिष्णुता तथा सतत प्रयास का महत्व आर्द्रा नक्षत्र ही सिखाता है। कुछ ग्रंथों में आर्द्रा नक्षत्र को "मनुष्य का सिर" भी कहा गया है। यदि आप आर्द्रा नक्षत्र से संबंध रखते हैं, तो आइये जानते हैं आर्द्रा नक्षत्र के बारे में-

व्यक्तित्व -

आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातक मोटे और पतले दोनों तरह की काया के हो सकते हैं। नेत्र आकर्षक व ऊंची नाक होती है, आर्द्रा नक्षत्र के जातक का स्वभाव चंचल होता है। वह हँसमुख, अभिमानी तथा विनोदी स्वभाव का होता है। ये कर्तव्यनिष्ठ, कठोर परिश्रमी और सौंपे गए काम को पूरी ज़िम्मेदारी से निभाने वाले हैं। ये जन्मजात जीनियस हैं, क्योंकि राहु इस नक्षत्र का स्वामी एक शोधकारक ग्रह है। इनमें विविध विषयों का ज्ञान पाने की एक भूख-सी होती है। ये हँसी-मज़ाक़ करने वाले हैं और सबसे बड़ी शालीनता से पेश आते हैं। क्योंकि हर विषय की कुछ-न-कुछ जानकारी ये रखते ही हैं, इसलिए किसी शोधकार्य से लेकर व्यवसाय तक सभी कामों में सफल हो सकते हैं। सामने वाले व्यक्ति के मन में क्या चल रहा है यह ये आसानी से भाँप लेते हैं, इसलिए इनका स्वभाव अन्तर्ज्ञान संपन्न है और ये एक अच्छे मनोविश्लेषक भी हैं। इनमें दुनियादारी को समझने की विशेषता है और ये अपने निरीक्षण या परीक्षण से प्राप्त अनुभवों को भी बांटने में संकोच नहीं करते हैं। हर चीज़ की गहराई से जाँच-पड़ताल करना इनकी आदत में शुमार है। बाहर से भले ही ये शांत और गंभीर जान पड़ें परंतु इनका मन और मस्तिष्क निरंतर सक्रिय रहने से भीतर एक बवंडर-सा चलता रहता है। क्रोध पर नियंत्रण रखना ही इनके लिए श्रेयकर है।

आर्द्रा नक्षत्र के जातक क्रय-विक्रय में निपुण होते हैं। परिस्थितियाँ निरंतर इनकी परीक्षा लेती रहती हैं और ये हमेशा बड़े धैर्य व विवेक से स्वयं को बिखरने व टूटने से बचाते रहते हैं। शायद इन्हीं सब कारणों से ये जीवन में इतने अनुभवी और परिपक्व हैं। जीवन में आने वाली समस्याओं का किसी से ज़िक्र नहीं करना भी इनकी एक ख़ूबी है। इनका व्यवहार कभी-कभी अबोध बालक सरीखा हो जाता है जो भविष्य की चिंता करना नहीं जानता। ये रहस्यवादी हैं जो समझदारी और विवेक का आश्रय लेकर समस्याओं को सुलझाते हैं। हर समस्या पर गंभीरता से चिंतन, मनन और विश्लेषण करके ये आख़िर में सफल हो ही जाते हैं। ये पराक्रमी व पुष्ट शरीर वाले हैं। इनमें एक ही समय में कई कार्यों को करने की क्षमता है। आध्यात्मिक जीवन जीने में भी इनकी रुचि है। ये क्यों और कैसे के नियमों पर काम करते हैं और कई अनसुलझे रहस्य सुलझाने में लगे रहते हैं। लेकिन कई बार ये बुरे विचारों वाले तथा व्यसनी भी हो जाते हैं। अपने रोज़गार को लेकर ये घर से दूर रहेंगे। दूसरे शब्दों में ये नौकरी या व्यवसाय को लेकर विदेश जा सकते हैं। 32 वर्ष से लेकर 42 वर्ष का समय इनके लिए शुभ रहेगा।

शिक्षा और व्यवसाय -

इन लोगों की शिक्षा इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, ज्योतिष शास्त्र अथवा मनोविज्ञान से सम्बंधित हो सकती है। बिजली से संबंधी सामान एवं उससे जुड़े काम आर्द्रा नक्षत्र में आते हैं। इलैक्ट्रानिक व कम्प्यूटर से संबंधित कामों में ये अच्छा लाभ कमा सकते हैं। वाद्य उपकरण, विभिन्न भाषाओं का ज्ञान होना, फोटोग्राफी से संबंधित काम, कंप्यूटर डिज़ाइनर का कार्य भी इस नक्षत्र के अंतर्गत आता है। ये एक अच्छे दार्शनिक चिकित्सक शास्त्री बन सकते हैं। दिमागी खेल जैसे शतरंज इत्यादि में भी इनको अच्छी रफ्तार मिल सकती है। मनोचिकित्सक, अन्वेषक, गुप्तचर विभाग से जुड़े कार्य, मादक पदार्थ, राजनैतिक षडयंत्र व घोटाले इत्यादि से संबंधित काम इस नक्षत्र में आते हैं। ये इलेक्ट्रोनिक इंजीनियरिंग व कंप्यूटर सम्बंधित काम, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के क्षेत्र, अंग्रेज़ी अनुवाद, फ़ोटोग्राफ़ी, भौतिकी व गणित का अध्यापन, अनुसंधान या शोधकार्य, दर्शन, लेखन, उपन्यास लेखन, विष चिकित्सा, औषधि निर्माण, नेत्र व मस्तिष्क रोग निदान, यातायात, संचार विभाग, मनोचिकित्सा, गुप्तचर व रहस्य सुलझाना, फ़ास्ट फ़ूड व मादक पदार्थ आदि से जुड़े कार्य करके आजीविका कमा सकते हैं।

पारिवारिक जीवन -

आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातकों का पारिवारिक जीवन मिश्रित परिणाम देने वाला रहता है। इनका विवाह ज़रा देर से होता है, और स्वभाव थोड़ा कठोर होता है। सुखी विवाहित जीवन हेतु किसी भी प्रकार के वाद-विवाद से आपको हमेशा बचना चाहिए अन्यथा वैवाहिक जीवन में दिक़्क़तें आ सकती हैं। नौकरी या व्यवसाय को लेकर आप परिवार से दूर रह सकते हैं। इनका जीवनसाथी इनका पूरा ध्यान रखेगा; वह घर के काम-काज में दक्ष होगा। परिवार से संपत्ति को लेकर विवाद भी हो सकता है। परिवार से अलग रहने की संभावना भी बनती दिखाई देती है। भाग्य जातक का काम साथ देता है, जीवनभर भाग्य से संबंधित समस्याओं से उलझना पड़ता है। और जातक अपनी समस्याओं को दूसरों को कम ही बताता है।

स्वास्थ्य -

आर्द्रा नक्षत्र के अधिकार में गला, बाजुएँ और कंधे आते हैं। इस नक्षत्र के पीड़ित होने पर इन अंगों से संबंधित बीमारी होने की संभावना बनती है। इस नक्षत्र के कुछ जातकों को असाध्य रोग भी प्रभावित कर सकते हैं। लकवा होना, हृदय अथवा दांत के रोग, रक्त संबंधी बीमारी हो सकती है। स्त्रियों को मुख्य रुप से मासिक धर्म से संबंधी दिक्कतें परेशान कर सकती हैं। दोनों नेत्र व मस्तक का आगे और पीछे का भाग आर्द्रा के अवयव में आते हैं। इस नक्षत्र का संबंध वायु दोष विकार से भी होता है। पित्त दोष एवं कफ से संबंधी रोग प्रभावित करते हैं।

सकारात्मक पक्ष :-

हंसमुख, चतुर, चालाक, जिम्मेदार, समझदार, अनुसंधान में रुचि रखने वाले। 32 से 42 के बीच का वर्ष सबसे उत्तम।

नकारात्मक पक्ष :-

यदि बुध और रा‍हु की स्थिति खराब है तो जातक चंचल स्वभाव, अभिमानी, दुख पाने वाले, बुरे विचारों वाले व्यसनी भी होते हैं। राहु की स्थितिनुसार फल भी मिलता है। अस्थमा, सूखी खांसी जैसे रोग से इस नक्षत्र के जातक कभी-कभी परेशान करते हैं।

आर्द्रा नक्षत्र वेद मंत्र -

ॐ नमस्ते रूद्र मन्यवSउतोत इषवे नम: बाहुभ्यां मुतते नम: । ॐ रुद्राय नम: ।

उपाय -

आर्द्रा नक्षत्र के जातक के लिए भगवान शिव की आराधना करना शुभदायक होता है। भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र ‘‘ॐ नमः शिवाय’’ का जाप करना चाहिए।

इस नक्षत्र के जातकों को सोमवार का व्रत एवं जाप इत्यादि करना उत्तम फल प्रदान करने वाला होता है।

आर्द्रा नक्षत्र में चंद्रमा का गोचर होने पर भगवान शिव का भजन कीर्तन, नाम स्मरण करने से कार्यों में सफलता एवं समृद्धि की प्राप्ति होती है।

अन्य तथ्य -

  • नक्षत्र - आर्द्रा
  • राशि - मिथुन
  • वश्य - नर
  • योनी - श्वान
  • महावैर - मृग
  • राशि स्वामी - बुध
  • गण - मनुष्य
  • नाडी़ - आदि
  • तत्व - वायु
  • स्वभाव(संज्ञा) - तीक्ष्ण
  • नक्षत्र देवता - शिव
  • पंचशला वेध – पूर्वाषाढा़

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

astrologer

Dr. Arun Bansal

Exp:40 years

  • Love

  • Relationship

  • Family

  • Career

  • Business

  • Finance

TALK TO ASTROLOGER

Subscribe Now

SIGN UP TO NEWSLETTER
Receive regular updates, Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, & Astrology Articles curated just for you!

To receive regular updates with your Free Horoscope, Exclusive Coupon Codes, Astrology Articles, Festival Updates, and Promotional Sale offers curated just for you!

Download our Free Apps

astrology_app astrology_app

100% Secure Payment

100% Secure

100% Secure Payment (https)

High Quality Product

High Quality

100% Genuine Products & Services

Help / Support

Help/Support

Trust

Trust of 36 years

Trusted by million of users in past 36 years