Leo

कन्या राशि

विश्लेषण, प्रैक्टिकल, चिंतनशील, अवलोकन, विचारशील

शुभ रत्न: पन्ना
शुभ रंग: धुमैला
शुभ अंक : 7
शुभ ग्रह: बुध

Read in english    Eng(Transliterated)

भौतिक लक्षण कन्या राशि

मध्यम कद, काले बाल और आंख, त्वरित चुस्त चाल, वास्तविक आयु से कम के प्रतीत होते हैं, विकसित छाती, सीधी नाक, पतली और तीखी आवाज, धनुषाकार धनी भौंहें, गर्दन या जांधों पर निशान।

अन्य गुण :

बहुत बुद्धिमान, विश्लेषक, विलक्षण बुद्धि वाला अन्य की भावनाओं और त्रुटियों का निंदक। भाषाओं के ज्ञानी होते हैं और किसी प्रक्रिया को समझने में वैज्ञानिक दृष्टिकोण का उपयोग करते हैं। भावनाओं में बह जाते हैं। सोच समझ कर निर्णय लेते हैं। आत्मविश्वास की कमी, घबराये से रहते हैं। सुव्यवस्थित अपने विचार की बारीकियों को समझने में सक्षम होते हैं। स्वयं के स्वार्थ के प्रति जागरूक, मितव्ययी, कूटनीतिज्ञ, चतुर होते हैं। गृहसज्जा में निपुण, गणितज्ञ, परविद्या में रुचि होती है।

संभावित रोग कन्या राशि :

उदर रोगों से सावधान रहना चाहिए। पेचिश, टायफायड, पथरी आदि संभाव्य रोग है। विवाह में विलंब, वैवाहिक जीवन सुखी, संतान कम होती है। आय उत्तम, कार्य-व्यवसाय में सफलता, संपत्ति के मालिक होते हैं। नाममात्र की व्याधि होने पर भी डॉक्टर के पास चले जाते हैं। पृथ्वी तत्व की राशि होने के कारण बागवानी और खेती में रुचि लेते हैं। धन संचय में रुचि होती है।

20 से 25 वर्ष की आयु में सफल और साहसी होते हैं। 25 से 35 वर्ष की आयु में स्वयं का मकान होता है। 36 से 48 वर्ष कष्टप्रद होते हैं। 49 से 62 वर्ष सौभाग्यशाली होते हैं, अचानक लाभ होता है। 23 और 24वें वर्ष बहुत उत्तम रहते हैं जबकि 4, 16, 22, 36 और 55 वें वर्ष कष्टप्रद होते हैं। जीवन के अंतिम चरण में टी. बी. हो सकती है।

स्त्री राशि, मनोरंजन के स्थान, चारागाह, शुभ राशि, मध्यम कद शीर्षोदय राशि, पौधों वाली भूमि, कन्धों तथा भुजाओं का झुकना, सच्चा दयालुता, काले बाल, अच्छी मानसिक योग्यता, विधि अनुसार कार्य करने वाली तर्कशील होती है।

कन्या राशि के उपयुक्त व्यवसाय

लेखाकार, मनोचिकित्सक, क्लर्क, डॉक्टर, पायलट, संपादक और लेखक, स्टेशनरी की दुकान

कन्या राशि की मित्र राशि

मिथुन, वृषभ, तुला, मकर, कुंभ राशि

कन्या राशि का तत्व

पृथ्वी

कन्या राशि का संबद्ध चक्र

विशुद्ध


मासिक एवं वार्षिक राशिफल कन्या राशि

अगस्त

कन्या

यह मास आपके लिए मिश्रित फल युक्त रहेगा, मास के मध्य से कुछ सकारात्मक समय रहेगा। विरोधियों के षड्यंत्र से सावधान रहें। अपनी लाभकारी योजनाओं को जल्दबाजी में सार्वजनिक न करें। सामाजिक मान-सम्मान के प्रति सावधानी रखें।

स्वस्थ्य:

स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के कारण मानसिक रूप से भी कमजोरी हो सकती है। अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित रखने की कोशिश करें। शरीर को आराम दें।

धन-सम्पत्ति:

आर्थिक क्षेत्र में लंबे समय से रूके हुए कुछ कार्य बनने के योग बनेंगे। नवीन आय स्रोतों के प्रति रूझान बढ़ेगा। वाहन-खरीदने की योजना बनेगी।

कार्य व्यवसाय:

कार्यक्षेत्र में स्थानांतरण होने के योग बनेंगे। लोगों की कूटनीति से बचें। व्यवसाय करने वाले व्यक्तियों को पूर्ण योजनाबद्ध रूप से कार्य करने पर लाभ होगा। भावुकतापूर्वक निर्णय न लें।

प्रेम सम्बन्ध:

प्रेम संबंधों में सावधानी रख्ेां। आवेश में आकर कोई बड़ा निर्णय न लें।

दाम्पत्य जीवन :

छोटी-छोटी बातों को लेकर तनाव बढ़ सकता है। परस्पर एक दूसरे की भावनाओं का समादर करें।

उपाय:

बुधवार के दिन ऊँ भ्रां, भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः मंत्र की तीन माला जप करें। सात अनाज का दान करें।

स्वस्थ्य कष्ट:

7, 16, 25, 26

2015

कन्या राशि (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)

व्यवसाय:

इस साल आप व्यापार और नौकरी में कुछ विशेष करेंगे। व्यावसायिक रूप से समय अनुकूल है। गुरु की सप्तम भाव पर दृष्टि एवं शनि का तृतीय स्थान से गोचर किसी नये व्यापार की शुरुआत को इंगित करता है। आपके कार्यक्षेत्र में विस्तार होगा। नौकरी करने वाले के लिए पदोन्नति का योग है। इस अवधि में वरिष्ठ लोगों व शक्तिमान व्यक्तियों से स्नेह व सम्मान प्राप्त होगा।

धन-संपत्ति:

आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष बहुत अच्छा रहेगा। आप निरंतरता के कारण बचत करने में सफल रहेंगे। आमदनी के किसी नये स्रोत के मिलने के प्रबल योग बन रहे हैं। गुरु का लाभ भाव से गोचर करना बड़े भाई एवं मित्रांे से धन लाभ को दर्शाता है। यदि आपका पैसा कहीं रुका हुआ है तो कम प्रयास से प्राप्त हो सकता है। शनि की लग्न भाव में दृष्टि होने के कारण शारीरिक कष्ट, धन खर्च हो सकता है।

घर-परिवार-समाज:

पारिवारिक दृष्टिकोण से यह वर्ष सामान्य रहेगा। गुरु की सप्तम दृष्टि पंचम भाव पर होने से संतान के लिए यह वर्ष उत्तम एवं उन्नतिदायक रहेगा। परिवार में छोटे भाई-बहन का मांगलिक कार्य सम्पन्न होने का योग बन रहा है। पूरे परिवार में सुख शांति का वातावरण बना रहेगा। बड़े भाई-बहन से अच्छे संबंध होंगे और उनकी उन्नति होगी। यदि परिवार में कोई मुकद्दमा चल रहा होगा तो अनुकूलता प्राप्त होगी। शनि की षष्ठ भाव पर दृष्टि मामा के स्वास्थ्य को प्रतिकूल कर सकता है। उनके घुटनों में दर्द और साथ ही लीवर संबंधी परेशानियां बढ़ सकती हंै।

स्वास्थ्य:

स्वास्थ्य के लिए यह वर्ष सामान्य रहेगा। छोटी-मोटी बीमारियों को छोड़कर पूरा वर्ष आपके लिए अनुकूल है। यदि किसी पुरानी बीमारी से परेशान हैं तो इस वर्ष उससे छुटकारा मिल सकता है। गुरु का राशि परिवर्तन मानसिक एवं शारीरिक चिंता बढ़ा सकता है, खासकर पाचन पर विशेष ध्यान दें, नियमित रूप से संतुलित आहार लें। ज्यादा मसालेदार एवं वसा, घी युक्त भोजन को त्यागें।

करियर एवं प्रतियोगी परीक्षाएं:

अध्ययन के लिए यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए कड़ी से कड़ी मेहनत करने को तैयार रहेंगे। पंचम भाव में गुरु की दृष्टि से पढ़ने लिखने में मन लगेगा। साथ ही विज्ञान एवं तकनीकी के क्षेत्र में कुछ नये खोज करने की इच्छा बढ़ेगी। यदि किसी प्रतियोगी परीक्षा में भाग लेना चाह रहे हैं तो उसके लिए समय अनुकूल है, उसमें आपको सफलता मिलेगी। यदि आप कोई व्यावसायिक शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं या शिक्षा ग्रहण करना चाहते हैं तो उनके लिए समय अनुकूल है।

यात्रा-प्रवास-तबादला:

यात्रा के दृष्टिकोण से समय बहुत अच्छा नहीं है। तृतीयस्थ शनि की दृष्टि नवम एवं द्वादश भाव पर है जिससे विदेश यात्रा एवं तबादले का योग बन रहा है परंतु यह समय तबादले के लिए बहुत अनुकूल नहीं होगा। वर्ष का उत्तरार्ध तबादले हेतु हितकर रहेगा। 14.7.2015 के बाद यात्रा एवं तबादला अनुकूल होगा।

धर्म-कार्य-ग्रह शांति:

इस वर्ष धार्मिक कार्यों के प्रति आपका रूझान विशेष रूप से बढ़ेगा एवं नित्यकर्मों में पूजा पाठ तथा अनुष्ठान शामिल होंगे। संभव है कि इस वर्ष आप कोई विशेष पूजा अनुष्ठान संपन्न करें। गणेश जी की पूजा करें, हरे रंग की वस्तु का दान करें, अपने घर में तुलसी का पौधा लगाएं तथा निरंतर उसकी पूजा करते रहें। छोटे बच्चों को खिलौना दान करें एवं गाय की सेवा करें।

why do men have affairs why married men cheat marriage affairs
why do people cheat percentage of women who cheat click
* These characteristics of Zodiac signs are general and should not be accepted literally because for complete analysis of the personality and nature of a person the Moon sign, ascendant sign and ascendant lord should also be analysed for which horoscope reading is inevitably essential.To get your free personalized horoscope click here

CONSULTANCY

Our experts are ready to solve your problems

Get astrology predictions from the renowned astrologers of India. Objective of astrology is to give accurate predictions about future but its utility lies in the correct and effective solutions to our problems. Therefore, you can consult your friendly astrologers not only for knowing what the future has in store for you but also for getting most effective solutions for your problems pertaining to any area of life

Astrologer Arun Bansal

Arun Bansal

Experience:   30 Year

Detailed Consultancy

3100 Consult

Astrologer Yashkaran Sharma

Yashkaran Sharma

Experience:   18 Year

Detailed Consultancy

2100 Consult

Astrologer Abha Bansal

Abha Bansal

Experience:   15 Year

Detailed Consultancy

2100 Consult