Sorry, your browser does not support JavaScript!
Leo

कर्क राशि

जज्बात, राजनयिक, तीव्रता, आवेगी, चयनित

शुभ रत्न: मोती
शुभ रंग: श्वेत
शुभ अंक : 2
शुभ ग्रह: चंद्रमा
   
Share:

Read in english    Eng(Transliterated)

भौतिक लक्षण कर्क राशि

छोटा कद, बौनापन, शरीर का ऊपरी भाग बड़ा, बचपन में दुबला शरीर, सुदृढ पुरुषत्व, गोल चेहरा, चेहरे पर भय की छाया, पीला-फीका रंग, भूरे बाल, लहराई सी चाल, चौड़े दांत, चौड़े कंघे, सीधे नहीं चलते हैं।

अन्य गुण :

कल्पनाशक्ति उत्तम, नकल उतारने में महारत, कई अभिनेता और नकलची इस राशि के होते हैं। नये विचारों को शीघ्र अपना लेते हैं, नये वातावरण में शीष्र ढल जाते हैं। परिश्रम द्वारा धन संचय करते हैं। परिवर्तनशील प्रकृति के कार्य कर सकते हैं। व्यापार विशेषकर खान-पान के कार्य में निपुण होते हैं। अच्छे नेता, वक्ता, लेखक, सलाहकार होते है। क्रोधी और धैर्यहीन होते हैं। मूड बदलता रहता है। भरोसेमंद नहीं होते। बातूनी, आत्मनिर्भर, ईमानदार और न झुकने वाले होते हैं। न्यायप्रिय होते हैं। स्मरणशक्ति उत्तम रहती है। अच्छे मेहमानवाज होते हैं। विद्वानों के प्रिय होते हैं। परिवार और संतान में आसक्त रहते हैं। आदर्श जीवन साथी साबित होते हैं। प्रायः महिलाओं के चक्कर में रहते हैं। बेचैन और भटकते रहते हैं।

संभाव्य रोग कर्क राशि :

फेफड़ों का संक्रमण, खांसी, यक्ष्मा, अजीर्ण, अफरा, स्नायविक दुर्बलता, पीलिया आदि। 21 से 36 वर्ष की आयु का समय सौभाग्यशाली होता है। 37 से 52 वर्ष में आर्थिक कठिनाइयां और शत्रुओं से कष्ट होते हैं। 52 से 69 वर्ष का समय अति उत्तम रहता है। अशुभ वर्ष 5, 25, 40, 48 और 62 ।

जलीय खेत जहां धान पैदा होता है। कुएं, तालाब, नदी के किनारे जहां पौधों की अधिकता होती है, आदि स्थानों की स्थायी है। चलने में तेज, धन का शौकीन, शुभ राशि, मिलनसार प्रकृति, निःस्वार्थ, दूसरों के लिए बलिदान देने वाला जातक होता है। स्त्री राशि है।

mature sex stories click moms sex stories
the unfaithful husband yodotnet.com all women cheat
petmart pharmacy coupon code rite aid krazy coupon lady prescription drug cards
how many women cheat wifes who cheat wife who cheated
reasons why women cheat totspub.com unfaithful wife
levaquin 500mg albuterol (salbutamol) 4mg zovirax 200mg

कर्क राशि के उपयुक्त व्यवसाय

मेडिकल साइंस, होटल, बेकरी, पशुपालन, चाय, कॉफी

कर्क राशि की मित्र राशि

मेष, सिंह, धनु, मीन, वृश्चिक

कर्क राशि का तत्व

पानी

कर्क राशि का संबद्ध चक्र

अजन


मासिक एवं वार्षिक राशिफल कर्क राशि

जनवरी

कर्क

यह मास आपके लिए पूर्वार्द्ध अवधि में अधिक सकारात्मक रहेगा। रूके हुये कार्य बनने के संकेत प्राप्त होंगे, धैर्यपूर्वक अपने कार्य में लगे रहें। सामाजिक मान प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, उत्तरार्द्ध में परिस्थितियां अधिक अनुकूल नहीं रहेंगी।

स्वास्थ्य:

स्वास्थ्य संबंधी विशेष बड़ी परेशानी होने की संभावना कम रहेगी। फिर भी स्वास्थ्य के प्रति सजग रहेंगे।

धन-सम्पत्ति:

आर्थिक पूंजी निवेश करते समय अपनी निजी परिस्थितियांे को ध्यान में रखकर पूंजी निवेश करें। नवीन संपत्ति खरीदने की दिशा में कार्यरत रहेंगे। इस संबंध में सफलता के संकेत प्राप्त होंगे।

कार्य व्यवसाय:

कार्य क्षेत्र में परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। अपने सहकर्मियों के साथ तालमेल युक्त व्यवहार बनाए रखें। अनावश्यक तर्क-वितर्क से बचें। व्यवसाय करने वाले लोगों को उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ेगा। धैर्यपूर्वक अपने कार्य में लगे रहें।

प्रेम सम्बन्ध:

प्रेम संबंध बिगड़ सकते हैं। अपने व्यवहार को सकारात्मक रखें।

दाम्पत्य जीवन :

पति-पत्नी के मध्य परस्पर तालमेल बना रहेगा, जिससे दांपत्य सुख में वृद्धि होगी।

उपाय:

शनिवार के दिन ऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः राहवे नमः मंत्र का 108 बार जप करें।

स्वस्थ्य कष्ट:

11, 12, 20, 21, 31

2017

कर्क राशि

इस वर्ष शनि धनु राशि में 26 जनवरी को प्रवेश करेंगे। वर्ष के पूर्वार्द्ध में राहु सिंह राशि में और गुरु कन्या राशि में रहेंगे। 09 सितंबर को राहु कर्क में और 12 सितंबर को गुरु तुला राशि में प्रवेश करेंगे। मंगल इस वर्ष सरल गति से गोचर करेंगे। 21 मार्च से 25 मार्च तक शुक्र अस्त रहेंगे और 14 दिसंबर के बाद फिर से अस्त हो जायेंगे।

आपके लिए शनि 26 जनवरी को छठे भाव में प्रवेश करेंगे। वर्ष के पूर्वार्द्ध में राहु द्वितीय भाव में और गुरु तृतीय़ भाव में रहेंगे। 09 सितंबर को राहु लग्न में और 12 सितंबर को गुरु चतुर्थ भाव में प्रवेश करेंगे।

कार्य व्यवसाय

यह वर्ष व्यापार के लिए शुभ फलदायक रहेगा। सप्तम भाव पर गुरु ग्रह की दृष्टि व्यापार के लिए अच्छे योग बना रही है। यदि आप साझेदारी में व्यवसाय कर रहे हैं तो इच्छित लाभ की प्राप्ति होगी। आपका मित्र आप को पूरा सहयोग प्रदान करेगा। आमदनी के नये स्रोत मिलने की उम्मीद है। अनुभवी व्यापारिक एवं वरिष्ठ लोगों का सहयोग मिलने से आप अपने व्यापार में और अधिक सुधार करेंगे।

12 सितंबर के बाद दशम स्थान पर गुरू ग्रह की दृष्टि होगी जिसके प्रभाव से नौकरी करने वालों का पदोन्नति होने की संभावना बन रही है और कार्यस्थल पर मान सम्मान भी बढ़ेगा।

धन संपत्ति

आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष बहुत सुदृढ़ नहीं रहेगा। द्वितीय स्थान का राहु आर्थिक क्षेत्र में उतार चढ़ाव की स्थिति उत्पन्न कर सकते हैं। इसलिए आप को आर्थिक मामलों में विशेष सावधानी से काम लेना चाहिए। कुछ खर्चे तो अचानक आ सकते हैं और आपकी आर्थिक स्थिति को बिगाड़ सकते हैं। अतः पहले से इस मामले को जानकर आप अभी से अतिरिक्त धन संचय कर सकते हैं। शनि राहु की दृष्टि अष्टम स्थान पर होने से पैतृक संपत्ति प्राप्त होने में परेशानी उत्पन्न करेंगे।

12 सितम्बर के बाद अष्टम स्थान पर गुरु एवं शनि की संयुक्त दृष्टि प्रभाव से पैतृक संपत्ति प्राप्त होने के प्रबल योग बने हुए हंै। कोई नया काम शुरू करने में धन खर्च होगा या भूमि, भवन, वाहन आदि का सुख भी प्राप्त हो सकता है।

परिवार एवं समाज

यह वर्ष पारिवारिक दृष्टि से बहुत ज्यादा अनुकूल नहीं रहेगा। द्वितीय स्थान का राहु पारिवारिक माहौल को खराब कर रहे हैं। परिवार में एक दूसरे के साथ मानसिक मतभेद होते रहेंगे। किसी कारण आपको परिजनों से दूर जाना पड़ सकता है। परिवार में कुछ लोगों का बर्ताव ठीक नहीं रहेगा। ऐसे में विपरीत परिस्थितियों से निपटने के लिए आपको अपने अंदर प्रतिरोधात्मक शक्ति विकसित करनी पड़ेगी। अष्टम स्थान पर शनि राहु की दृष्टि के प्रभाव से ससुराल पक्ष के लोगों के साथ संबंध खराब होंगे।

12 सितम्बर के बाद गुरू ग्रह का गोचर चतुर्थ स्थान में होगा। उस समय आपके परिवारिक माहौल बहुत बढिया हो जाएगा। आपके माता जी का पूर्ण सहयोग आपको प्राप्त होगा। और धीरे धीरे समय अनुकूल हो जाएगा।

संतान

संतान के दृष्टि कोण से यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। आपके बच्चे अपने परिश्रम के बल पर आगे बढे़ंगे। वो अपने बौद्धिक बल पर अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे। आप सिर्फ अपने बच्चो के मनोबल को बढातेे रहेंगेे तो वो अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेेंगे। यदि आपने उनका मनोबल तोड़ा तो वो अपने लक्ष्य से भटक सकते हंै। अतः आप उनकी सकारात्मक सोच मंे वृद्धि करते रहंे।

इस वर्ष उनके कार्य व्यवसाय आदि में अचानक उन्नति व यश प्राप्ति के प्रबल योग बने हुए हैं। उनकी आमदनी में बढ़ोत्तरी होगी।

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य की दृष्टिकोण से वर्ष का पूर्वार्द्ध मिलाजुला परिणाम देने वाला होगा। षष्ठ स्थान में स्थित शनि स्वास्थ्य में सुधार ला सकता है। यदि आप पिछले दिनों से किसी बीमारी की वजह से परेशान हैं तो उससे छुटकारा मिल सकता है। किसी आर्थिक मुद्दे को लेकर या किसी विरोधी के कारण मानसिक तनाव भी रहेगा। वाहनादि चलाते समय अपना ध्यान इधर-उधर मत भटकाएं।

09 सितम्बर के बाद राहु ग्रह का गोचर लग्न स्थान में होगा उस समय आप का स्वास्थ्य थोडा प्रभावित हो सकता है। राहु के जलीय राशि में जाने से कफ संबंधित परेशानी हो सकती है। उस समय आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

करियर एवं प्रतियोगी परीक्षा

वर्ष के पूर्वार्द्ध मे षष्ठस्थ शनि पर राहु की दृष्टि प्रतियोगिता परीक्षार्थियों के लिए समय बहुत बढ़िया है। अतः उनको लगातार अथक परिश्रम करके अवसर का लाभ उठाना चाहिए।

विद्यार्थियों के लिए यह वर्ष सामान्यतः अनुकूल रहेगा। नवम स्थान पर गुरू की दृष्टि उच्च शिक्षा प्राप्ति के लिए उत्तम है।

यात्रा

वर्ष का पूर्वार्द्ध यात्रा की दृष्टि से अनुकूल है। नवम स्थान पर गुरु की दृष्टि के प्रभाव से आप धार्मिक तीर्थ यात्रा करेंगे। व्यवसायिक व्यक्तियांे का व्यवसाय से संबंधित यात्रा होगी, उस यात्रा से आप को अच्छा लाभ प्राप्त होगा। इस वर्ष निकट यात्राएं बहुतायत में होंगी।

12 सितम्बर के पश्चात् नौकरी करने वालों की पदोन्नति हो सकती है। द्वादश स्थान पर शनि एवं गुरू की दृष्टि प्रभाव से आप खूब विदेश यात्रा करेंगे। इस यात्रा से आपको व्यापार में भी सफलता मिलेगा।

धर्म कार्य एवं ग्रह शांति

वर्ष के पूर्वार्द्ध में गुरू ग्रह की सप्तम दृष्टि नवम भाव पर पड रही है जिसके कारण आपका मन धार्मिक कार्यो की ओर आकृष्ट होगा। आप अपने गुरूजनों का सम्मान करेंगे। उनके दिये गये उपदेशांे का पालन करेंगे। समय समय पर आप गरीबों की सहायता करेंगे। इस समय आप कोई विशेष धार्मिक अनुष्ठान करेंगे। जैसे- अखण्ड रामायण पाठ, माता की चैकी, जागरण इत्यादि। आप समाज में ख्याति प्राप्त करेंगे।

मंगलवार के दिन हनुमान जी को लड्डू का भोग लगाकर गरीब लोगों को बांट दें।

दुर्गा जी का पूजन करें।

गौ सेवा करें या गौशाला में चारा दान करें।

* These characteristics of Zodiac signs are general and should not be accepted literally because for complete analysis of the personality and nature of a person the Moon sign, ascendant sign and ascendant lord should also be analysed for which horoscope reading is inevitably essential.To get your free personalized horoscope click here

प्रमुख कुंडली रिपोर्ट

सबसे अधिक बिकने वाली कुंडली रिपोर्ट प्राप्त करें

वैदिक ज्योतिष पर आधारित विभिन्न वैदिक कुंडली मॉडल उपलब्ध है । उपयोगकर्ता अपने पसंद की कोई भी कुंडली बना सकते हैं।

भृगुपत्रिका

पृष्ठ :  190-191
फ्री नमूना : हिन्दी | अंग्रेजी

कुंडली दर्पण

पृष्ठ :  90-91
फ्री नमूना : हिन्दी | अंग्रेजी

कुंडली फल

पृष्ठ :  40-45
फ्री नमूना : हिन्दी | अंग्रेजी

मैचिंग-३

पृष्ठ :  40-42
फ्री नमूना : हिन्दी | अंग्रेजी

माई कुंडली

पृष्ठ :  21-24
फ्री नमूना : हिन्दी | अंग्रेजी

कंसल्टेंसी

हमारे विशेषज्ञ अपकी समस्याओं को हल करने के लिए तैयार कर रहे हैं

भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से भविष्यवाणियां जानिए। ज्योतिष का उद्देश्य भविष्य के बारे में सटीक भविष्यवाणी देने के लिए है, लेकिन इसकी उपयोगिता हमारी समस्याओं को सही और प्रभावी समाधान में निहित है। इसलिए आप अपने मित्र ज्योतिषी से केवल अपना भविष्य जानने के लिए नहीं बल्कि अपनी समश्याओं का प्रभावी समाधान प्राप्त करने के लिए परामर्श करें |

Astrologer Arun Bansal

अरुण बंसल

अनुभव:   30 वर्ष

विस्तृत परामर्श

$ 59.99 Consult

Astrologer Yashkaran Sharma

यशकरन शर्मा

अनुभव:   18 वर्ष

विस्तृत परामर्श

$ 39.99 Consult

Astrologer Abha Bansal

आभा बंसल

अनुभव:   15 वर्ष

विस्तृत परामर्श

$ 39.99 Consult

free horoscope button