हिंदी में पढ़ें

Worship of Shivalinga in Shravana month brings all round prosperity -by Rekha Kalpdev

Worship Parad Shivalinga and fulfil all your desires


Shravan Month will start from 10th July 2017 on Monday and will remain till 7th August 2017 Monday. This year Shravan month will have total 5 Mondays which have been considered of special importance in religious scriptures. Since it is starting on Monday and even ending on Monday makes this Shravana even more auspicious. Such combination takes place once in several years.

We know that Shravana month is the most favourite month of Lord Shiva. In order to appease Lord Shiva one should worship Parad Shivalinga and Shiva family made in Parad in Shravan month. For the worship, anyone should get up early in the morning and after taking bath etc. worship Parad Shivalinga with Dhoop, Deep and flower in an isolated place in the house and offer se same to Shivalinga. After doing this, stay at that place for a while and recite the Mantra "Om Namah Shivay" in your mind. It will give you mental peace and all your wishes will be fulfilled.

  • Worship of Parad Shivalinga will keep you free from any disease, will open up the avenue of development and profit and will give you the result of your labour.
  • It will enable to accomplish your unresolved work. It has been considered as the direct form of lord Shiva.
  • Keeping Parad Shivalinga in the house corrects all the Vastu defects.
  • If it is established in the house then any Tantra does not harm.
  • Drinking Shivlinga water decreases the quantum of sickness.


Worship of crystal Shivalinga in Shravana Month will destroy your poverty


Holy worship of Shivalinga and its even visualization gives very pious result. Worship and establishment of Parad and Crystal Shivalinga is considered more auspicious than other metals or materials for all the people. Crystal is considered as the alternative gem of diamond. In order to get the desired blessings of Lord Shiva daily worship of crystal Shivalinga and Shiva family is considered highly auspicious. If anyone worships crystal Shivalinga, his family has never to face penury and casual death. Apart from it-

  • Worship or even visualization of crystal Shivalinga destroys the ill effects of many bad deeds of a person.
  • Its worship fulfils all the desires and gives name, fame and recognition.
  • Only touching crystal Shivalinga enables the divine power to enter into the body of human being and makes the person free from all types of diseases.
  • Abhisheka done on crystal Shivalinga gives thousand times more auspicious result than other Shivalinga.
  • Crystal Shivalinga is very rare. Its worship certainly gives multiple benefits.

श्रावण मास में शिवलिंग पूजा से होगा कल्याण - रेखा कल्पदेव

पारद शिवलिंग पूजन करें, होगी हर मनोकामना पूरी-


आगामी 10 जुलाई, 2017, सोमवार से शुरु होकर 7 अगस्त 2017, सोमवार तक श्रावण मास रहेगा। इस वर्ष श्रावण मास में कुल 5 सोमवार होंगे, जिनका शास्त्रों में विशेष महत्व बताया गया है। सोमवार से शुरु होकर सोमवार तक रहने के कारण इसका महत्व ओर अधिक बढ़ गया है। इस प्रकार का खास योग कई वर्षों में एक बार बनता है। हम जानते है कि श्रावण मास भगवान शिव का सबसे अधिक प्रिय माह है। शिवजी को प्रसन्न करने के लिए सावन माह में पारद शिवलिंग और पारद निर्मित शिव परिवार का विशेष पूजन करना चाहिए। इसके लिए सावन में रोज सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निपट कर, घर के एकांत स्थान में पारद शिवलिंग का दूप, दीप और फूल से पूजन करें, पूजन के साथ ही शिवलिंग को काले तिल अर्पण करें। इसके बाद उसी स्थान पर कुछ देर बैठकर मन ही मन में 'ऊं नम: शिवाय' मंत्र का जाप करें। इससे मन को शांति मिलेगी और आपकी इच्छित मनोकामना पूरी होगी।

  • पारद शिवलिंग पूजन आपको रोगमुक्त रखेगा, उन्नति और लाभ के मार्ग खोलेगा और मेहनत के अनुरुप फल देगा।
  • यह आपके बिगड़े कार्यों को बनाएगा। इसे साक्षात भगवान शिव का रुप माना गया है।
  • पारद शिवलिंग को घर में रखने से सभी प्रकार के वास्तु दोष दूर हो जाते हैं।
  • इसे स्थापित करने पर घर में किसी भी प्रकार का तंत्र कार्य नहीं करता।
  • रोगी को शिवलिंग का जल पिलाने से रोग में कमी होती है।


श्रावण मास में स्फटिक शिवलिंग का पूजन करें- दरिद्रता का होगा नाश


श्रावण मास में शिवलिंग के श्रद्धापूर्वक दर्शन मात्र से पुण्यफल प्राप्त होता है। सभी व्यक्तियों के लिए अन्य धातु के शिवलिंग की अपेक्षा पारद अथवा स्फटिक शिवलिंग की पूजा एवं स्थापना अधिक सिद्धिदायक होती है। स्फटिक हीरे का उपरत्न है। भगवान शिव से मनचाहा वरदान प्राप्त करने के लिए स्फटिक शिवलिंग और शिव परिवार की स्थापना कर नियमित पूजन करना शुभ रहता हैं। स्फटिक शिवलिंग का पूजन करने से परिवार में कभी भी दरिद्रता नहीं आती न ही अकाल मृत्यु का भय रहता हैं। इसके अतिरिक्त-

  • स्फटिक शिवलिंग की उपासना या दर्शन मात्र से व्यक्ति के अनेक पापों का नाश होता हैं।
  • इसकी पूजा से व्यक्ति को यश, मान, पद, प्रतिष्ठा, पुत्र आदि में पूर्णता प्राप्त होती हैं।
  • स्फटिक शिवलिंग का स्पर्श करने मात्र से इसकी दैवीय शक्ति मानव शरीर में प्रवेश कर जाती हैं। तथा अनेक रोगों से मुक्त करता हैं।

Click Here to read similar articles on futuresamachar.com

Make Free Online Horoscope

Best astrology software leostar

Baglamukhi chowki

Astrology software for android mobile/tab